आखिर क्या है.. बुल्ली-बाई एप्प.. और क्यों किया गया इसे बैन - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

आखिर क्या है.. बुल्ली-बाई एप्प.. और क्यों किया गया इसे बैन


आखिर क्या है.. बुल्ली-बाई एप्प.. और क्यों किया गया इसे बैन




नई दिल्ली

एक विवादास्पद एप पर बिना अनुमति के नीलामी के लिए कम से कम 100 प्रभावशाली मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड की गई हैं। इस बारे में आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि होस्टिंग प्लेटफार्म गिटहब ने यूजर को ब्लाक करने की पुष्टि की है। सीईआरटी और पुलिस अधिकारी आगे की कार्रवाई का समन्वय कर रहे हैं।




बुल्ली बाई एप भी काफी हद तक सुल्ली बाई एक की तरह ही है। यहां पर भी मुस्लिम महिलाओं की फोटो लगाई गई है। महिलाओं की फोटो के साथ प्राइस टैग भी लिखा हुआ है। दिल्ली और उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा पिछले साल सुल्ली डील की घटना में मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों के दुरुपयोग के बाद दो प्राथमिकी दर्ज की गई थी, लेकिन अभी तक अपराधियों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है।


'बुली बाई' की तरह 'सुली डील्स' को भी गिटहब पर होस्ट


किया गया था। शिवसेना सांसद प्रियंका चतुवेर्दी ने शनिवार को दोषियों की गिरफ्तारी सहित कार्रवाई के लिए मुंबई पुलिस और मंत्री अश्विनी वैष्णव को 'बुली बाई' एप को कार्रवाई के लिए कहा है।


भारतीय कंप्यूटर आपातकालीन प्रतिक्रिया दल (सीईआरटी) साइबर सुरक्षा खतरों से निपटने वाली नोडल एजेंसी है। उन्होंने की जा रही कार्रवाई के बारे में विस्तार से नहीं बताया।


केंद्र सरकार ने महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक सामग्री को नए डिजिटल नियम बनाने के कारणों में से एक के रूप में उद्धृत किया था, जिसमें 24 घंटे के भीतर आपत्तिजनक सामग्री की मेजबानी करने वाले यूजर की पहचान करने के लिए बिचौलियों को बुलाया जाता है। ऐसे में यह स्पष्ट नहीं है कि इसके लिए क्या वही नियम 'सुल्ली डील' में इस्तेमाल किए गए थे। 'बुली बाई' के मामले में होस्टिंग प्लेटफॉर्म को कार्रवाई करने के लिए यूजर की पहचान करने के लिए लागू किया जा रहा है।


बुल्ली बाई एप गिटहब नाम के प्लेटफार्म पर मौजूद है। एक यूजर के मुताबिक, जैसे ही आप इसे खोलते हैं सामने एक मुस्लिम महिला का चेहरा आता है, जिसे बुल्ली बाई नाम दिया गया है। ट्विटर पर प्रभावशाली मुस्लिम महिलाओं का नाम इसमें इस्तेमाल किया गया है। उसकी तस्वीर को बुल्ली बाई के तौर पर प्रदर्शित किया गया है। सिर्फ इतना ही नहीं, ऐसे ही नाम वाले एकट्विटर हैंडल से इसे प्रमोट किया जा रहा है। इस ट्विटर हैंडल पर खाली सपोर्टर की फोटो लगी है और लिखा है कि इस एप के जरिए मुस्लिम महिलाओं को बुक किया जा सकता है।