Breaking

मंगलवार, 2 फ़रवरी 2021

मानवता की मिसाल बनी लेडी सिंघम लावारिस लाश का अंतिम संस्कार कराने अपने कंधे पर लाद कर ले गई महिला इंस्पेक्टर..


मानवता की मिसाल बनी लेडी सिंघम
लावारिस लाश का अंतिम संस्कार कराने अपने कंधे पर लाद कर ले गई महिला इंस्पेक्टर..




अपने कर्तव्यों के साथ साथ मानवीय मूल्यों का भी निर्वहन करने वाले लोग विरले ही देखने को मिलते हैं और जो भी व्यक्ति इस तरह का काम कर गुजर जाते हैं वह अपनी उदारता से समाज के लिए एक बड़ी मिसाल बन जाते हैं। आज के इस लेख में हम आपको ऐसी ही एक नेक दिल महिला पुलिस इंस्पेक्टर के विषय में बताएंगे जिन्होंने वर्दी के साथ-साथ एक इंसान होने का भी दायित्व बखूबी निभाया है। दरअसल इस महिला सब इंस्पेक्टर ने एक लावारिस लाश को अपने कंधों पर लादकर 2 किलोमीटर का सफर तय किया और फिर उसका अंतिम संस्कार करवाया गौरतलब हो कि जब महिला सब इंस्पेक्टर मौका ए वारदात पर पहुंची थी तो उस समय उपस्थित कोई भी व्यक्ति लाश को छूना तक नहीं चाह रहा था ऐसे में महिला सब इंस्पेक्टर ने बिना देरी किए लाश को अपने कंधे पर उठाया और पुरुष प्रधान समाज के मुंह पर करारा तमाचा मारते हुए मानवता की मिसाल पेश की।


आगे पढ़ें:- *किसानों को बदनाम करने की* *साजिश रच रही है दिल्ली पुलिस* *...राकेश टिकैत...*


जानिए कहां की है घटना क्या है पूरा मामला


सच्ची मानवता और उसकी सेवा का संदेश देने वाली एक घटना आंध्र प्रदेश के आदिविकोट्टूरू गांव से सामने आया है जहां गांव वालों से सूचना प्राप्त हुई की खेत में एक लावारिस लाश दिल्ली हुई है संभवत लाश 1 दिन पुरानी बताई जा रही है प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक भीख मांग कर अपना गुजर-बसर करता था लेकिन उसकी पहचान अभी तक नहीं हो पाई । मौके पर खड़े गांव वाले तमाशबीन बन कर सारा नजारा देखते रहे लेकिन हर कोई एक लावारिस लाश को कोई छूने से भी घबरा रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस ने  मौका ए वारदात का जायजा लिया तभी महिला सब इंस्पेक्टर श्रीषा को घटना की जानकारी मिली तो वो भी मौके पर पहुंचीं। वहां उन्होंने देखा कि लाश का अंतिम संस्कार तो दूर लोग उसके पास जाने से भी घबरा रहे थे। कोरोना के संक्रमण के डर की वजह से शायद लोग ऐसा कर रहे थे।


*क्या आप भी है..??* *डिप्रेशन के शिकार..* *डिप्रेशन और मानसिक तनाव दूर करने के* *रामबाण उपाय..*


महिला सब इंस्पेक्टर ने अपने हाथों से किया लावारिस लाश का अंतिम संस्कार


 महिला सब इंस्पेक्टर न सिर्फ उस लाश को कंधे पर उठा कर दो किलोमीटर तक पैदल चली बल्कि उसका अंतिम संस्कार भी अपने हाथों से किया। श्रीकाकुलम जिले के कासीबुग्गा में तैनात सब इंस्पेक्टर के. श्रीषा ने जो किया वो मानवता की मिसाल बन गईं। ये कोई श्रीषा का काम नहीं था बल्कि ये रूटीन ड्यूटी से परे था।


*सरकार के बजट ने..* *शराबियों की तोड़ी उम्मीद..* *महंगा पड़ेगा..जाम लड़ाना..*


केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने की महिला सब इंस्पेक्टर की तारीफ़



श्रीषा ने जो किया उसके लिए हर कोई उसकी तारीफ कर रहा है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी कृष्ण रेड्डी ने भी युवा पुलिस अधिकारी के इस मानवीय कदम की तारीफ करते हुए ट्वीट कियाउन्होंने कहा कि ऑफिशियल ड्यूटी से आगे एक कदम उठाकर अंतिम संस्कार में मदद करना दिखाता है कि हमारे देश में हर पुलिसकर्मी कितनी गहराई से अपने अंदर मानवीय मूल्यों को रखता है।


*दिव्यांग भिखारिन से पुलिस ने मांगी घूंस..* *बेटी तलाशने गाड़ी में डलवाया डीजल..*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार








कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार