जबलपुर में जगत बहादुर का जलवा..जामदार से जंग जीत कर लहराया परचम - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

It is our endeavor that we can reach you every breaking news current affairs related to the world political news, government schemes, sports news, local news, Taza khabar, hindi news, job search news, Fitness News, Astrology News, Entertainment News, regional news, national news, international news, specialty news, wide news, sensational news, important news, stock market news etc. can reach you first.

Breaking

जबलपुर में जगत बहादुर का जलवा..जामदार से जंग जीत कर लहराया परचम

जबलपुर में जगत बहादुर का जलवा..जामदार से जंग जीत कर लहराया परचम

Congress candidate won the post of mayor in urban body elections Jabalpur



जबलपुर लंबे अरसे बाद होने वाले नगर निगम चुनाव में जबलपुर नगर निगम की बागडोर महापौर के रूप में कांग्रेस के युवा प्रत्याशी जगत बहादुर सिंह अन्नू संभालेंगे उन्होंने अपने निकटतम भाजपा प्रत्याशी डॉ जितेंद्र जामदार को लगभग 44 हजार वोटों से पराजित कर दिया ।अन्नु की जीत को लेकर कांग्रेस के खेमे में जबरदस्त उत्साह का वातावरण बना हुआ है तमाम नेता एक दूसरे को बधाइयां दे रहे हैं उल्लेखनीय है कि जगत बहादुर सिंह अन्नू राज्य सभा सांसद विवेक तंखा की पसंद के उम्मीदवार माने जाते थे और उनको शहर के तमाम कांग्रेसी विधायकों और कार्यकर्ताओं का समर्थन प्राप्त था।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर लगभग ढाई वर्षो बाद नगरीय निकायों के चुनाव हो रहे थे यह माना जा रहा था कि इस बार का यह चुनाव काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अगले वर्ष विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं और ये चुनाव आगे आने वाले विधानसभा चुनाव के सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा था कि जनता का रुझान किस तरफ जा रहा है शायद यही कारण था कि दोनों ही राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत इस नगरीय निकायों के चुनाव में झोंक दी थी। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस की ओर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ और राज्य सभा सांसद विवेक तंखा ने चुनाव प्रचार की कमान अपने हाथों में ले रखी थी प्रदेश के मुख्यमंत्री इस दौरान तीन बार जबलपुर आए उन्होंने आमसभा भी की और जितेंद्र जामदार को एक बेहतर प्रत्याशी के रूप में परिभाषित करने का प्रयास भी किया लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि पिछले 2 वर्षों तक नगर निगम में नौकरशाही का जो राज रहा और आम जनता की पूछ नहीं रही उससे भी आम मतदाता में भारतीय जनता पार्टी के प्रति आक्रोश की भावना थी इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि भारतीय जनता पार्टी ने अपने संकल्प पत्र में स्थानीय मुद्दों के अलावा राष्ट्रीय मुद्दों को भी शामिल किया था जबकि नगरीय निकाय चुनाव स्थानीय मुद्दों पर लड़े जाते हैं वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस ने अपना जो संकल्प तैयार किया था उसमें स्थानीय मुद्दों को सबसे ज्यादा महत्व दिया था।

भारतीय जनता पार्टी के बारे में विश्लेषकों की राय है कि वह अति आत्मविश्वास में थी और ऐसा माना भी जाता है कि नगरीय निकायों में और उपचुनाव में उस पार्टी को जीत मिलती है जिसकी सत्ता होती है क्योंकि आम मतदाता यह मानता है कि यदि विपक्षी पार्टी को जिताया तो हो सकता है कि शहर का विकास ना हो लेकिन इस मिथक को भी इस चुनाव ने तोड़ दिया है पिछले चुनाव में 16 नगर निगमों में भारतीय जनता पार्टी के महापौर थे लेकिन वर्तमान नगरीय निकायों के चुनाव में जो रुझान सामने आ रहे हैं उससे भारतीय जनता पार्टी के खेमे में निश्चित रूप से विचार मंथन शुरू हो गया है कि ऐसी क्या स्थिति बनी कि भारतीय जनता पार्टी के हाथ से अनेक नगर निगम निकल गए।
आम मतदाता का यह कहना है कि स्मार्ट सिटी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक महत्वाकांक्षी योजना है और जिसके लिए चुने गए शहरों को अरबों रुपए का आवंटन भी किया गया था लेकिन उन रुपयों की जिस तरह से बंदरबांट हुई और शहर की जो हालत इन नौकरशाहों ने की उससे भी लोगों में भारतीय जनता पार्टी के प्रति काफी नाराजगी थी लोगों का तो स्पष्ट कहना है कि पिछले हफ्ते 3 इंच बारिश में शहर की जो दुर्दशा हुई थी उसने भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में होने वाले वोटों को कांग्रेस के पक्ष में बदल दिया
बहरहाल कांग्रेसी खेमा बेहद उत्साहित है और उसको यह लग रहा है नगरीय निकायों में मिलने वाली विजय श्री से आने वाले विधानसभा चुनाव में उसको एक अच्छा मौका वापस सत्ता में आने का मिल सकता है ।

इधर आम आदमी पार्टी और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ए आई एम ए आई ने भी अपने स्तर पर अपनी स्थिति को टटोलने का प्रयास किया है सिंगरौली में आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी ने महापौर का पद जीतकर आम आदमी पार्टी को एक संदेश दिया है कि आगामी वर्ष में होने वाले विधानसभा चुनाव में वह अपने प्रत्याशी चुनाव में खड़े कर सकता है यद्यपि ओवैसी की पार्टी ने महापौर के लिए अपना प्रत्याशी जबलपुर में खड़ा नहीं किया था और केवल 7 प्रत्याशी पार्षद के रूप में मैदान में उतारे थे वे भी अपनी स्थिति को टटोलने में सफल हो गए हैं
आम जनता की यह अपेक्षा है कि जबलपुर जो विकास के रास्ते में गति हीन हो चुका है उसे एक नई गति मिलेगी विशेष तौर पर जीवनदायिनी नर्मदा को स्वच्छ रखने की जो कसम जगत बहादुर सिंह अन्नू ने खाई है वह जल्द से जल्द स्वच्छ होकर एक निर्मल जलधारा के रूप में प्रवाहित दिखेगी जनसंवाद नए महापौर जगत बहादुर सिंह अन्नू को अनेक बधाइयां और शुभकामनाएं देता है और आशा करता है कि वे नगर विकास के लिए एक नया रास्ता दिखाएंगे

पेज