महज चंद घंटों में किया अंधी हत्या का खुलासा.. घर में घुसकर अज्ञात आरोपियों ने की थी युवक की नृशंस हत्या - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

महज चंद घंटों में किया अंधी हत्या का खुलासा.. घर में घुसकर अज्ञात आरोपियों ने की थी युवक की नृशंस हत्या


महज चंद घंटों में किया अंधी हत्या का खुलासा..
घर में घुसकर अज्ञात आरोपियों ने की थी युवक की नृशंस हत्या...










घर मे घुसकर मोबाईल शॉप संचालक की चाकुओं से गोदकर बेरहमी से की हत्या,

देर रात खाना खाकर घर की छत पर टहल युवक,

सुमित गुप्ता बताया जा रहा मृतक का नाम,

हत्या के बाद मौके से फरार हुए आरोपी,

तीन आरोपियों ने मिलकर दिया हत्या की वारदात को अंजाम

वारदात को अंजाम देने के बाद घर से भागते नजर आए आरोपी,

गढ़ा थाना क्षेत्र के पचमठा मंदिर के पास बताई जा रही घटना

गढ़ा पुलिस ने पंचनामा कार्रवाई कर शव को पीएम के लिए मेडिकल अस्पताल भेजा,

वारदात के महज चंद घंटों बाद ही पुलिस ने कर दिया अंधी हत्या का खुलासा

जयंती कॉम्प्लेक्स में है मृतक की मोबाइल शॉप


मध्य प्रदेश मैं संस्कारधानी के नाम से जाना जाने वाला जबलपुर जिला अब अपराधियों का गढ़ सा बनता नजर आ रहा खास तौर पर गढ़ा क्षेत्र चाकूबाजी के कांड में जिले में अव्वल रहा है बीती रात इसी क्षेत्र में एक चाकू बाज ने अपने साथियों के साथ मिलकर एक युवक की नृशंस हत्या कर दी।


 प्राप्त जानकारी के अनुसार जबलपुर के गढ़ा थाना अंतर्गत पचमठा मंदिर क्षेत्र में रहने वाले एक युवक की बीती रात हत्या कर दी गई।आरोपी वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हो गए। परिजनों की मानें तो मृतक सुमित गुप्ता जयंती कॉन्प्लेक्स में मोबाइल दुकान संचालित करता है। सुमित गुप्ता बीती रात खाना खाने के बाद अपने घर की छत पर टहल रहा था। कि तभी गुपचुप तरीके से उसके घर में घुसे कुछ अज्ञात लोगों ने छत पर पहुंचकर अकेले टहल रहे सुमित पर धारदार हथियारों से हमला कर दिया इससे पहले कि सुमित को समझ पाता आरोपियों द्वारा उसके चेहरे पर और पीठ पर गंभीर घाव मारते हुए मौत के घाट उतार दिया।

घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी बेहद शातिर ढंग से मौका ए वारदात से फरार भी हो गए इस पूरे घटनाक्रम के दौरान घर पर किसी भी परिजन को यह एहसास ही नहीं हुआ की क्या घटना घट गई है। बहुत देर तक जब सुमित जब अपने कमरे में वापस नहीं आया। तब परिवार वालों ने छत में जाकर तो सुमित जमीन पर खून से लथपथ गिरा हुआ था और चारों तरफ खून ही खून दिख रह था।


एमपी पुलिस का कारनामा..छत्तीसगढ़ में जेल में बंद कैदी से एमपी में कर लिया गांजा बरामद..जरूर पढ़ें फर्जी केस की परत उधेड़ती खास खबर


सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पहुंचे और उन्होंने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा ते हुए इस वारदात को अंजाम देने वाले आरोपियों की तलाश प्रारंभ कर दी.. 


गठित टीम के द्वारा  घटनास्थल के आस पास के सीसीटीवी फूटेज खगांले गये , संदेहियो से पूछताछ की गयी । तकनीकी विवचेना एवं मिले सी सी टी वी फुटेज के आधार पर तीन संदिग्ध लड़के भागते दिखाई दिए,  भागते हुलिए से मिलते जुलते लडकों की तलाश पतासाजी करते हुये गठित टीम जब मदन महल रेलवे स्टेशन पहुची तो सी टी वी फुटेज से मिलते जुलते तीन लड़के खडे दिखाई दिए, पुलिस को देखकर तीनो भागने लगे जिन्हें घेराबंदी कर पकड़ा गया नाम पता पूछने पर तीनों ने अपने नाम अनिकेत दहायत, प्रिंस श्रीवास्तव एवं सोमेश तिवारी तीनों निवासी पचमठा मंदिर के पास बी टी तिराहा थाना गढ़ा बताये, तीनों को  अभिरक्षा में लेकर थाना गढ़ा लाया गया एवं सघन पूछताछ की गयी। सघन पूछताछ पर पाया गया कि सोमेश तिवारी को सुमित ने घटना दिनांक को  अपने घऱ की छत से कमेंट करते हुये चोर बोला था, जिस पर सोमेश ने सुमित के साथ गालीगलौच की थी तथा रात लगभग 00-45 बजे के बाद अपने साथी  अनिकेत एवं प्रिंस के साथ पडोसी के मकान की छत से मृतक सुमित के मकान की छत पर जाकर सुमित की चाक़ू मार कर हत्या कर तीनों भाग गये।  

                 उल्लेखनीय है कि आरोपी सोमेश एवं अनिकेत थाना तिलवारा में नकबजनी के प्रकरण में गिरफृतार किये गये है तथा आरोपी प्रिंस के थाना गढा में 2 मारपीट एवं 1 आबकारी एक्ट का प्रकरण दर्ज है। 


गिरफ्तार किए गए आरोपियों की जानकारी

01. अनिकेत दहायत उर्फ़ आसू पिता अतुल दहायत उम्र 20 वर्ष निवासी पचमठा मंदिर के पास बी टी तिराहा थाना गढ़ा

02. सोमेश तिवारी पिता राजेश तिवारी उम्र 20 वर्ष निवासी पचमठा मंदिर के पास बी टी तिराहा थाना गढ़ा

03. प्रिंस श्रीवास्तव पिता बाबलु श्रीवास्तव उम्र 20 वर्ष निवासी पचमठा मंदिर के पास बी टी तिराहा थाना गढ़ा


अंधी हत्या के खुलासे में इनकी रही महत्वपूर्ण भूमिका

अंधी हत्या का खुलासा कर आरोपियो को चंद घंटो में पकड़ने में  थाना प्रभारी गढा श्री राकेश तिवारी के नेतृत्व में उप निरीक्षक बृजेन्द्र तिवारी, नीलेश पोर्ते, प्रशांत शुक्ला, प्रधान आरक्षक देवेन्द्र, अजय, आरक्षक पुरूषोत्तम, राहुल, शैलेन्द्र, बालमुकुंद, शिवेन्द्र, चालक आरक्षक राजेश्वर तथा सायबर सेल के आरक्षक अभिदीप भट्टाचार्य की सराहनीय भूमिका रही।