विवादों में विश्वविद्यालय खिलाड़ियों से पैसा मांगने और छेड़खानी के लगे आरोप - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

विवादों में विश्वविद्यालय खिलाड़ियों से पैसा मांगने और छेड़खानी के लगे आरोप

विवादों में विश्वविद्यालय
खिलाड़ियों से पैसा मांगने

और छेड़खानी के लगे आरोप




हमेशा से विवादों में घिरा रहने वाला शहर का रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय एक बार फिर से चर्चाओं में है वैसे तो अक्सर छात्र संगठन और विश्वविद्यालय के बीच अपने अपने हक की लड़ाई को लेकर तनातनी चलती ही रहती थी लेकिन इस बार विश्व विद्यालय के खेल कर्मचारियों पर काफी संगीन आरोप लगाए गए हैं । जिनमें  खेल कर्मचारियों द्वारा  खिलाड़ियों से पैसा मांगने और महिला खिलाड़ियों के साथ  छेड़छाड़ करने  के आरोप शामिल हैं ।


*बच्चों को मिलेगी..* *भारी स्कूल बैग से राहत..* *स्कूल बैग नीति में बदलाव..*


मैदान में खेलने के बदले.. पैसे की मांग..




रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के खेल मैदान की देखरेख करने वाले कर्मचारियों की कार्यप्रणाली को कटघरे में खड़ा करते हुए खिलाड़ियों ने कुछ ऐसे आरोप पेश किए हैं जिन्हें सुनकर खुद कॉलेज प्रबंधन सोच में पड़ गया है। खिलाड़ियों ने आरोप लगाया है कि विश्वविद्यालय के कर्मचारी खेल मैदान का उपयोग करने को लेकर खिलाड़ियों के साथ सौदा बाजी करते हैं खिलाड़ियों को प्रैक्टिस करने के लिए बकायदा इस मैदान की कीमत चुकानी पड़ती है बेशर्मी की चादर ओढ़े एक खेल कर्मचारी खुलेआम खिलाड़ियों से खेल मैदान का उपयोग करने के एवज में पैसे की डिमांड करते हैं और जिन खिलाड़ियों द्वारा इस कार्यप्रणाली का विरोध किया जाता है उन्हें खेल मैदान में प्रवेश करने तक नहीं दिया जाता।


*समाधान ऑनलाइन..* *सीएम शिवराज के दिखे तीखे तेवर..* *अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के निर्देश..*


महिला खिलाड़ियों की प्रैक्टिस के दौरान की जा रही वीडियो रिकॉर्डिंग




खिलाड़ियों की माने तो खेल कर्मचारियों की मनमर्जी के आगे विश्वविद्यालय प्रबंधन भी बौना साबित हो रहा है यही कारण है कि खेल के मैदान में सिर्फ इन्हीं कर्मचारियों की तूती बोलती है महिला खिलाड़ियों ने इन खेल कर्मचारियों की करतूत उजागर करते हुए आरोप लगाया है कि जब वह मैदान में प्रैक्टिस करती हैं तब उनकी वीडियो रिकॉर्डिंग चोरी छुपे की जाती है इतना ही नहीं लेडीस वॉशरूम में उनके साथ छेड़छाड़ भी की जाती है कुछ हद तक इन बातों को दबाने के लिए महिला खिलाड़ियों पर प्रेशर भी बनाया जाता है।


*बैलगाड़ी में शव रखकर* *अस्पताल पहुंचे परिजन* *मृतिका के साथ-साथ* *सरकारी दावों का भी हुआ* *पोस्टमार्टम*


परेशान खिलाड़ियों ने उच्च शिक्षा मंत्री से की मुलाकात




अपने साथ हो रहे अन्याय और खेल कर्मचारियों की गुंडागर्दी को उजागर करने के उद्देश्य से परेशान खिलाड़ियों ने अल्टो प्रवास पर आए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव से मुलाकात की। खिलाड़ियों ने उच्च शिक्षा मंत्री से मुलाकात के दौरान खेल कर्मचारियों की अभद्रता और खिलाड़ियों के साथ हो रहे दोयम दर्जे के व्यवहार के विषय में चर्चा की। खिलाड़ियों द्वारा लगाए गए आरोपों को गंभीरता से लेते हुए उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने स्थानीय भाजपा विधायक अशोक रोहाणी एवं विश्वविद्यालय कुलपति डॉ कपिल देव मिश्रा से इस समस्या का तुरंत निदान करते हुए खिलाड़ियों को राहत पहुंचाने के आदेश दिए।


*परिवार का गुमशुदा बेटा बनकर* *5 साल से कर रहा था ठगी* *फिर अचानक आ गया* *असली बेटे का फोन* *और खुल गया राज*


क्षेत्रीय विधायक के पास पहले भी आ चुका है मामला


गौरतलब हो कि इस पूरे मामले को लेकर खिलाड़ियों ने क्षेत्रीय विधायक अशोक रोहाणी से पहले भी मुलाकात की थी और अपनी समस्याओं को विधायक अशोक रोहाणी के सामने रखा था विधायक जी ने इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए कहा कि विश्व विद्यालय के खेल मैदान में निजी कोष को खिलाड़ियों की प्रैक्टिस कराने की अनुमति नहीं है और इस बात को लेकर खिलाड़ियों को पहले भी बताया जा चुका है यही कारण है कि निजी कोच के साथ इन खिलाड़ियों को खेल के मैदान में प्रवेश नहीं दिया जाता है लेकिन उच्च शिक्षा मंत्री के आश्वासन पर विश्वविद्यालय के साथ चर्चा कर खिलाड़ियों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

*दुष्कर्म की जांच को प्रभावित करने* *2 पुलिस वालों ने बदल दिए* *आरोपी के ब्लड और स्पर्म के सैंपल*


विश्वविद्यालय कुलपति ने दिया निष्पक्ष जांच का आश्वासन


खिलाड़ियों की उच्च शिक्षा मंत्री से हुई मुलाकात और मंत्री महोदय के आश्वासन के बाद विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से कुलपति डॉ कपिल देव मिश्रा ने पूरे मामले संज्ञान में लेते हुए कहां की विश्वविद्यालय प्रबंधन शासकीय नियमों का पालन करते हुए सभी मापदंडों को निर्धारित करता है खेल मैदान में निजी कोच द्वारा शासकीय भूमि का उपयोग कर प्रैक्टिस नहीं कराई जा सकती यही कारण है कि छात्रों को खेल मैदान का उपयोग करने की बंदिशें रखी गई थी वही महिला खिलाड़ियों के साथ छेड़छाड़ के मामले को गंभीरता से लेते हुए कुलपति डॉ कपिल देव मिश्रा ने खिलाड़ियों को आश्वासन दिया है कि जल्द ही इस पूरे मामले की विशेष जांच की जाएगी और दोषी कर्मचारियों पर कार्यवाही की जाएगी।

*अधिकारियों से बचे..* *तब तो गरीबों को मिले..* *पीएम आवास योजना में घोटाला*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

पेज