प्रज्ञा का सोनिया-राहुल पर प्रहार जिस पर बच्चा-बच्चा हंसता है, उसकी अम्मा उसे प्रधानमंत्री बनाने का सपना देख रही : प्रज्ञा ठाकुर - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

प्रज्ञा का सोनिया-राहुल पर प्रहार जिस पर बच्चा-बच्चा हंसता है, उसकी अम्मा उसे प्रधानमंत्री बनाने का सपना देख रही : प्रज्ञा ठाकुर

प्रज्ञा का सोनिया-राहुल पर प्रहार..
जिस पर बच्चा-बच्चा हंसता है, उसकी अम्मा उसे प्रधानमंत्री बनाने का सपना देख रही : प्रज्ञा ठाकुर





भोपाल। मध्यप्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भाजपा की सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व उनके बेटे राहुल गांधी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि "जिस व्यक्ति पर देश का बच्चा-बच्चा हंसता है, वह और उसकी इटली में बैठी अम्मा अपनी औलादों को प्रधानमंत्री बनाने का सपना देख रही है।" भोपाल में आयोजित एक समारोह में प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, "जिस व्यक्ति पर हमारे देश का बच्चा-बच्चा हंसता है, जहां उसकी शादी को लेकर मजाक बनाया जाता है, ऐसा व्यक्ति प्रधानमंत्री बनने का सपना देखता है। एक बार लड़कियों से पूछा गया कि उस व्यक्ति से शादी करोगे तो उसका लड़कियां ने खूब मजाक उड़ाया। उसकी अम्मा भी दूर देश इटली से भारत में अपनी औलादों को प्रधानमंत्री बनाने के सपने देख रही है।


*एमपी की मासूम के साथ* *गुजरात मे हुई दरिंदगी..* *जानिए क्या है मामला..??*


उन्होंने आगे कहा,

 

"ये सनातनी राष्ट्र है। यहां राष्ट्रभक्ति पैदा नहीं की जाती, जन्म से ही आती है। ये सनातनी परंपराएं हैं, जो इनसे टकराएगा वो नष्ट हो जाएगा।"


*किसान आंदोलन को लेकर..* *एक्शन में योगी सरकार..* *SP, DM को दिए ये निर्देश..*


प्रज्ञा ने कहा,

"जब देखो तब सैनिकों का अपमान हो जाता है। किसान अन्नदाता है और सैनिक देश की सीमा पर खड़े होकर देश की रक्षा करता है और उसकी भूमिका देश की रक्षा करना है, इसलिए वह देशभक्त है। किसान का काम खेती, किसानी और हमारा पेट भरने का है, हर किसी का अपना-अपना एक स्थान और श्रेष्ठ स्थान होता है।"


*राकेश टिकैत ने रोते हुए दी..* *आत्महत्या की धमकी* *कहीं ये घढ़ियाली आंसू तो नहीं..??*


भाजपा सांसद बोलीं,

 

"हर किसी के दिल में राष्ट्र के प्रति सम्मान की भावना होती है, लेकिन ये दोमुंहे लोग जो कहते हैं कि किसान जरूरी है, किसान सही तो हमें सीमा पर सैनिकों की आवश्यकता नहीं है, इसकी परिभाषा क्या? कुछ समझ में नहीं आता। एक अविवेकीय व्यक्ति जिसके पास कोई विवेक, बुद्धि और ज्ञान, कोई गणित, कोई इतिहास, संस्कृति कोई धर्म नहीं, ऐसा विधर्मी व्यक्ति कुछ भी बोल देगा।"


*लाल किला कांड के बाद..* *सामने आया* *"Deep-Sindhu" का बयान* *किसान नेताओ को बेनकाब करने की बात...*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार