(नई दिल्ली) अग्निपथ योजना को लेकर आप सांसद संजय सिंह का मोदी सरकार पर हमला - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

(नई दिल्ली) अग्निपथ योजना को लेकर आप सांसद संजय सिंह का मोदी सरकार पर हमला

 (नई दिल्ली) अग्निपथ योजना को लेकर आप सांसद संजय सिंह का मोदी सरकार पर हमला



नई दिल्ली । केंद्र की मोदी सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ देश के कई राज्यों में युवा सड़क पर उतर आए हैं। कई राज्यों में युवा सड़कों पर अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं इस योजना को लेकर आप सांसद संजय ने मोदी सरकार पर हमला बोला है, संजय सिंह ने कहा है कि ये सेना को सिक्युरिटी गार्ड ट्रेनिंग सेंटर बना रहे हैं। पीएम मोदी ने जिन सम्पतियों को बेचा है, वहां गार्ड के लिए यह योजना लाई जा रही है। संजय सिंह ने कहा, "पीएम, सीएम और केंद्रीय मंत्रियों को कहिए कि वे अपने परिवार वालों को इस चार साल की नौकरी के लिए भेजें। अग्निपथ योजना देश के 20 करोड़ नौजवानों के साथ विश्वासघात है, प्रधानमंत्री, सेना देश का गौरव है आपकी प्राइवेट एजेन्सी नहीं जहां आप 4 साल की नौकरी देने का ड्रामा कर रहे हैं। 18 जून को यूपी के सभी जिला मुख्यालयों पर अग्निपथ योजना के विरोध में आम आदमी पार्टी आंदोलन करेगी। केंद्र की अग्निपथ योजना को लेकर आप मुखिया अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट करते लिखा था कि- सेना भर्ती में केंद्र सरकार की नई योजना का देश में हर तरफ विरोध हो रहा है। युवा बहुत नाराज हैं, उनकी मांग एकदम सही हैं। सेना हमारे देश की शान है, हमारे युवा अपना पूरा जीवन देश को देना चाहते हैं, उनके सपनों को 4 साल में बांधकर मत रखिए। बता दें कि अग्निपथ योजना की शुरुआत बिहार से हुई थी और फिर धीरे-धीरे कई राज्यों के युवा सड़क पर उतर आए हैं। इसके साथ ही प्रदर्शनकारियों ने कई ट्रेनों में भी आग लगा दी है और सरकारी संपत्ति का नुकसान कर रहे हैं। आप सांसद ने कहा- मोदी सरकार अग्निपथ योजना लाकर सेना के जवानों को प्राइवेट एजेंसी के लिए तैयार करना  चाहती है। युवा 2 साल ट्रेनिंग के बाद 2 साल नौकरी करेगा और उसके बाद मोदी सरकार उसे निकाल देगी और वो आत्महत्या को मजबूर हो जाएगा। पीएम मोदी से अनुरोध है, अभी भी समय है इस देश को जलने से बचा लीजिए। देश की सेना के गौरव को गिराने और हमारे नौजवानों को अपमानित करने वाली अग्निपथ योजना को वापस ले लीजिए। देश का जवान अपने प्राणों की आहुति दे देता है ये सोच कर कि सरकार उसके परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेगी।