मेखला रिसोर्ट हत्या कांड का इनामी आरोपी गिरफ्तार एटीएम सीसीटीवी कैमरा ने उगले आरोपी के राज - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

मेखला रिसोर्ट हत्या कांड का इनामी आरोपी गिरफ्तार एटीएम सीसीटीवी कैमरा ने उगले आरोपी के राज

 मेखला रिसोर्ट हत्या कांड का इनामी आरोपी गिरफ्तार
एटीएम सीसीटीवी कैमरा ने उगले आरोपी के राज



जबलपुर के तिलवारा थानांतर्गत मेखला रिसोर्ट में बीते दिनों हुई एक युवती की नृशंस हत्या की गुत्थी जबलपुर पुलिस ने सुलझा ली है। आपको बतादें की बीते 8 नवंबर को मेखला रिसोर्ट में एक युवती की उसी के प्रेमी द्वारा ब्लेड मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद आरोपी प्रेमी ने बाकायदा मृतिका के सोशल मीडिया एकाउंट से वीडियो पोस्ट भी वायरल की थी। जिसमें बेबफाई की दुहाई देते हुए आरोपी ने पहले ही हत्या को करना स्वीकार कर लिया था। लेकिन पुलिस का पहरा सख्त होते ही आरोपी ने सारी पोस्ट डिलीट कर दी और यहां वहां भागने लगा।

 विवेचना के दौरान पाया गया कि मेखला रिसार्ट के चैक इन-चैक आउट रजिस्टर पर दर्ज एवं दी गयी आधार आई डी के अनुसार अभिजीत पाटीदार के व्दारा मृतिका का नाम पता छुपा कर फेक आई डी देकर मेखला रिसार्ट होटल मे रूका और उसकी हत्या कर फरार हो गया। आरोपी के विरूद्ध 424/22 धारा 302,201 भादवि का अपराध ंपजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया था।


जिसे समझा पाटीदार वह निकाला हेमंत भदाणे


आरोपी अभिजीत पाटीदार का जबलपुर कोतवाली में भी पूर्व में धारा 420 भा.द.वि. का पंजीबध्द होने से और आरोपी का पता ठिकाना गलत होने से फिंगर प्रिंट निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे के द्वारा घटना स्थल पर मिले चंास फिंगर प्रिंट का मिलान नेफिस सिस्टम में निवेशित करने पर महाराष्ट्र नासिक के अपराध क्र. 122/14 धारा 394,279,337,338,427 भादवि के आरोपी हेमंत भदाणे पिता राजेन्द्र भदाणे उम्र-29 वर्ष निवासी राधाकण्ण नगर नासिक महाराष्ट्र के रूप में हुई  जो कि आदतन मोटर सायकिल चोरी करने का आरोपी होना पाया गया जिसके  विरूद्ध महाराष्ट्र में कुल 37 अपराध पंजीबद्ध होना पाये गये।


रोजाना मृतिका के एटीएम से आरोपी निकलता था पैसे


इधर पुलिस विभाग ने पूरी मुस्तैदी के साथ विभिन्न टीमों का गठन कर नागपुर गुजरात राजस्थान और बिहार के सभी जगहों पर लगातार दबिश देना शुरू किया वहीं आरोपी भी पुलिस से भागता हुआ लगातार अपने ठिकाने बदल रहा था। इस दौरान आरोपी ने 10 दिनो में लगभग 4000 कि.मी. एक राज्य से दुसरे राज्य भाग कर प्रतिदिन मृतिका के ए.टी.एम से 20 हजार रूपये निकालने का सिलसिला जारी रखा।


