Breaking

गुरुवार, 15 अप्रैल 2021

कोरोना परोसता अस्पताल अस्पताल के बाहर सड़कों पर फेंकी गई इस्तेमाल की गई..PPE - किट

 कोरोना परोसता अस्पताल
अस्पताल के बाहर सड़कों पर फेंकी गई
इस्तेमाल की गई..PPE - किट



*जबलपुर में अस्पताल के बाहर बीच रास्ते में फेंकी गई पीपीई किट*

*आसपास के क्षेत्र वासियों में भय का माहौल संक्रमण फैलने का खतरा हुआ दोगुना*

*मौन व्रत साध कर बैठा रहा जिला प्रशासन*


एक ओर जहां पूरे देश में कोरोनावायरस से हाहाकार मचा हुआ है । वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में एक के बाद एक कई लापरवाहीयों के चलते स्थितियां बद से बदतर होती जा रही है। जहां संक्रमण को लेकर 2 गज दूरी मास्क जरूरी और सैनिटाइजर का उपयोग किया जाना जैसी तमाम चीजों को जनहित में जारी किया जा रहा है वही जबलपुर के राइट टाउन स्थित सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल में हद दर्जे की लापरवाही देखी गई। इस अस्पताल की लापरवाही ने ना केवल अस्पताल में आने वाले लोगों का बल्कि आसपास रहने वाले क्षेत्रवासियों का भी जीवन खतरे में डाल दिया है।


अस्पताल के बाहर सड़कों पर फेंकी गई PPE किट


दरअसल सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल में हॉस्पिटल प्रोमाइज के बाहर एक दो नहीं बल्कि आधा दर्जन से अधिक पीपीई कीट  सड़कों पर फेंके गए हैं जिसके चलते आसपास के रहवासियों का भी जीवन खतरे में पहुंच चुका है इस पूरे मसले पर जब हमने सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल के मैनेजर से बात करनी चाहिए तो उन्होंने पूरा आरोप मरीजों के परिजनों पर मढ़ते हुए अपना पल्ला झाड़ लिया ।


विकास की कलम जब अस्पताल के बाहर निकली तो मरीजों के परिजनों ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए जिसमें सबसे अहम बात यह रही कि हॉस्पिटल में आने जाने वालों को सेनेटाइज्ड ही नहीं किया जा रहा था। 



इतना ही नहीं एक मरीज के परिजन ने यह भी आरोप लगाया है की अस्पताल प्रबंधन की सांठगांठ से रेमेडी शिवर इंजेक्शन ₹27000 में बेचा गया



कलेक्टर ने दिया जांच का आश्वासन




इस पूरे मामले में हमने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से संपर्क करने के लिए उन्हें कई बार फोन लगाया लेकिन इस विपदा की घड़ी में जहां चारों और स्वास्थ्य सेवाओं की प्रमुख आवश्यकता है ऐसे में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी का फोन पर भी कोई जवाब ना देना काफी शर्मनाक रहा इसके बाद इस पूरे मसले पर नेटवर्क टेन की टीम ने जिला कलेक्टर कर्मवीर शर्मा से बात की और उन्हें पूरे मामले से अवगत कराया जिस पर जिला कलेक्टर ने जांच किए जाने एवं दोषी पाए जाने पर अस्पताल प्रबंधन पर कार्यवाही करने की बात कही है।

कर्मवीर शर्मा जिला कलेक्टर जबलपुर


निगम के स्वास्थ्य अधिकारी ने आनन-फानन में भेजी टीम

गौरतलब हो कि देश भर में चल रहा है स्वच्छता अभियान को लेकर कचरा फेंकने वालों के ऊपर चालानी कार्यवाही की जा रही है अब इस पूरे मसले को लेकर हमने नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भूपेंद्र सिंह बघेल से बात की और उनके सामने यह पूरा मामला रखा है जिस पर उन्होंने तत्काल ही सफाई सुपरवाइजर को भेजते हुए उपरोक्त पीपीके को वहां से हटवाने का आदेश दिया और जांच करने के उपरांत चलानी कार्यवाही करने की बात कही है

 भूपेंद्र सिंह बघेल स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार