इधर बिजली ऑफिस में दारू-खोरी.. उधर 3 घंटे से थी लाइट गोल.. फिर जनता ने उतारी खुमारी... - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

इधर बिजली ऑफिस में दारू-खोरी.. उधर 3 घंटे से थी लाइट गोल.. फिर जनता ने उतारी खुमारी...

इधर बिजली ऑफिस में दारू-खोरी..
उधर 3 घंटे से थी लाइट गोल..
फिर जनता ने उतारी खुमारी...




देवास- मध्यप्रदेश

बिजली विभाग के अधिकारी और आम जनता के बीच देर रात तक चलता रहा मेलो ड्रामा, सिविल लाइन का पावर हाउस बना शराबियों का अड्डा, ऑफिस में शराब पीते दिखे बिजली विभाग के जवाबदार कर्मचारी व अधिकारी, रहवासियों ने वीडियो बनाये और  किया सोशल मीडिया पर वायरल, 3 घंटे से लाइट जाने से परेशान थे रहवासी, सिविल लाइन के बिजली विभाग में देर रात तक चलता रहा हंगामा और मेलोड्रामा, रहवासियों ने जड़ दिए बिजली विभाग में ताले, अंदर बैठे लोग खोलने की लगाते रहे गुहार, दो थानों का पुलिस बल रात में हुआ एकत्रित, करीबन रात्रि 1 बजे का मामला, 


  यहां जानिए आखिर क्या है पूरी कहानी

सिविल लाइन के बिजली विभाग में देर रात तक मेलोड्रामा चलता रहा। ये मेलोड्रामा क्षेत्र में 3 घण्टे से परेशान रहवासियों को करना पड़ा। जिसके चलते रात्रि 1 बजे तक हंगामा और हुज्जत होती रही। दरअसल पूरा मामला सिविल लाइन स्थित पावर हाउस दफ्तर का है जहाँ शनिवार की रात को जब मुखर्जीनगर,राजाराम और अन्य क्षेत्र के रहवासी 3 घण्टे से बिजली जाने के कारण परेशान हो रहे थे। विधुत वितरण कंपनी में कई बार फोन पर शिकायत करने के बावजूद फ़ोन नही उठाने पर नाराज कुछ लोग पावर हाउस दफ्तर पहुँचे और वहां बैठे जवावदारो को बिजली आने की जानकारी ली गई।


जनता पहुंची पावर हाउस लेकिन वहां चल रही थी दारु खोरी

 लगातार 3 घंटे से क्षेत्र में बिजली ना होने के चलते  क्षेत्रवासी खासे परेशान हो गए थे  उन्होंने सैकड़ों बार  बिजली दफ्तर में फोन लगाकर अपनी कंप्लेंट दर्ज करानी चाही  लेकिन  दफ्तर का फोन इंगेज करके रख दिया गया था  जिम्मेदारों को मोबाइल पर भी संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन  किसी भी अधिकारी ने फोन नहीं उठाया  लिहाजा क्षेत्रवासियों ने एकजुट होकर  पावर हाउस जाने का फैसला किया जैसे ही क्षेत्रीय जनता पॉवर हाउस पहुंची।तो उन्होंने देखा  कि वहां बैठे कुछ कर्मचारी व अधिकारी इत्मिनान से शराब पी रहे थे। उन्हें इस बात से कोई भी मतलब नहीं था कि क्षेत्र में पिछले 3 घंटे से लाइट गोल है। क्षेत्रवासियों ने बिजली विभाग में चल रही दारुखोरी का वीडियो भी बना लिया। जो कि सोशल मीडिया में काफी वायरल भी हो रहा है। वीडियो बनाने पर अंदर बैठे लोग रहवासियों से हुज्जत करने लगे। विडियो में बिजलीघर के इस वायरल वीडियो में बिजली विभाग के कुछ अफसर और कर्मचारी भी दिखाई दे रहे है।


गुस्साई जनता ने बाहर से जड़ा ताला अंदर बैठे अधिकारी करते रहे मिन्नते


 क्षेत्रवासी पहुंचे तो थे अपनी शिकायत दर्ज कराने  लेकिन अधिकारियों की  दारू पार्टी को  देखते ही  क्षेत्रवासियों का  गुस्सा फूट पड़ा  एक ओर जहां क्षेत्रवासी पिछले 3 घंटे से क्षेत्र में बिजली ना होने के चलते परेशान थे वहीं पावर हाउस में जिम्मेदार अधिकारी और कर्मचारी अपना फोन इंगेज करके जाम लगा रहे थे ।जिसके चलते मुखर्जी नगर क्षेत्र के सुमेरसिंह दरबार, राहुल पवार, सुदर्शन उपाध्याय सहित कई लोगो ने पावर हाउस के गेट पर ताला जड़ दिया। साथ ही जवाबदारो को बुलाने की मांग करने लगे। लंबे समय तक सिविल लाइन पावर हाउस दफ्तर पर रहवासियों ने गेट के सामने बेठकर अपनी नाराजगी व्यक्त की।


हालात बिगड़ते देख मौके पर पहुंची 2 थानों की पुलिस

 

स्थिति बिगड़ते देख दो थाने का बल भी मौके पर पहुंचा लेकिन पावर हाउस के जिम्मेदार नहीं पहुंचे। वही कांग्रेस शहर अध्यक्ष मनोज राजानी के एमपीईबी पहुंचने के बाद पावर हाउस के जवाबदार वहां पहुंचे। रहवासियों ने पुलिस और पावर हाउस के जिम्मेदारोंं को उक्त वीडियो दिखाएं और वीडियो के आधार पर सभी के मेडिकल कराने की मांग की गई। जिस पर कोतवाली टीआई उमराव सिंह ने सभी का मेडिकल करानेे की बात कही गई। विडियो में साफ देखने को मिल रहा है कि कुछ अफसर और कर्मचारी वहां खुलकर शराब पी रहे हैं। बिजलीघर के ही उपकरणों के पास बैठकर ग्लास व स्नेक्स भी पावर हाउस दफ्तर के जिम्मेदार के पुलिस को देखने को मिले। जैसे सरकारी दफ्तर में बैठकर शराब पीना कोई सरकारी आदेश ही हो। जबकि बिजलीघर को लेकर कर्मचारियों और अफसरों को अलर्ट रहना चाहिए कि कहीं कोई घटना न हो जाए। लेकिन शायद इन्हें पब्लिक और विभाग से अधिक शराब की चिंता थी। देर रात तक चले हंगामे में 2 थानों का पुलिस बल तो तैनात रहा ही। वहीँ जब जिम्मेदारों से बातचीत की गई तो मेडिकल करवाने की सिर्फ बात कही गयी। 


ये नहीं पढ़ा...तो क्या पढ़ा..??