सीएम और कलेक्टर लिख कर दे मुझे कोविड वैक्सीन से कोई खतरा नहीं है तब लगवा लूंगा वैक्सीन.. ट्वीटर के जरिये मांगा लिखित आस्वासन - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

सीएम और कलेक्टर लिख कर दे मुझे कोविड वैक्सीन से कोई खतरा नहीं है तब लगवा लूंगा वैक्सीन.. ट्वीटर के जरिये मांगा लिखित आस्वासन

सीएम और कलेक्टर लिख कर दे।
मुझे कोविड वैक्सीन से कोई खतरा नहीं है 
तब लगवा लूंगा वैक्सीन..
ट्वीटर के जरिये मांगा लिखित आस्वासन





शिवपुरी मप्र

एक ओर कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र से लेकर राज्य सरकार तक जागरूकता अभियान चला रही है। खुद प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी भी जनता से इस वेक्सिनेशन को सफल बनाने अपील कर रहे है। लेकिन इन सबके बीच एक तबका ऐसा भी है। जो वेक्सिनेशन को लेकर काफी भृमित है। यही कारण है कि देश व्यापी इस वेक्सिनेशन अभियान  को लेकर समय समय पर विरोध के स्वर भी मुखर हुए है।लेकिन ताजा मामला मध्यप्रदेश के शिवपुरी से सामने आया है। जहां एक युवक ने प्रदेश के मुख्यमंत्री और जिला कलेक्टर से लिखित आस्वासन मांग है। आइए जानते है क्या है पूरा मामला...


 शिवपुरी जिले की पोहरी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत रहने वाले शेलेन्र्द धाकड़ हिम्मतगढ ने  ट्वीट के जरिए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और शिवपुरी कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह से लिखित में आश्वासन मांगा है कि covid वैक्सीन लगाने से मुझे कोई खतरा नहीं होगा यदि ऐसा लिख कर दें तो मैं वैक्सीन लगवाने को तैयार हूँ ।

गौरतलब हो कि प्रदेश में हाल ही में हुई कोरोना संक्रमण से मौतों को लेकर आम जनता काफी घबराई हुई है। जिनमे बहुत से ऐसे मामले भी सामने आए है जिन्हें वेक्सिनेशन होने के बाद भी संक्रमण हुआ और उनकी मृत्यु हो गयी। माना जा रहा है कि इस बात को लेकर भी वेक्सिनेशन पर सवाल उठाए जा रहे है।

इस प्रकार की घटनाओं से लगता है कि कहीं ना कहीं आज भी covid वैक्सीन को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता की कमी है।


विधायक ने युवक से की अपील...


वहीं कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने युवक से व्यक्तिगत अपील की है कोरोना वैक्सीन जरूर लगवाएं मैंने भी बैक्सीन के दोनों  डोज लगवा लिए हैं

क्या जिम्मेदार देंगे युवक के ट्विटर के जबाब..

अब देखना यह है कि मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री या फिर शिवपुरी कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह द्वारा लिखित इस युवा को आश्वासन दिया जाता है कि नहीं