पुलिस स्थापना दिवस पर सीएम शिवराज ने की एमपी पुलिस की सराहना - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

पुलिस स्थापना दिवस पर सीएम शिवराज ने की एमपी पुलिस की सराहना

पुलिस स्थापना दिवस पर सीएम शिवराज ने की
एमपी पुलिस की सराहना


भोपाल मध्यप्रदेश

मध्य प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान द्वारा भोपाल के मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित पुलिस स्थापना दिवस पर समारोह में परेड का निरीक्षण कर सलामी ली गईं। इस गरिमामय कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीरता, विशिष्ट और सराहनीय सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित पुलिसकर्मियों को विभिन्न पदकों से अलंकृत कर सम्मानित किया।कार्यक्रम में गृहमंत्री डा नरोत्‍तम मिश्रा और मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस के साथ-साथ पुलिस के आला अधिकारी भी मौजूद हैं।

 

कार्यक्रम के दौरान अपने उद्बोधन में सीएम शिवराज ने कहा कि

 "मैं सबसे पहले पद्म सम्मानित श्री रुस्तम जी को प्रणाम करता हूं, जिन्होंने मध्य प्रदेश पुलिस को दिशा दी। मध्यप्रदेश के चंबल में अब गोलियों की आवाज नहीं गूंजती है, अब विकास की नई गाथा लिखी जा रही है। इसका श्रेय मध्यप्रदेश पुलिस को जाता है।" 

पुलिसकर्मियों की निष्काम सेवा भावना की सराहना करते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि "मैं पुलिस के समर्पण को नमन करता हूं, जिन्होंने कोविड-19 के संकट के दौरान तब अपने कर्तव्य का पालन किया, जब लोगों का घर से निकलना बंद कर दिया गया था। विषम परिस्थितियों में भी जान की परवाह किए बगैर पुलिस ने अपना कर्तव्य निभाया। विकास की पहली शर्त होती है शांति और बेहतर कानून व्यवस्था। मध्य प्रदेश शांति का टापू है। यहां जो भी घटना होती है, उसमें त्वरित कार्रवाई करने के लिए मैं मध्य प्रदेश पुलिस को विशेष रूप से बधाई देता हूं। त्यौहार का अवसर हो या विषम परिस्थितियां, कानून व्यवस्था की स्थिति, पुलिस ने समर्पण भाव से कर्तव्य निभाया है।"


"मुस्कान अभियान में भी मध्य प्रदेश पुलिस ने कई बेटियों को उनके घर वापस पहुंचाकर समाज के प्रति जिम्मेदारी निभाई। बेटियों की सुरक्षा, ड्रग माफियाओं का सफाया और साइबर क्राइम की रोकथाम हमारी प्राथमिकता है। मध्यप्रदेश पुलिस इस दिशा में प्रभावी कार्य कर रही है। पुलिस कर्तव्य निभा रही है, तो हम भी पूरा ध्यान रख रहे हैं। पुलिस और उनके परिजनों के लिए मकान की व्यवस्था को ध्यान में रखते आवासों का निर्माण कराया जा रहा है। हम आवास की सहज उपलब्धता के लिए भी कई तरीकों पर विचार कर रहे हैं।"