विजय दिवस पर जली.. स्वर्णिम विजय मशाल.. - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

विजय दिवस पर जली.. स्वर्णिम विजय मशाल..

विजय दिवस पर जली.. 
स्वर्णिम विजय मशाल..

पीएम मोदी ने किया प्रज्वलित....




हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा कर देने वाला दिन 16 दिसंबर भारत में विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। आपको बता दें कि इसी दिन पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध में 1971 में भारत को जीत मिली थी और केवल 13 दिनों के युद्ध के बाद एक संप्रभु राष्ट्र के रूप में बांग्लादेश अस्तित्व में आया था। 1971 के युद्ध को सबसे छोटे युद्धों में गिना जाता है। इस युद्ध ने दक्षिण एशिया का भौगोलिक और राजनीतिक परिदृश्­य बदल दिया था।


*Twiter पर लगा..* *4 करोड़ का जुर्माना..* *जानिए क्या है मामला..*


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के 50 साल पूरा होने के अवसर पर बुधवार को राजधानी दिल्ली स्थित राष्ट्रीय समर स्मारक की अमर ज्योति से ‘स्वर्णिम विजय मशालें’ प्रज्­ज्वलित कर उन्हें देश के विभिन्न हिस्सों में रवाना किया। विजय दिवस के अवसर पर आयोजित इस कार्यक्रम में मोदी के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) विपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख उपस्थित थे। इस मौके पर रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद येसो नाइक और रक्षा मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ सिविल व सैन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।


*ब्लाइंड बुक पब्लिकेशन का* *ब्लाइंड गेम* *युवाओं से की दो करोड़ की ठगी* *पढ़िए शहर में हुई 2 करोड़ की धोखाधड़ी की पूरी कहानी..विस्तार से*


प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर पुष्पचक्र सर्मिपत कर 1971 के युद्ध के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की तथा आगंतुक पुस्तिका में अपने विचार भी व्यक्त किए। मोदी ने राष्­ट्रीय समर स्­मारक पर लगातार जलती रहने वाली ज्­योति से चार विजय मशालें प्रज्­ज्वलित कीं और उन्­हें 1971 के युद्ध के परमवीर चक्र और महावीर चक्र विजेताओं के गांवों सहित देश के विभिन्­न भागों के लिए रवाना किया। बाद में प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘विजय दिवस के मौके पर हम अपने सशस्त्र बलों के अदम्य साहस को याद करते हैं, जिसके फलस्वरूप 1971 के युद्ध में अपने देश को निर्णायक विजय हासिल हुई। इस विशेष दिन पर मुझे राष्ट्रीय समर स्मारक पर र्स्विणम विजय मशाल प्रज्जवलित करने का सम्मान मिला।’ इन विजेताओं के गांवों के अलावा 1971 के युद्ध स्­थलों की मिट्टी को नई दिल्­ली के राष्­ट्रीय युद्ध स्­मारक में लाया जाएगा।


*नशे की सौदागर आंटी का..* *क्या है.. बीजेपी कनेक्शन..??* *कांग्रेस ने साझा की तस्वीर* *पढ़िए ..विकास की कलम..पर*

‘र्स्विणम विजय मशाल’ के रवाना होने के साथ ही अब पूरे देश में 1971 के युद्ध की याद में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जहां पर पूर्व सैनिकों और वीर नारियों को सम्मानित किया जाएगा। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक साल भर होने वाले समारोहों के दौरान सेना के बैंड का प्रदर्शन, सेमिनार, प्रदर्शनी, उपकरणों का प्रदर्शन, फिल्म समारोह, संगोष्ठी और रोमांचक गतिविधियों के आयोजन जैसे कार्यक्रमों की योजना बनाई गई है। 


*माफियाओं के लिए दहशत भरा....सरकारी फरमान* *फिर चला पीला पंजा* *करोड़ों की संपत्ति ज़मीदोज़.*



नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार








पेज