Breaking

शनिवार, 1 मई 2021

नॉन कोविड इलाज करवा रहे मरीज की हुई मौत, मृतक के परिजनों ने की नर्स से मारपीट


नॉन कोविड इलाज करवा रहे मरीज की हुई मौत, मृतक के परिजनों ने की नर्स से मारपीट



देवास मध्यप्रदेश

नॉन कोविड इलाज करवा रहे मरीज की हुई मौत, 

मृतक के परिजनों ने की नर्सेस व स्टाफ के साथ हाथापाई और अपशब्दों की तल्खियां, 

जिला अस्तपाल के नर्सेस स्टाफ़ हुआ नाराज, किया काम बंद, 

रोजाना स्टाफ के साथ हो रही मारपीट हाथापाई से स्टाफ ने असुरक्षित रहने का दिया हवाला, एडीएम, तहसीलदार, व सीएसपी ने जिला अस्पताल में पहुंचकर सुनी गाथा, दिया प्रकरण व कार्यवाही का भरोसा, 

काम पर लौटा बाद में स्टाफ, 


दरअसल जिला अस्तपाल में कोविड और नॉन कोविड दोनों वे अलग अलग सेंटर बनाकर मरीजो का इलाज चल रहा है। जिसके चलते नर्सेस व स्टाफ कर्मियों की कमी बनी हुई है। दोनों सेंटर पर कोई चूक होती है तो नर्सेस का स्टाफ अगर कार्य करता है तो उनके साथ में हो रहे व्यवहार पर कई लोग उंगलियां उठाते है। यहां तक कि कई लोग हाथापाई व अपशब्दों की भरमार कर देते है। ऐसे में स्टाफ कर्मियों का कहना है हमें असुरक्षित महसूस हो रहा है। मरीज की डेथ हो जाती है तो हमसे हाथापाई और गाली गलोच की जाती है जिसके विरोध में हमने काम बंद किया है। 

जब नर्सेस स्टाफ कर्मियों ने काम बंद किया था एडीएम महेंद्र कवचे, तहसीलदार पूनम तोमर व सीएसपी विवेक सिंह चौहान मौके पर पहुंचे कार्य बंद रखने पर व असुरक्षा के घेरे में कार्य ना करने की बात नर्सेस स्टाफ ने कही। वहीं आवेदन बनाकर शिकायत की गई कि हमारी सुरक्षा के इन्तेजाम किये जायें। इस पर भरोसा देकर स्टाफ़कर्मियों ने मांग रखी। एडीएम, तहसीलदार व सीएसपी ने प्रकरण दर्ज करने व कार्यवाही का आश्वासन सभी को दिया जिसके बाद कहीं नर्सेस व स्टाफ़कर्मी काम पर लौटे। 


एक नर्स ने जानकारी देते हुए बताया कि किसी नॉन कोविड मरीज की मृत्य हो गयी थी जिसके परिजनों ने हमारे साथ हाथापाई व गली गलौच की। जबकि हमने उन्हें बता दिया था मरीज की हालत सीरियस है। 


सीएमएचओ ने बोला कि स्टाफ कर्मियों ने असुरक्षा को लेकर नाराजगी जताई है जिसको लेकर सुरक्षा दिए जाने की मांग की गई है। 



अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनजीतसिंग चावला ने बताया कि किसी नर्सेस स्टाफकर्मी के साथ हाथापाई व मारपीट किये जाने की सूचना मिली थी। जिसपर हम कार्यवाही करने व प्रकरण किये जाने की जांच की जा रही है। 


हालफिलहाल स्टाफ कर्मियों ने अपनी सुरक्षा को बढ़ाने की मांग की है। जिला अस्तपाल में आये दिए स्टाफ़कर्मियों के साथ इस तरह से व्यवहार किये जाने की सूचना मिलती रहती है। 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार