केन्द्रीय क्रीड़ा परिषद ने मनाया राष्ट्रीय खेल दिवस - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

केन्द्रीय क्रीड़ा परिषद ने मनाया राष्ट्रीय खेल दिवस



केन्द्रीय क्रीड़ा परिषद ने मनाया राष्ट्रीय खेल दिवस

 



जबलपुर । एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड की केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के तत्वावधान में आज रामपुर स्थित मशाल परिसर में हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्मदिवस को खेल दिवस के रूप में मनाया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड के के मुख्य महाप्रबंधक मानव संसाधन व प्रशासन और केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के महासचिव राजीव गुप्ता थे। इस अवसर पर केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के सचिव खेल ए. के. अलंग, सचिव कार्यालय आलोक श्रीवास्तव, सचिव वित्त देवेन्द्र चढ़ोकार और विभिन्न खेल प्रभारियों एवं खिला़डियों ने हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के चित्र पर माल्यार्पण किया। हॉकी प्रभारी शकील शहजादा ने उपस्थित खिला़डियों को शपथ दिलाई कि वे हॉकी के विकास व उत्थान के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे और खिलाड़ी व प्रशिक्षक के रूप में हॉकी को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित करने का प्रयास करेंगे। इस अवसर पर केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के हॉकी प्रभारी एन. बी. क्षत्री, बी. एस. त्रिपाठी, संजय सिंह, कुलदीप बहादुर, पवन पटेल, संजय केने, कैलाश कहार, काजी रियाज, मुईद कादरी, विश्वनाथ धारगे, राकेश यादव, राकेश स्वामी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने मेजर ध्यानचंद के चित्र पर माल्यार्पण कर अपनी श्रद्धांजलि दी।

हॉकी के जादूगर की अंतिम जबलपुर यात्रा विद्युत मण्डल के आमंत्रण पर हुई थी.....

केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के प्रभारी एन. बी. क्षत्री ने हॉकी के जादूगर मेजर और जबलपुर के अंतरंग संबंध पर उपस्थि?तजन को जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि ध्यानचंद की अंतिम जबलपुर यात्रा वर्ष १९७५ में हुई थी। वे मध्यप्रदेश विद्युत मण्डल के तत्कालीन अध्यक्ष डब्ल्यू. वी. ओक के आमंत्रण पर अखिल भारतीय विद्युत क्रीड़ा नियंत्रण मण्डल हॉकी प्रतियोगिता का उद्घाटन करने विशेष रूप से झांसी से आए थे। इस प्रतियोगिता का उद्घाटन ३१ जनवरी १९७५ को हुआ था। रेलवे स्टेड?ियम में पूरी प्रतियोगिता खेली गई। उद्घाटन के मौके पर ध्यानचंद का शानदार स्वागत किया गया। २ फरवरी १९७५ को मध्यप्रदेश विद्युत मण्डल में उनका विदाई समारोह आयोजित किया गया। हॉकी के विख्यात जादूगर को जबलपुरवासियों ने अंतिम बार देखा।

समापन अवसर पर केन्द्रीय क्रीड़ा एवं कला परिषद के महासचिव श्री राजीव गुप्ता ने परिषद की विभिन्न प्रतियोगिता के विजेता बच्चों को पुरस्कार वितरित किए। कार्यक्रम का संचालन व आभार प्रदर्शन परिषद के सचिव खेल ए. के. अलंग ने किया।

पेज