बगैर न्यूनतम सुविधा के रादुविवि में कृषि शिक्षण क्यों..? आईसीएआर ने खुद दिए थे न्यूनतम आवश्यकताओं के निर्देश - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

बगैर न्यूनतम सुविधा के रादुविवि में कृषि शिक्षण क्यों..? आईसीएआर ने खुद दिए थे न्यूनतम आवश्यकताओं के निर्देश



बगैर न्यूनतम सुविधा के रादुविवि में कृषि शिक्षण क्यों..?

आईसीएआर ने खुद दिए थे न्यूनतम आवश्यकताओं के निर्देश



जबलपुर । जो संस्थाएं कृषि शिक्षण कर रहे हैं उन्हें इंडियन कौंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च (आईसीएआर) द्वारा निर्धारित न्यूनतम आवश्यकताएं स्थापित कर शैक्षणिक रेग्युलेशन का पालन करना होगा, जिससे संपूर्ण देश में कृषि शिक्षण में एकरुपता हो सकेगी, यह स्पष्ट निर्देश आईसीएआर ने सार्वजनिक नोटिस द्वारा ५ सितंबर २०१७ को जारी किए है।सुप्रीम कोर्ट तथा स्वयं मप्र हाईकोर्ट ने भी विभिन्न याचिकाओं में कृषि शिक्षण करने हेतु आईसीएआर द्वारा निर्धारित न्यूनतम आवश्यकताओं को स्थापित करने के निर्देश जारी किए है। यह दस्तावेज आज याचिकाकर्ता डॉ.पीजी नाजपांडे ने मप्र हाईकोर्ट में उनके द्वारा पूर्व में दायर याचिका में प्रस्तुत किए हैं तथा बताया कि जबलपुर की रादुविवि तथा सांईखेड़ा (जिला छिंदवाड़ा) के निजी संस्थान में स्टॉफ, लैब तथा फाम्र्स आदि की न्यूनतम आवश्यक सुविधाएं बगैर ही कृषि शिक्षण हो रहा है, जिसे आईसीएआर ने अभी तक अनुमति नहीं दी है।

उल्लेखनीय है कि इसी शिकायत से दायर याचिका पर मप्र हाईकोर्ट में ७ जुलाई को सुनवाई हुई थी, जिसमें याचिकाकर्ता की ओर से पैरवी कर रहे एड.सुरेन्द्र वर्मा ने समय प्रदान करने की प्रार्थना की थी। इस पर मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमथ तथा जस्टिस विशाल मिश्रा ने ४ सप्ताह का समय दिया था। आज याचिकाकर्ताओं की ओर से दस्तावेज प्रस्तुत कर एड.सुरेंद्र वर्मा ने दलील दी कि न्याय प्रक्रिया हेतु इन दस्तावेजों को रिकॉर्ड में लिया जाना जरुरी है।

पेज