जबलपुर में महापौर प्रत्याशी का नाम मतदाता सूची से गायब - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

जबलपुर में महापौर प्रत्याशी का नाम मतदाता सूची से गायब

जबलपुर में महापौर प्रत्याशी का नाम मतदाता सूची से गायब
वोटर आईडी लेकर कलेक्ट्रेट में घूमती रही प्रत्याशी, फिर भी नहीं हुई सुनवाई 

जबलपुर न्यूज़,


 जबलपुर

नगरीय निकाय चुनावों की आहट के बाद से ही सारा शहर एक राजेनीतिक अखाड़े में तब्दील हो गया है। जहां एक से बढ़कर एक दांवपेंच देखने को मिल रहे है। लेकिन बीते दिनों शहर में एक ऐसा कारनामा हुआ जो किसी ने सोचा भी नहीं होगा।जहां शहर की एक महापौर प्रत्याशी जब नामांकन पत्र दाखिल करने गयी तो उसे पता चला कि उनका नाम तो मतदाता सूची में ही नहीं है। बताया जा रहा है कि एक राजनीतिक दल से उन्हें टिकट तो मिल गया लेकिन जब वो नाम निर्देशन पत्र जमा कराने के लिए कलेक्ट्रेट पहुंचीं तो पता चला कि उनका मतदाता सूची में नाम ही नहीं है। इसके बाद उन्होंने मतदाता सूची में नाम ढूंढने के साथ ही मतदाता सूची में नाम जुड़वाने खासी कवायद की लेकिन न तो उनका नाम सूची में मिला न हीं कलेक्ट्रेट में किसी ने कोई मदद की।

आगे पढ़िए..वादे पे तेरे मारा गया..उम्मीदवार सीधा साधा

जानिए क्या है मामला..??

  आपको बतादें की कछपुरा ब्रिज, मालगोदाम निवासी श्रीमति शशि सिंह बघेल को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महापौर पद का उम्मीदवार बनाया था। जिन्हें बाकायदा  बी फार्म भी दिया लेकिन शुक्रवार को जब वे कलेक्ट्रेट अपना नाम निर्देशन पत्र जमा कराने पहुंचीं तो उनको पता चला कि उनका नाम मतदाता सूची में ही नहीं है। जानकारी मिलते ही राकांपा कार्यकर्ताओं में निराशा फैल गई। श्रीमति सिंह ने बताया कि वो पहले चेरीताल वार्ड के शिव नगर में रहती थीं। वहां का उनका मतदाता परिचय पत्र भी है लेकिन उनको ये नहीं पता कि उनका नाम मतदाता सूची से कैसे विलोपित कर दिया गया।

जरूर पढ़िए..राहुल गाँधी ने जन्मदिन न मनाने की क्यों कि अपील

अब खटखटाएंगी न्यायालय का दरवाजा..

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के क्षेत्रीय नेता राजेश जायसवाल कहा कि महापौर प्रत्याशी के पास वोटर आईडी है लेकिन उनका नाम मतदाता सूची में नहीं है इसे लेकर पार्टी कलेक्टर एवं अन्य अधिकारियों को आवेदन दे चुकी हैं। उन्होंने कहा कि इसके बाद भी यदि निराकरण नहीं हुआ और राकांपा को न्यायालय की शरण लेने विवश होना पड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके प्रत्याशी के साथ जानबूझकर ऐसी घटना की गई है क्योंकि बड़ी पाटिNयां नहीं चाहती की उनके समकक्ष वजनदार दमदार प्रत्याशी मैदान में उतरे।

खबरों में आगे है...

गुरुद्वारा हमले में क्या बोले मोदी