अजमेर के एटीएम सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ आरोपी।


आरोपी का सायबर सेल के माध्यम से लगातार पीछा किया जा रहा था । जो दिनांक 17/11/2022 को सुबह 08/00 बजे आरोपी के द्वारा अजमेर से ए.टी.एम से 20 हजार रूपये निकाले जाने की जानकारी मिलने पर  पुलिस अधीक्षक जबलपुर  सिद्धार्थ बहुगुणा  के द्वारा अजमेर के पुलिस अधीक्षक श्री चूनाराम  तथा नगर पुलिस अधीक्षक बरगी सुश्री प्रियंका शुक्ला  द्वारा 2019 के राजस्थान कैडर के आई.पी.एस. अधिकारी सुमीत मेहरडा से तत्काल सर्म्पक कर आरोपी के संबंध में जानकारी दी गई, जिस पर पुलिस अधीक्षक अजमेर द्वारा एस.डी.ओ.पी. विजय सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर जिस ए.टी.एम से आरोपी के द्वारा पैसा निकाला गया था सीसीटीवी की फुटेज चैक करते हुये आरोपी की जानकारी ली गई, आऱोपी के बस में बैठकर अजमेर से बाहर जाने की जानकारी लगने पर थाना सवरूपागंज में सघन वाहन चौकिंग लगाई गई  । सवरूपागंज थाना प्रभारी हरिसिंह राजपूत के द्वारा आरोपी को दिनांक 18/11/2022 को हिरासत में लिया गया।


गिरफ्तार हुए आरोपी ने उगला हत्या का राज


आऱोपी ने पूछताछ पर अपना नाम हेमंत भदाणे पिता राजेन्द्र भदाणे उम्र-29 वर्ष निवासी राधाकण्ण नगर नासिक महाराष्ट्र बताते हुये बताया गया कि वह  मृतिका शिल्पा से प्रेम करता था, शिल्पा के व्हाट्सएप में अन्य पुरूष के साथ फोटो देखने पर चरित्र पर शंका होने पर उसे समझाने का प्रयास किया, क्योकिं वह मृतिका शिल्पा से शादी करना चाहता था परंतु शिल्पा से जब भी वह फोन पर बात करना चाहता था, शिल्पा का मोबाईल हमेशा व्यस्त होने से संदेह ओैर गहराता गया, जिस कारण योजनाबध तरीके से शिल्पा की ब्लेड से हमला कर हत्या कर दी और हत्या करने के बाद मृतिका का मोबाईल, ए.टी.एम कार्ड, चैन, कान की बाली लेकर भाग गया।

आऱोपी  हेमंत भदाणे के कब्जे से मृतिका का मोबाईल, ए.टी.एम कार्ड, चैन, कान की बाली, नगदी 1 लाख 52 हजार 450 रूपये जो एटीएम से निकाले थे, जप्त की गयी है ।


बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अधिकारियों का रहा महत्वपूर्ण सहयोग- 


बैंक आफ महाराष्ट्रा जबलपुर के जोनल हैड श्री ओमकार कुमार, एवं सीनियर मैनेजर श्री अभिषेक जैसवाल  से चर्चा करते हुये मृतिका के खाते से एटीएम के माध्यम से आरोपी के द्वारा निकाले जा रहे रूपयों के सम्बंध में जानकारी ली गयी जिन्होंने प्राथमिकता के आधार पर चाही गयी सभी जानकारियॉ वैधानिक रूप से उपलब्ध करायी।


इनकी रही उल्लेखनीय भूमिका- 


आऱोपी को गिरफ्तार करने में फिंगर प्रिंट निरीक्षक श्री अखिलेश चौकसे ,सायबर सेल में कार्यरत आरक्षक अमित पटेल, सौरभ, अरविंद, उनि अभिषेक कैथवास आरक्षक हरिसिंह क्राईम ब्रांच के सउनि धनंजय सिंह, सउनि म्रदुलेश शर्मा, प्र.आर.शेषनारायण, आरक्षक मुकुल गौतम, मुकेश परिहार एवं सायबर सेल के आर.नवनीत चक्रवर्ती गुजरात की टीम के उप-निरी अनिल गौर , प्र.आर. सुग्रीव तिवारी , आरक्ष अरविन्द, बालाराम राजस्थान, चण्डीगढ, पंजाब की टीम के उप-निरी रजनीश मिश्रा ,आरक्षक त्रिलोक ,हरिसिंह, अभिदीप भट्टाचार्य,  आनंद यादव की सराहनीय भूमिका रही।

पेज