ANM / CHO की मीटिंग का मैसेज बना फजीहत.... मीटिंग के समय को लेकर न्यू बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने जताई आपत्ति.. - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

ANM / CHO की मीटिंग का मैसेज बना फजीहत.... मीटिंग के समय को लेकर न्यू बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने जताई आपत्ति..

ANM / CHO की मीटिंग का मैसेज 
बना फजीहत....
मीटिंग के समय को लेकर न्यू बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने जताई आपत्ति..






व्हाट्सएप ग्रुपों में आया CHO और ANM की मीटिंग का मेसेज..

मैसेज में मीटिंग का समय  शाम 7:00 बजे का किया गया तय...

मीटिंग के समय को लेकर न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने दर्ज कराई आपत्ती..


जबलपुर (म.प्र)

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर प्रशासन किसी भी तरह की कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहता यही कारण है कि सभी जगहों पर अपने अपने स्तर पर वैक्सीनेशन के कार्य को शीघ्र अति शीघ्र संपन्न किए जाने के प्रयास जारी है। जिसमें निचले स्तर के स्वास्थ्य कर्मचारियों से लेकर जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल है। सभी प्रयासों के बावजूद भी कोरोना की तीसरी लहर ने एक भयावह माहौल भी बना कर रखा है यही कारण है कि जिला प्रशासन जल्द से जल्द सत प्रतिशत वैक्सीनेशन करवाकर अपने लक्ष्य को पूरा करना चाह रहा है। वैक्सीनेशन कार्य को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए एक और जहां जिला प्रशासन मैराथन बैठक के ले रहा है वही दूसरी ओर निचले स्तर के अधिकारी और स्वास्थ्य कर्मचारी भी तड़की सुबह से लेकर देर शाम तक फील्ड में रहते हुए वैक्सीनेशन के काम को अंजाम दे रहे हैं।


व्हाट्सअप ग्रुपों में आया मेसेज..




जिले के स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपनी गतिविधियां संचालित करने के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुपों में एएनएम और सीएचओ की एक विशेष मीटिंग का मैसेज वायरल हो रहा है। इस मीटिंग में तय किए गए समय को लेकर भी दबे शब्दों में गुदबुदाहट शुरू हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार शाहपुरा ब्लॉक के समस्त सीएचओ और एएनएम एक विशेष बैठक शाम 7:00 बजे के बाद शहपुरा के जनपद कार्यालय में निर्धारित की गई है। जहां  पर ब्लॉक के सभी सीएचओ और एएनएम को पहुंचने की अनिवार्यता भी की गई है। मैसेज में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि उपरोक्त मीटिंग को एसडीएम साहब द्वारा लिया जाएगा। साथ ही समस्त सीएचओ और एएनएम को यह आदेश भी दिया गया है कि वह वैक्सीनेशन संबंधित सभी जानकारी लेकर उपस्थित हो। बताया जा रहा है कि शाहपुरा ब्लॉक में वैक्सीनेशन के आंकड़ों को लेकर जिला प्रशासन संतुष्ट नहीं है लिहाजा वैक्सीनेशन के कार्य में गति लाने के लिए साथ ही अधिक से अधिक संख्या में लोगों को कैसे वैक्सीनेट किया जा सके। इस विषय पर इस विशेष बैठक को बुलाया जाना प्रतीत हो रहा है। लेकिन जिस समय पर इस बैठक को बुलाया गया है उसे लेकर क्षेत्र की एएनएम और सीएचओ के बीच चर्चाओं का माहौल गर्म हो चुका है।


न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने मीटिंग के समय को लेकर जताई आपत्ति


वीरेंद्र शर्मा (संभागीय अध्यक्ष)
न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के संभागीय अध्यक्ष वीरेंद्र शर्मा ने विकास की कलम से जानकारी साझा करते हुए बताया कि शहपुरा ब्लॉक में आयोजित की जाने वाली एएनएम और सीएचओ की एक विशेष बैठक का मैसेज व्हाट्सएप ग्रुप में वायरल हो रहा है जिसे लेकर उनके संगठन से जुड़ी एएनएम बहनों ने रात्रि कालीन 7:00 बजे आयोजित होने वाली इस मीटिंग के समय को लेकर के अपनी परेशानी जाहिर की है यही कारण है कि स्वास्थ्य कर्मचारी संघ मीटिंग के समय को लेकर के अपनी आपत्ति दर्ज कराने का मन बना चुका है संभागीय अध्यक्ष वीरेंद्र शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि शहपुरा ब्लॉक का दायरा काफी बड़ा है और अधिकतर एएनएम दूर-दराज के गांव से हैं। ऐसे में जब एएनएम और सीएचओ सुबह 9:00 बजे से शाम के 6:00 बजे तक वैक्सीनेशन के काम में जुटी रहती हैं। इसके बाद उन्हें अपने घरों तक पहुंचने में घंटों लग जाते हैं कई बार तो साधनों के ना मिलने से कई एएनएम पैदल भी घर पहुंची है। इन सब समस्याओं के साथ भी निचले स्तर के स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना वैक्सीनेशन के कार्यक्रमों संचालित कर रहे हैं । लेकिन रात्रि के समय में  मीटिंग का आयोजित होना एएनएम और सीएचओ की मुश्किलें बढ़ा सकता है ।चूकि एएनएम और सीएचओ महिलाएं हैं लिहाजा किसी भी तरह की विभागीय बैठक या मीटिंग को दोपहर या विभागीय कार्यकाल के समय के दौरान ही संचालित किया जाना चाहिए। यदि किसी आपातकाल में मीटिंग का आयोजन किया भी जाता है । तो फिर इस बात का भी सुनिश्चितीकरण करना चाहिए कि ग्रामीण इलाकों में दूर-दराज से आने वाली एएनएम और सीएचओ को मीटिंग समाप्त होने के बाद उनके घर तक पहुंचाने के लिए वाहनों की क्या व्यवस्था की गई है। संभागीय अध्यक्ष वीरेंद्र शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि हम जानते हैं कि यह आपदा का काल है और वैक्सीनेशन ही एकमात्र उपाय है जिसके लिए निचले स्तर के सभी स्वास्थ्य कर्मचारी तन मन और धन से सेवा कार्य में जुटे हुए हैं । लेकिन उनकी आपत्ति यह है की यदि आपातकालीन किसी भी बैठक या मीटिंग का आयोजन किया जाता है तो विभाग को इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए के मीटिंग में शामिल होने वाली एएनएम और सीएचओ को वाहन व्यवस्था कर उनके घरों तक भी पहुंचाया जाए।