Breaking

मंगलवार, 6 अप्रैल 2021

पुलिस ने सुलझाई राजकुमार उइके हत्याकांड की गुत्थी

पुलिस ने सुलझाई
राजकुमार उइके हत्याकांड की गुत्थी




हाशिम खान-छपारा

धुरेड़ी के दिन छपारा थाना अंतर्गत सुकरी गांव के खेत में अमरवाड़ा थाना अंतर्गत चारगांव निवासी राजकुमार उइके का शव मिला था जिसके दोनो हाथ बंधे हुए थे तब पुलिस समझ गई कि राजकुमार उइके की हत्या की गई है। इस पूरे मामले को जिला पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक ने गंभीरता से लिया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एसके मरावी के निर्देशन में टीम का गठन किया गया जिसमें एसडीओपी आरएन परतेती, लखनादौन थाना प्रभारी केएस मरावी, लखनादौन के उपनिरीक्षक एसडी सनोडिया, सहा. उपनिरी. संजय ठाकुर, सहा.उनि. मुकेश उपाध्याय, सउनि सुभाष तिवारी, सउनि नियाज खान, आर. नौशाद एवं जयंत को शामिल किया गया। जांच के दौरान पुलिस को व्यास नारायण उर्फ करिया पिता ढेलसिंह कुमरे के ऊपर शंका हुई तो उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तब व्यास नारायण उर्फ करिया ने हत्या करने की बात स्वीकार कर लिया। पूछताछ के दौरान व्यास नारायण ने बताया कि अमरवाड़ा थाना अंतर्गत चारगांव निवासी बाबूलाल पिता माठू उइके रिश्ते में मेरा दादा लगता है जिसकी कोई संतान नहीं है।
रिश्ते का दादा बाबूलाल की खेती राजकुमार उइके पिता पुसू उइके पिछले 20 से 25 साल से करता था, उसे डर था कि रिश्ते में लगने वाले दादा बाबूलाल और दादी के नहीं रहने पर राजकुमार उइके दादा की खेती अपने नाम करवा लेगा इसी बात को लेकर उसकी राजकुमार से रंजिश थी। बाबूलाल की जमीन के एवज में सरकारी योजना के तहत राशि उसके खाते में आती थी जिसे मैने एक बार 08 हजारा रू. व दूसरी बार 2 हजार रू. निकाल लिया इस बात का पता राजकुमार को चला तो उसने मेरे ऊपर गुस्सा किया जिससे रंजिश और बढ़ गई।
लगभग एक महीने पहले व्यास नारायण उर्फ करिया राजकुमार के पास खेत गया तब राजकुमार ने उससे विवाद शुरू कर दिया तब करिया उर्फ व्यास नारायण ने राजकुमार को धमकी दिया कि मै तेरी हत्या कर दूंगा और वह खेत से वापिस आ गया तब राजकुमार उइके ने यह बात अपनी पत्नी, भाभी वैंजतीबाई और भाई कन्हैया उइके को भी बताया था कि करिया ने मर्डर करने की धमकी दिया था।
होली के तीन दिन पहले मर्डर करने की बनाया योजना
पूछताछ में व्यास नारायण उर्फ करिया ने बताया कि उसने होली के तीन दिन पहले बड़े भाई ओमनारायण व छोटे भाई उमाशंकर के साथ राजकुमार की हत्या करने की योजना बनाया था। होली की रात में वह अपने बड़े भाई ओमनारायण व छोटे भाई उमाशंकर के साथ राजकुमार के खेत पहुंचे थे जहां राजकुमार मचान के ऊपर सो रहा था जिसे नीचे उतारे और एक कपड़े से राजकुमार के हाथ पैर बांध दिये और गमछे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर रात में ही अपने गांव वापिस आ गये जिसके बाद पुलिस ने आरोपी व्यास नारायण उर्फ करिया पिता ढेलसिंह उम्र 30 साल, ओमनारायण पिता ढेलसिंह कुमरे उम्र 32 साल, उमाशंकर पिता ढेलसिंह कुमरे को गिरफ्तार करते हुए न्यायालय में पेश किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार