Breaking

सोमवार, 3 मई 2021

यहां गधे में बैठकर आता है दूल्हा.. अजब एमपी की गजब दास्तान

यहां गधे में बैठकर आता है दूल्हा..
अजब एमपी की गजब दास्तान



देवास मध्यप्रदेश

अजब गजब है देवास में गधे पर बैठकर शादी का वीडियो हुआ वायरल, देवास के बागली के करोंदिया गांव में गधे पर दूल्हे की बारात का वीडियो वायरल, सोशल मीडिया पर खूब हो रहा है वायरल, लॉक-डाउन के चलते शादियों में इस तरह के नजारे देखने को मिल रहे है, ऐसे वीडियो जो हैरत में डालते है तो एमपी का देवास अजब गजब है, वहीं सोशल मीडिया पर लोगों के द्वारा कहा जा रहा है कि घोड़ी नहीं मिली तो गधे पर बैठ कर ही अपना काम चला लिया इस तरह की बातें भी कही जा रही है, हालांकि वीडियो कब का है इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है, आपको बता दे कि देवास जिले के बागली तहसील के गांव करोंदिया शहर देवास से लगभग 70 से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, ऐसी भी जानकारी आयी सामने, की जब दूल्हा दुल्हन को लेने आता है तो कई वर्षों से चली आ रही परंपरा के तहत उसे गधे पर बैठाया जाता है, 


देवास के बागली के करोंदिया गांव में अजब गजब मामला देखने को मिला है। जिसमें एक दूल्हा गधे पर बैठकर बारात निकल रहा है और बहुत से लोग उसमें नाचते हुए दिखाई दे रहे है। गधे पर बैठे दूल्हे की बारात का वीडियो सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से वायरल किया जा रहा है। संपूर्ण लॉक-डाउन के चलते शादियों में इस तरह के नजारे भी देखने को मिल रहे हैं जहां शादियों पर 10-10 लोगों की छूट प्रशासन ने दी हुई है। वही सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा शेयर किए जा रहे हैं इस वीडियो में यह लिखा जा रहा है कि शादी में घोड़ी नहीं मिली तो गधे से ही काम चलाना पड़ा इस तरह की बातें भी सोशल मीडिया पर कहीं जा रही है। और शेयर की जा रही है। अगर बात कही जाए एमपी में देवास के अजब गजब की तो यह हैरत में करने वाली बारात होगी। जिसमें दूल्हा गधे पर अपनी दुल्हन को लेने जा रहा है। हालांकि वीडियो यह कब का है इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हो पाई है। लोगों द्वारा इस वीडियो को खूब इंजॉय किया जा रहा है और लगातार शेयर किया जा रहा है जो कि सोशल मीडिया पर ही वायरल हो रहा है। 

आपको बता दे कि बागली देवास की एक तहसील है जहां पर गांव करोंदिया स्थित है। जो देवास शहर से लगभग 70 से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 


हालांकि ऐसी भी जानकारी बताई जा रही है कि जब किसी समाज में दूल्हा दुल्हन को लेकर जाता है तो उसे गधे पर बैठाया जाता है यह कई वर्षों से चली आ रही परंपरा गत निभाया जाता आ रहा है। 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार