Breaking

शनिवार, 3 अप्रैल 2021

रोजगार सहायक का ग्राम पंचायत में महा-घोटाला अब जिम्मेदारों की टीम जांच रही दस्तावेज

 रोजगार सहायक का ग्राम पंचायत में महा-घोटाला
अब जिम्मेदारों की टीम जांच रही दस्तावेज






(रायसेन-म.प्र)

मप्र की शिवराज सरकार ने ग्राम स्वराज को मजबूती प्रदान करने और समुचित विकास हो सके इसके लिए ग्राम सरकार में रोजगार सहायको  की नियुक्तियां की गई थी  कहते है मेढ़ अगर खेत को खाने लगे तो खेत की रखवाली कौन करे ऐसा ही एक मामला बाड़ी जनपद के ग्राम सौजनी में देखने को मिला जहां रोजगार सहायक ब्रजेश रघुवंशी द्वारा स्वच्छ भारत मिशन में  किस तरह  भ्र्ष्टाचार किया जा रहा है देखने को मिला स्वच्छ भारत मिशन के तहत  पहले ग्राम में 85 शौचालय बनाये गए थे लेकिन वो शौचालय पंचायत ने ना बनाकर खुद हितग्राहियों के द्वारा बनाये गए थे उन्ही शौचालय को दोबारा बनाने का खेल चल रहा पंचायत इनके वाकायदा फोटो अपलोड कर लाखो के वारे न्यारे करने की कोशिश की जा रही है इसकी शिकायत उप सरपंच सुधांशु पालिवाल सहित ग्रामीणों ने  सीईओ जनपद एम एस सैयाम से की जिन्होंने  एक सप्ताह में जांच कर कार्यवाही की बात कही 

ग्राम पंचायत सौजनी में जब मीडिया पहुचा तो ग्रामीणों ने जी आर एस ( ग्राम रोजगार सहायक )के खिलाफ शिकायतों का पुलिंदा खोल दिया कई गम्भीर आरोप लगाते हुए उप सरपंच शुधाशु पालीवाल ने कहा रोजगार ब्रजेश रघुवंशी ने ग्राम में कोई काम नही किया और काम करने की बात करो तो ग्रामीणों से पैसे की माग करता है ग्रामीणों ने साफ तौर पर कैमरे के सामने रोजगार सहायक पर 3 से चार हजार रुपये शौचालय में मागने का आरोप लगाया जीरो टैग कर पुराने शौचालय के फोटो अपलोड कर हेराफेरी ओर सरकार को चुना लगाने की कलाकारी जारी है चाहे मेढ़ बंधान हो या पी एम आवास सब मे भारी लूटमार कर रहे 


ग्रामीणों ने बताया ब्रजेश रघुवंशी पी एम आवास में भी हमसे 10 हजार रुपये की माग करता है ओर बने हुए  शौचालय के पैसे डालने में 6 हजार रुपये मागता है सवाल यह उठता है कई जगह शिकायत करने के बाद भी रोजगार सहायक का कुछ नही होता और स्वच्छ भारत मिशन सहित पी एम आवास ओर मेढ़ बंधान में भृष्टाचार कर ही रहा है 

 रोजगार सहायक व्रजेश रघु पर पहले भी भ्र्ष्टाचार के आरोप लगे है और लंबे समय तक सेवा से पृथक भी कर दिया गया था एक साल पहले राजनीतिक दवाब के चलते बापिस रख लिया सेवा से पृथक रहने के बाद भी रोजगार सहायक सुधरने का नाम नही ले रहा देखने बाली बात होगी जनपद सीईओ एक सप्ताह में क्या जांच करवा पाते है 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार