Breaking

सोमवार, 21 दिसंबर 2020

यह दवा ले लो..तो रात भर पढ़ सकोगे.. कुछ इस अंदाज में.. बेची जा रही थी ड्रग्स..

यह दवा ले लो..तो
रात भर पढ़ सकोगे.. 
कुछ इस अंदाज में.. 
बेची जा रही थी ड्रग्स..




मध्यमवर्गीय हो या फिर करोड़पति नशे का कारोबार करने वालों के लिए युवा वर्ग काफी आसान शिकार है पहले तो यह अपने नशे को सहजता से पढ़ने वाले कॉलेज स्टूडेंट्स तक पहुंचाते हैं और जब वे इस नशे के आदी हो जाते हैं तो फिर उनसे भारी भरकम कीमत भी वसूली जाती है नशे का जाल आम सड़कों में दिखने वाले ठेले टपरों से लेकर बड़े-बड़े पब और डिस्को में भी फैला हुआ है हाल ही में हुई पूछताछ के दौरान कई बेहद चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं जिनमें नशे का सामान बेचने वाले ड्रग पेडलर ने खुलासा करते हुए बताया कि वह पढ़ने लिखने वाले छात्रों को ड्रग्स यह बेच कर दिया करते थे कि इस दवाई को खाने से वे रात भर आसानी से पढ़ सकेंगे और उन्हें नींद भी नहीं सताएगी आइए जानते हैं और क्या-क्या खुलासे किए इन नशे के सौदागरों ने...


अभी-अभी..*MP के पूर्व CM* *मोती लाल बोरा का निधन..* *93 साल की उम्र में ली अंतिम सांस*


यहां जानिए कहां हुआ.. नशे के सौदागरों का खुलासा


मध्यप्रदेश में इन दिनों नशे का कारोबार करने वालों की शामत सी आई है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सख्त रवैया के बाद प्रदेश भर में नशे का कारोबार करने वाले माफियाओं पर पुलिस का शिकंजा कसता चला जा रहा है मध्य प्रदेश के व्यवसायिक गढ़ कहे जाने वाले इंदौर में सामने आए ड्रग्स रैकेट में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं। आरोपियों ने पूछताछ के दौरान पुलिस के बताया कि वे छात्रों को भी नशे की लत डालते थे। इसके लिए वह छात्रों से कहते थे कि यह दवा लोगे तो रातभर पढ़ सकोगे।  इससे वे घंटों बिना नींद लिए अच्छे से पढ़ाई कर सकते हैं। आरोपियों के इस खुलासे से पुलिस भी हैरान है। 


*"शनि -बृहस्पति का संयुग्मन"* *दो सितारों का जमीं पर है मिलन* *आज की रात* *देखना ना भूलें यह अद्भुत खगोलीय घटना*


डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र ने दी खुलासे की जानकारी


जानकारी के मुताबिक, डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने ड्रग पैडलर्स जोजो उर्फ सोहन, सद्दाम, विक्की परियानी, धीरज, कपिल, राज उर्फ मुन्ने प्रजापत, राहुल और जितेंद्र से करीब तीन घंटे तक पूछताछ की। इस दौरान उनसे शहर में ड्रग्स के कारोबार के संचालन और युवाओं को टारगेट करने का तरीका पूछा। पैडलर्स ने बताया कि वे लोग हाईप्रोफाइल सोसायटी और मध्यम वर्ग के उन युवाओं को टारगेट करते थे, जो पब कल्चर के आदी हैं। ऐसे में पैडलर्स इन युवाओं को टारगेट करने के लिए कई तरीके अपनाते थे। पहला तरीका उन युवाओं के साथ नशा करना होता था। वहीं, दूसरे तरीके में गैंग की युवतियों से उन युवाओं की दोस्ती कराई जाती थी। 

डीआईजी ने बताया कि इस मामले में गिरोह के सरगना सागर जैन को भी रिमांड पर ले लिया गया है। उसकी संपत्ति की जानकारी जुटाई जा रही है। फिलहाल इस कारोबार से जुड़े करीब 26 लोगों के बारे में पता चला है, जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा। 

पूछताछ के दौरान एक पैडलर ने बताया कि वह पब में आने वाले युवाओं को सिगरेट में चरस, गांजा, स्मैक भरकर नशे का आदी बनाते थे। इस तरह से उन्होंने काफी लोगों को अपने जाल में फंसाया।


*बंदूक की नोक पर खरीदी..* *शादी की शेरवानी..* *पढ़िए अनोखी लूट की दास्तान..*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार