Breaking

शनिवार, 3 अप्रैल 2021

कांग्रेस विधायक की चुनौती... सबूत के साथ दूंगा माफियाओं की सूची क्या कार्यवाही करेगा प्रशासन..

कांग्रेस विधायक की चुनौती...
सबूत के साथ दूंगा माफियाओं की सूची
क्या कार्यवाही करेगा प्रशासन..





गुना। चांचौड़ा विधायक और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता लक्ष्मण सिंह ने गुरुवार को गुना में मप्र सरकार पर भू-माफियाओं को संरक्षण देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह गुना जिले के कई बड़े भू-माफियाओं के नाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सौंपगे। इसके सुुबूत भी देंगे। अगर मुख्यमंत्री वाकई गंभीर हैं तो कार्रवाई करवाएं। चांचौड़ा विधायक ने पत्रकारों से बातचीत में सीधे तौर पर सिसौदिया को भू-माफियाओं को संरक्षण देने वाला मंत्री बताते हुए कहाकि पहले कहावत थी कि सैया भए कोतवाल तो डर काहे का, लेकिन गुना जिले में यह कहावत बदल गई है और लोग यहां कहते हैं कि संजू भैया भए कोतवाल तो डर काहे का।



कार्रवाई के नाम पर गरीबो को कर रहे परेशान


अल्प प्रवास पर गुना आए विधायक लक्ष्मण सिंह ने भू-माफियाओं के विरोध में तीखे तेवर दिखाए। उन्होंने दावा किया कि मध्यप्रदेश में सबसे ज्यादा वन भूमि पर कब्जा गुना जिले में है। यहां का प्रशासन छोटी-मोटी कार्रवाई तो कर रहा है, लेकिन बड़ी मछलियों पर हाथ नहीं डाला जा रहा है। विधायक ने कहा कि वह सुबूत समेत पूरी मुख्यमंत्री को देंगे, लेकिन उन्हें आशंका है कि हमेशा की तरह सेटिंग हो जाएगी और बड़ी मछलियां बच जाएंगी। उन्होंने कहाकि स्थानीय प्रशासन में हिम्मत नहीं है कि वह बड़े माफियाओं पर हाथ डाले। क्योंकि शिवराज सिंह कहते हैं कि उन्होंने माफिया पर कार्रवाई की पूरी छूट जिला प्रशासन को दे रखी है, यदि ऐसा है तो वह आज ही कार्रवाई कर दें। विधायक ने आरोप लगाया कि मप्र सरकार गरीबों को आपस में लड़ाने का काम कर रही है। कार्रवाई के नाम पर गरीबों को परेशान किया जा रहा है। दो गरीब समाजों को आपस में लड़ाया जाता है। इसके बाद भू-माफिया उनकी आर्थिक कमजोरी का फायदा उठाते हुए जमीन गिरवी रख लेते हैं और धीरे-धीरे वह अपनी जमीन से ही हाथ धो लेते हैं।



रेत खनन में पुलिस-प्रशासन की मिलीभगत


लक्ष्मण सिंह ने रेत के खनन में पुलिस और प्रशासन की मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कहाकि जिलेभर में रेत का खनन करने के लिए पनडुब्बी का इस्तेमाल किया जा रहा है। जबकि पूरे राज्य में कहीं पनडुब्बी का इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं है। विशेष परिस्थितियों में जेसीबी चलाने की अनुमति मिलना चाहिए, इसे हर जगह उपयोग में लिया जा रहा है। मप्र सरकार को रॉयल्टी का भारी नुकसान हो रहा है। विधायक ने कहाकि पुलिस अवैध उत्खनन में माफियाओं का साथ दे रही है। खनन के ठिकानों पर ठेकेदारों के आदमी के साथ-साथ पुलिसकर्मी भी बैठते हैं और संरक्षण देते हैं।


कुंभराज की घटना शर्मनाक


कुंभराज में एक दिन पहले पिता द्वारा अपने पुत्र के शव को ठेले पर ले जाने के मामले में विधायक ने इसे अत्यंत शर्मनाक घटना बताते हुए अफसोस जाहिर किया। उन्होंने कहा कि शव वाहन दिलाना सरकार का काम होता है। राघौगढ़ और चांचौड़ा में शव वाहन है, आवश्यकता पडऩे पर उसे बुलाया जा सकता था। हर क्षेत्र में शव वाहन, एम्बुलेंस आदि की व्यवस्था करना स्वास्थ्य मंत्रालय के जिम्मे है। उन्होंने बताया कि कोविड काल मे विधायक निधि से वे 25 लाख स्वीकृत कर चुके है जिसके उपयोग की जिम्मेदारी कलेक्टर की होती है।





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार