महज एक सूर्य नमस्कार से मिलते हैं यह चमत्कारिक लाभ पढ़ें पूरी खबर - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

महज एक सूर्य नमस्कार से मिलते हैं यह चमत्कारिक लाभ पढ़ें पूरी खबर

महज एक सूर्य नमस्कार से 
मिलते हैं यह चमत्कारिक लाभ
पढ़ें पूरी खबर





पुरातन काल में दैनिक दिनचर्या में जानबूझकर कई प्रकार के योगाभ्यास का समावेश किया गया था लेकिन जैसे-जैसे समय बदला दैनिक दिनचर्या में बहुत से बदलाव हो गए यही कारण है कि वर्तमान में पर्याप्त योगाभ्यास ना होने के कारण अक्सर मनुष्य बीमार रहता है आपको बता दें कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए मनुष्य को रोजाना दिन में 1 घंटे कसरत या व्यायाम करना ही चाहिए इससे ना केवल हमारा शरीर चुस्त तंदुरुस्त रहता है बल्कि कई बीमारियों से दूर भी रहता है यदि आप कसरत नहीं कर सकते तो निश्चित ही आपको योग का सहारा लेना चाहिए।


*राहुल गांधी के बयानों पर..* *खुद कांग्रेसी लेते हैं मजे..* *नरेंद्र सिंह तोमर*


योग में सबसे महत्वपूर्ण होता है सूर्य नमस्कार




योगाभ्यास की शुरुआत सूर्य नमस्कार के साथ होती है माना जाता है कि सूर्य नमस्कार जितना धर्म और अध्यात्म के लिए महत्वपूर्ण होता है उतना ही मानव शरीर के लिए भी लाभप्रद होता है जानकारों की मानें तो सूर्य नमस्कार योग क्रिया में सबसे उत्तम और 12 योगासनों को मिलाकर बनाया गया है इसकी संरचना कुछ इस विशेष रूप से की गई है कि महज एक योग आसन को करने से शरीर के समस्त अंगों का व्यायाम हो जाता है आइए जानते हैं सूर्य नमस्कार करने से शरीर को क्या क्या लाभ मिलता है।


  *हैवान पति ने तलवार से..* *पत्नी के गुप्तांग पर किया वार..* *जानिए क्या था कारण..??*


शरीर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार


रोजाना नियम पूर्वक अगर आप सूर्य नमस्कार करते हैं तो आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता हैं।दरअसल इसके 12 आसनों में ही आपको गहरी सांस लेनी होती हैं जो शरीर को फायदा पहुंचाती है।


पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है सूर्य नमस्कार


सूर्य नमस्कार के दौरान पेट के अंगों की स्ट्रैचिंग होती है, जिससे पाचन तंत्र सुधारता है। कब्ज, अपच या पेट में जलन की शिकायत दूर होती है। 


बॉडी में लचीलापन


सूर्य नमस्कार करने से शरीर में लचीलापन बना रहता है।  स्ट्रेचिंग से रीढ़ की हड्डी को मजबूती मिलती है।


मासिक धर्म में लाभ


अगर किसी महिला को अनियमित मासिक चक्र की शिकायत है तो सूर्य नमस्कार के आसन करने से परेशानी दूर होगी। 


त्वचा को चमकदार बनाता है सूर्य नमस्कार


सूर्य नमस्कार का चेहरे पर भी असर पड़ता है। इससे चेहरे पर झुर्रियां नहीं आती है और स्किन में ग्लो आता है।


प्राण वायु का संचार कर रोगों का दमन करता है सूर्य नमस्कार


आसनों के दौरान सांस खींचने और छोड़ने से फेफड़ों को हवा पहुंचती हैं। कार्बन डाइऑक्साइड और बाकी जहरीली गैस से छुटकारा मिलता है, जिससे बॉडी को डिटॉक्स करने में मदद मिलती है।


स्मरण शक्ति को प्रबल करता है सूर्य नमस्कार


सूर्य नमस्कार करने से स्मरण शक्ति में सुधार होता है। नर्वस सिस्टम शांत होता है, जिससे आपकी चिंता दूर होती है। सूर्य नमस्कार से एंडोक्राइन ग्लैंड्स खासतौर थॉयरॉयड ग्लैंड की क्रिया नॉर्मल होती है।


 रीढ़ की हड्डी मजबूत करता है सूर्य नमस्कार


सूर्य नमस्कार के दौरान स्ट्रैचिंग से मांसपेशी और लीगामैंट के साथ रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है। कमर में लचीलापन बढ़ता है। वजन कम करने में भी मदद मिलती है साथ ही मन भी शांत रहता है। सूर्य नमस्कार के आसनों को तेजी से किया जाए तो आपका बढ़िया कार्डियोवैस्कुलर वर्कआऊट हो सकता है। 


*कृषि कानून के विरोध में..* *कांग्रेसियों की ट्रैक्टर रैली...* *चक्का जाम कर फूंका..* *केंद्र सरकार का पुतला..*


यहां जानिए किन लोगों के लिए वर्जित है सूर्य नमस्कार


- गर्भवती महिला तीसरे महीने के गर्भ के बाद से इसे करना बंद कर दें। 


- हर्निया और उच्च रक्तचाप के मरीजको सूर्य नमस्कार नहीं करने की सलाह दी जाती है। 


- पीठ दर्द की समस्या से ग्रस्त लोग सूर्य नमस्कार शुरु करने से पहले उचित सलाह जरूर लें। 


- महिलाएं पीरियड के दौरान सूर्य नमस्कार और अन्य आसन न करें।

*16 जनवरी से होगा..* *कोविड वैक्सीनेशन का शुभारंभ* *जानिए.. किसे.. कब.. और कैसे.. लगेगी वैक्सीन*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार