Breaking

मंगलवार, 6 अप्रैल 2021

MP में लुटेरी दुल्हनों का कहर.. रोजाना बन रहे नए मामले...

MP में लुटेरी दुल्हनों का कहर..
रोजाना बन रहे नए मामले...





खंडवा । लुटेरी दुल्हनों (Robbery brides) के फिल्मी किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे लेकिन हम अब जो खुलासा करने जा रहें हैं वो आपके होश उड़ा देगा. ये किसी एक दुल्हन (Bride) की करतूत का जिक्र नहीं. ये इक्के दुक्के किस्सों का भी जिक्र नहीं. ये है लुटेरी दुल्हनों की पूरी इंडस्ट्री की हैरान करने वाली दास्तान. जिसका पर्दाफाश हुआ तो सब दंग रह गए.


इनकी करतूत जानकर आपको ये कहानी फिल्मी लग सकती है. एक बारगी ये भी लग सकता है कि क्या ऐसा सचमुच की ज़िंदगी में हो सकता है भला? लेकिन आप जो सोच नहीं सकते, एमपी से लेकर देश भर के अलग-अलग हिस्सों में हाथ मार रही लुटेरी दुल्हनें वो सबकुछ कर सकती हैं. ये पहले शादी करती हैं, फिर रातों-रात रुपये-पैसे गहने-ज़ेवर लेकर रफूचक्कर हो जाती हैं और दूल्हा बेचारा सिर पीटता रह जाता है. सबसे बड़ी बात तो ये है कि लुटेरी दुल्हनों से मिलनेवाला ये ज़ख्म कुछ-कुछ वैसा है कि ना दिखाते ही बनता है और ना छुपाते. 


देश के दिल यानी मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) का दिल इन दिनों ऐसी ही लुटेरी दुल्हनों ने चुरा रखा है. सिर्फ दिल ही नहीं पैसे गहने सब कुछ. बीते 5 महीनों में प्रदेश में लुटेरी दुल्हनों के 10 से ज्यादा मामले दर्ज हो चुके हैं. कुछ दुल्हनें गिरफ्त में भी आ चुकी हैं. लेकिन क्या ये मामला इतना भर है? इसकी गहराई से तफ्तीश की गई तो जो खुलासा हुआ वो हैरान करने वाला है.


छानबीन में पता चला कि मध्य प्रदेश में लुटेरी दुल्हनों के 25 से ज्यादा गिरोह सक्रिय हैं. ये 100 से ज्यादा लोगों को अपना शिकार भी बना चुकी हैं. बस लोक लाज के चलते ठगे गए ज़्यादातर दुल्हे शिकायत नहीं कर पाते. आखिर कैसे इतने बड़े पैमाने पर चल रहा है ये ठगी का कारोबार? कैसे फांसा जाता है लोगों को? आखिर क्यूं दुल्हे या उसके घरवालों को शक नहीं होता? और कौन हैं लुटेरी दुल्हनों के दलाल? इन सवालों के जवाब भी कम चौंकानेवाले नहीं हैं.


मध्य प्रदेश का शहर खंडवा (Khandva). वहां के रहने वाले हैं नितिन. ये एक दूल्हे के भाई हैं. नितिन सबको दो तस्वीरें दिखा रहे हैं. एक तस्वीर है रमा नामक लड़की की. जिससे उनके भाई की शादी हुई थी और दूसरी है रजिया जिसने शादी करवाई थी. नितिन के भाई विकास साहनी भी लुटेरी दुल्हन का शिकार बन चुके हैं. नीतिन के भाई विकास की शादी की उम्र बीती जा रही थी. घरवालों को चिंता थी कि विकास की वक्त पर शादी हो जाए. लेकिन इसी चिंता ने उन्हें लुटेरी दुल्हनों के जाल में फंसा दिया.

 

सबसे पहले नितिन की मां के संपर्क में रजिया नाम की एक महिला दलाल आई. उसने शादी के लिये औरंगाबाद की रमा नामक एक लड़की का जिक्र किया और कहा कि शादी तो हो जाएगी, लेकिन पहले 50 हजार रुपये पेशगी लगेगी. चूंकि नितिन के भाई विकास की उम्र पहले ही निकल रही थी, लिहाजा उसकी मां ने रजिया की हर बात मान ली.


नितिन के परिवार को शादी की जल्दी थी, लिहाजा वो शर्त मान गए. रिश्ता तय हो गया. जल्द ही धूमधाम से शादी हुई. शादी के बाद रमा अपने भाई को साथ लेकर ससुराल आई. उसने ससुरालवालों से कहा कि अगले दिन उसका भाई चला जएगा. 


लेकिन उसी रात खेल हो गया. और सुबह होते ही पूरे परिवार के होश फाख्ता हो गए. दुल्हन अपने कथित भाई के साथ तमाम गहने और नगदी लेकर फरार हो चुकी थी. और तो और खुद दूल्हे को भी पता नहीं चला कि कब उसकी हमसफ़र उसकी ज़िंदगी की गाड़ी से सफर की शुरुआत होते ही उतर गई. लुटेरी दुल्हन ने फरार होने से पहले सारे वीडियो सबूत भी मिटा दिए. जाते-जाते वो देवर के फोन का मेमरी कार्ड भी साथ ले गई ताकि कोई पहचान बाकि ना रहे. 


फिलहाल, पीड़ित साहनी परिवार एफआईआर (FIR) दर्ज करवा चुका है. लेकिन अब तक लुटेरी दुल्हन रमा और उसके तमाम असली-नकली नाते रिश्तेदारों का कोई अता-पता नहीं है. लेकिन रिश्ता कराने वाली रज़िया को गिरफ्तार किया गया. लेकिन वो भी बेल पर बाहर आ चुकी है.


साहनी परिवार ऐसी दुल्हन का शिकार होने वाला कोई इकलौता परिवार नहीं है. बल्कि उसी इलाके में पांच महीने में ऐसे 10 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. लेकिन ज्यादातर पीड़ित मीडिया के सामने आने से हिचकते हैं. अव्वल तो उन पर दुल्हन खरीदने की तोहमत लगती है और फिर ये डर भी सताता है कि अब आगे शादी नहीं होगी.


ऐसा नहीं कि पुलिस ने लुटेरी दुल्हनों पर शिकंजा नहीं कसा. हाल ही में मध्यप्रदेश के खंडवा, सागर, बड़वानी में लुटेरी दुल्हनें गिरफ्त में भी आई हैं. तफ्तीश में खुलासा हुआ कि ये दुल्हनें अब तक 4 से पांच शादियां कर चुकी थीं. यानी इतने ही दुल्हे लुट चुके थे. 


खंडवा पुलिस ने अनीता उर्फ आरती को पकड़ा है. उसने हाल ही मे हरसूद के युवक केदार विश्वकर्मा से शादी की और रकम लेकर फरार हो गई. पुलिस को इसकी तलाश थी कि वो खंडवा में फिर से शादी करते पकड़े गई. जब पुलिस ने उससे पूछताछ की तो पता चला कि वो पहले भी चार शादी कर चुकी है. 


01 नवंबर 2020     - पहली शादी देवास जिले में की और वहां से 60 हजार रुपये लेकर फरार हो गई.

03 दिसंबर 2020    - दूसरी शादी राजस्थान चित्तौडगढ में की. जहां से 80 हजार रुपये लेकर फरार हो गई.    

23 दिसंबर 2020    - हरसूद के केदार से शादी की और 40 हजार लेकर फरार हो गई.

04 जनवरी 2021    - खंडवा के एक युवक से शादी की और 60 हजार रुपये लेकर रफूचक्कर हो गई.


खंडवा के पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह के मुताबिक पीड़ित लोग रिपोर्ट दर्ज नहीं कराते और ये बात पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन जाती है. लुटेरी दुल्हन के शिकार बने लोग इज्जत जाने और जग हंसाई के डर से पुलिस के पास नहीं जाते. लुटेरी दुल्हनों का जाल कई राज्यों में फैला है. एक राज्य में वारदात को अंजाम देकर ये दूसरे राज्य में पहुंच जाती हैं. दो राज्यों की पुलिस में तालमेल ना होने के चलते ये लगातार कई वारदात को अंजाम देने में कामयाब रहते हैं. लुटेरी दुल्हनों या गिरोह लोगों की उस मानसिकता का फायदा उठता हैं, जिसमें शादी में देरी होने या शादी नहीं होने को भी इज्जत से जोड़ कर देखा जाता है.


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार