लाल किला कांड के बाद.. सामने आया Deep-Sindhu का बयान किसान नेताओ को बेनकाब करने की बात... - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

लाल किला कांड के बाद.. सामने आया Deep-Sindhu का बयान किसान नेताओ को बेनकाब करने की बात...

लाल किला कांड के बाद..
सामने आया Deep-Sindhu का बयान
किसान नेताओ को बेनकाब करने की बात...





Kisan Andolan News: गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले (Red Fort) पर धार्मिक झंडा फहराने और हिंसा भड़काने के आरोपी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) इस घटना के बाद पहली बार सामने आये हैं. जाबी अभिनेता से सामाजिक कार्यकर्ता बने दीप सिद्धू ने गुरूवार को सुबह 2 बजे फेसबुक लाइव किया. इस लाइव में दीप सिद्धू अपनी सफाई पेश कर रहे हैं. फेसबुक लाइव के साथ ही उन्होंने दो वीडियो भी डाला है, जिसमें वह कह रहे हैं कि उनको जानबूझ कर निशाने पर लिया जा रहा है.


*आबकारी की दबिश से* *दवा बाजार में हड़कंप* *दवा व्यापारी और आबकारी आमने सामने*


दीप सिद्धू अपने फेसबुक लाइव में यह सफाई देते हुए दिख रहे हैं कि उन्होंने लाल किला पर किसी तरह की हिंसा नहीं की और ना ही वहां तिरंगा को उतारा और जब तक मैं वहां था तब तक कोई हिंसा नहीं हुई थी. दीप सिद्धू ने इस फेसबुक लाइव में एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि अगर मैं मुंह खोल दूं तो लोग भाग खड़े होंगे.पंजाबी एक्टर ने किसान नेताओं को बेनकाब करने की धमकी देते हुए भी नजर आ रहे हैं.

फेसबुक पर लाइव पर पंजाबी एक्टर ने कहा कि मैं गदर नहीं हूँ मैंने लोगों को लाल किले तक नहीं पहुंचाया. यह जनता का निर्णय था जो पंजाब से विरोध करने के लिए सभी तरह से आया था. कोई भी उनका नेतृत्व नहीं कर रहा था. उन्होंने कहा कि किसान यूनियन के नेता जिन्होंने उन्हें देशद्रोही कहा था, उन्हें शर्म आनी चाहिए क्योंकि वे सरकार की बोली बोल रहे हैं.


*किसान आंदोलन कैसे हुआ हिंसक.??* *जानिए एक एक कदम की विस्तृत जानकारी..*


बता दें कि 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में किसानों के ट्रैक्टर परेड के दौरान जमकर बवाल हुआ था. दिल्ली के लाल किला में पर हिंसक प्रदर्शन हुए थें. इस हिंसा में 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हो गये हैं. वहीं लाल किले को 31 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है. वहीं दिल्ली में हुए हिंसा पर पुलिस ने 25 लोगों पर FIR दर्ज किया है, जिसमें दीप सिद्धू का नाम भी शामिल है।


*यहां ट्रेन में लग रहे थे "पाकिस्तान जिंदाबाद" के नारे* *फिर पुलिस ने निकाली युवकों की देशभक्ति...*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार