शिवपुरी के निजी अस्पताल में भ्रूण-हत्या मामले को लेकर मचा बवाल.. आदिवासी महिलाओं ने किया अस्पताल का घेराव - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

शिवपुरी के निजी अस्पताल में भ्रूण-हत्या मामले को लेकर मचा बवाल.. आदिवासी महिलाओं ने किया अस्पताल का घेराव

शिवपुरी के निजी अस्पताल में भ्रूण-हत्या मामले को लेकर मचा बवाल..
आदिवासी महिलाओं ने किया अस्पताल का घेराव..



शिवपुरी मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के शिवपुरी में प्राइवेट अस्पताल में भ्रूण हत्या के आरोप सामने आए । जब इस संबंध में हुई सौदेबाजी का वीडियो वायरल हुआ तो मामले ने तूल पकड़ लिया ।जिसके बाद सहरिया क्रांति संगठन की आदिवासी महिलाओं ने अस्पताल का घेराव कर दिया


सड़कों पर उतरी यह आदिवासी महिलाएं भले ही ज्यादा शिक्षित नहीं हो, लेकिन जागरूक किसी से कम नही, शिवपुरी के सिद्धिविनायक निजी अस्पताल में भ्रूण हत्या की कहानी सामने आते ही आदिवासी महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने सहरिया क्रांति के बैनर तले विरोध जताकर अस्पताल का घेराव किया।  सिर्फ इतना ही नहीं, आदिवासी महिलाओं ने जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय जाकर भी ज्ञापन सौंपा और सख्ती से भ्रूण हत्या रोकने के लिए कदम उठाने की मांग की

मधु, आदिवासी महिला



वही, सहरिया क्रांति के संयोजक संजय बेचैन ने आरोप लगाया है कि कई निजी अस्पतालों में भ्रूण हत्या का काला कारोबार बड़े स्तर पर चल रहा है और कार्रवाई को लेकर सरकारी सिस्टम हीलाहवाली बरत रहा है।

संजय बेचैन संयोजक सहरिया क्रांति


हालांकि, अभी तक मामले में किसी भी आरोपी से पुलिसिया पूछताछ किए जाने की बात सामने नहींं आई है। वायरल वीडियो में सौदेबाजी करती महिला स्टाफ को निजी अस्पताल ने निकालकर पल्ला झाड़ लिया है

अस्पताल संचालक, प्रदीप शर्मा



मामले को तूल पकड़ता देख जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने तत्काल ही पूरे मामले को संज्ञान में लिया हमारे प्रतिनिधि से बातचीत करने के दौरान उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल, सिद्धिविनायक प्राइवेट अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने पर रोक लगा दी गई है बहरहाल अब इस पूरे मामले में  CMHO को मामले की जांच रिपोर्ट का इंतजार है 

पवन जैन cmho


जहां एक तरफ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसे नारे दिए जाते हैं, वहीं दूसरी तरफ निर्दोष बच्चियों की कोख में हत्या के मामले शर्मसार करते हैं, जरूरत इस बात की है कि इस तरह के मामलों में सख्त से सख्त सजा दी जाए ताकि बेरहम हत्यारों को सबक मिल सके