Breaking

गुरुवार, 21 जनवरी 2021

यहाँ दुष्कर्म पीड़िता बालिका ने नींद की गोलियां खाकर की आत्महत्या.. आखिर सरकारी आश्रम ग्रह में कैसे मिली नींद की गोलियां...??

यहाँ दुष्कर्म पीड़िता बालिका ने नींद की गोलियां खाकर की आत्महत्या.. आखिर सरकारी आश्रम ग्रह में कैसे मिली नींद की गोलियां...??




पहले दुष्कर्म का दंश और फिर उसके बाद लंबी चलने वाली कानूनी प्रक्रिया। सिस्टम की इसी लाचारी से तंग आकर 17 वर्षीय एक दुष्कर्म पीड़िता ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। गौरतलब हो कि दुष्कर्म के मामलों में मध्य प्रदेश के आंकड़े दिन रात बढ़ते जा रहे हैं हालांकि मध्य प्रदेश सरकार की पहल के चलते दुष्कर्म पीड़िता ओं को जल्द से जल्द न्याय दिलाने और दुष्कर्म करने वालों पर सख्त कानून का प्रावधान बनाया जा चुका है लेकिन अक्सर कानूनी प्रक्रियाओं को पूरा होने में इतना वक्त लग जाता है कि दुष्कर्म पीड़िता या तो अपना धैर्य खो बैठती हैं कहानी को भुला देने में ही अपना भला समझती है।


*कमलनाथ की खाट पंचायत पर* *शिवराज का कटाक्ष..*


जानिए आखिर कहां का है यह पूरा मामला


दुष्कर्म पीड़िता के आत्महत्या करने का यह मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सामने आया है जहां पर एक 17 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता ने बुधवार की रात को अत्यधिक मात्रा में नींद की गोलियों का सेवन कर लिया जिसके चलते अस्पताल में उसकी मौत हो गई गौरतलब हो कि दुष्कर्म के इस मामले में एक अखबार का मालिक मुख्य आरोपी है दुष्कर्म की घटना बीते साल हुई थी जिसकी सुनवाई माननीय न्यायालय में विचाराधीन है।


*है लखपति..* *लेकिन नहीं छूट रहा..* *प्रधानमंत्री आवास का मोह..*


पीड़िता ने बालिका आश्रय गृह में खाई नींद की गोलियां


प्राप्त जानकारी के अनुसार किशोरी ने भोपाल स्थित सरकारी बालिका आश्रय गृह मैं नींद की गोलियां अत्यधिक मात्रा में खाली थी इसके बाद उसे सोमवार की रात को गंभीर हालत में सरकारी हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था जिला प्रशासन ने बुधवार को इस मामले में न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ आईडी चौरसिया ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया कि किशोरी को सोमवार की रात को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था बुधवार की रात को उसकी मौत हो गई बरहाल शव का पोस्टमार्टम कराया गया है जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही अग्रिम जांच की जाएगी


*एमपी में बन सकता है..* *"फिजियोथैरेपी परिषद"* *शिवराज सिंह चौहान*


यहां जानिए क्या था दुष्कर्म का केस


आपको बता दें कि पिछले साल जुलाई में स्थानीय अखबार चलाने वाले 68 वर्षीय प्यारे मियां के खिलाफ पांच नाबालिक लड़कियों के साथ बलात्कार करने का आरोप एवं मामला दर्ज किया गया था ज्ञात हो कि भोपाल के रति बाड़ा इलाके में 5 लड़कियों की नशे की हालत में घूमने के बाद प्यारे मियां उसकी साथी स्वीटी विश्वकर्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था मुख्य अभियुक्त प्यारे मियां पर आरोप है कि उसने नाबालिक लड़कियों का यौन शोषण किया है बाद में पुलिस ने आरोपियों को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया था।


*अमेरिका की सहायक स्वास्थ्य सचिव बनी एक ट्रांसजेंडर महिला*


पांच पीड़ित बालिकाओं में से एक थी पीड़िता 


पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) उपेन्द्र जैन ने बताया कि जिस लड़की ने सोमवार रात को नींद की गोलियां खाई थीं, वह इन पांच पीड़ित बालिकाओं में से एक थी। उन्होंने बताया कि पीड़ित लड़कियों को सुरक्षा के मद्देनजर सरकारी बालिका आश्रय गृह में रखा गया था, इनमें से दो बालिकाओं की तबीयत सोमवार रात को बिगड़ गई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।उन्होंने बताया कि इनमें से एक लड़की की हालत बेहद नाज़ुक होने पर सोमवार रात को ही उसे हमीदिया अस्पताल रेफर किया गया था।


*अल्लाह और अली पर क्यों नहीं बनाते वेब सीरीज- साध्वी प्राची*


बड़ा सवाल बालिका आश्चर्य ग्रह में कैसे मिली नींद की गोलियां


आईजी ने बताया कि घटना के बाद जिलाधिकारी ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही असली तस्वीर सामने आएगी। इस बीच, कमला नगर थाना प्रभारी विजय सिसोदिया ने गुरुवार को बताया कि अत्यधिक मात्रा में नींद की गोलियों का सेवन करने वाली दुष्कर्म पीड़िता का हमीदिया अस्पताल में उपचार किया जा रहा था, लेकिन बुधवार रात को अस्पताल में उसकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि यह पता लगाया जा रहा है कि आश्रय गृह में उसे नींद की गोलियां कैसे मिलीं।


*साहब..* *रसूखदारों के भी अतिक्रमण हटाओ..* *अतिक्रमण कार्यवाही को लेकर बोली आम जनता..*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार