SDM के घर चोरी के बाद चिट्ठी लिखने वाले आरोपी पकड़ाए जानिए आखिर क्यों छोड़ी थी चिठ्ठी.. - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

SDM के घर चोरी के बाद चिट्ठी लिखने वाले आरोपी पकड़ाए जानिए आखिर क्यों छोड़ी थी चिठ्ठी..

 

SDM के घर चोरी के बाद चिट्ठी लिखने वाले आरोपी पकड़ाए

जानिए आखिर क्यों छोड़ी थी चिठ्ठी..



लोकेशन देवास MP

डिप्टी कलेक्टर व वर्तमान में खातेगांव SDM के घर चोरी के बाद चिट्ठी लिखने वाले आरोपी पकड़ाए, पिछले दिनों एसडीएम त्रिलोचन गौड़ के सरकारी आवास में चोरी का मामला, तीन में से दो आरोपी शुभम पिता राधेश्याम व कुंदन पिता नरेंद्र निवासी बिहारीगंज को पुलिस ने पकड़ा, शनिवार को सिविल लाइन स्थित घर में हुई चोरी की घटना, मुख्य आरोपी प्रकाश उर्फ गंजा अभी पकड़ से दूर, जिसने चिट्टी लिखी थी, सभी आरोपित शहर के रहने वाले, मुख्य आरोपी का पहले से ही कई अपराधिक रिकार्ड दर्ज है थानों पर, चोरों ने घर में कम कीमती सामान नहीं मिलने पर लिखी थी चिट्ठी, चिट्ठी में लिखा था जब पैसे नहीं थे तो लाक नहीं करना था कलेक्टर, चोरों से चार हजार रूपये व स्टील का डिब्बा भी बरामद, 



*अजब चोर की गजब कहानी। नशे के लिए की थी चोरी। दो चोर पकड़ाए लेकिन मुख्य आरोपी फरार*


मध्यप्रदेश के देवास जिले में शनिवार को अजब चोर का वाक्या देखने को मिला था जहां पर कुछ चोरों ने चोरी कर कलेक्टर को पत्र व्यवहार कर यह हिदायत दे दी थी, की जब पैसे नहीं थे तो लॉक क्यों किया कलेक्टर। बात दे कि चोर ने सिविल लाइन जैसे पॉश कॉलोनी में डिप्टी कलेक्टर व वर्तमान खातेगांव में पदस्थ एसडीएम त्रिलोचन गौड़ के घर पर धावा बोला था जहां पर 30,000 नकदी, चांदी की पायल, एक अंगूठी लेकर उड़ गए थे। चूंकि डिप्टी कलेक्टर के घर चोरी होना व चोरों को ढूंढना पुलिस के लिए एक चुनौती था। इसलिए कोतवाली पुलिस ने तत्काल एक्शन लेते हुए 2 दिन बाद ही घटना को अंजाम देने वाले 3 में से 2 चोरों को गिरफ्तार कर लिया है। इसमें मुख्य चोर प्रकाश उर्फ गंजा अभी भी फरार है जिसकी तलाश पुलिस कर रही है। बताया जा रहा है कि इसी ने कलेक्टर के नामे चिट्ठी भी लिखी थी। व बाकी दो चोर घर के बाहर ही खड़े थे। 

टीआई उमराव सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि डिप्टी कलेक्टर त्रिलोचन गौड़ के घर चोरी करने वाले 3 चोरों में से 2 चोर को हमने गिरफ्तार कर लिया है वहीं मुख्य आरोपी अभी भी फरार है। इन्होंने ₹30,000 नकद, चांदी की पायल व अंगूठी चोरी की थी। लेकिन नशे में इन्होंने सब खर्च कर दिया है और 4 हजार रुपये व एक स्टील का डिब्बा इनके पास से मिला है। यह आरोपी नशे की लत के आदि है। जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया है। उन्होंने कलेक्टर का समझकर डिप्टी कलेक्टर का घर पड़ लिया था वह यह सोचा था कि घर में लाखों रुपए होंगे जिसके चलते चोरी करने यहां पर पहुंचे थे। 

बरहाल जो भी हो कोतवाली पुलिस ने 2 दिन में चोरों को ढूंढ लिया है। व अब तीसरे आरोपी को जल्द पकड़कर न्यायालय में पेश किया जाएगा।