Breaking

रविवार, 20 दिसंबर 2020

गृहिणी से हुई सायबर ठगी खाते से उड़ाए 42 हजार..

गृहिणी से हुई सायबर ठगी

खाते से उड़ाए 42 हजार..




साइबर ठगों का बैंक वाला बन कर आम जनता को फंसाने का धंधा काफी चर्चाओं में है । और हो भी क्यों ना महज एक फोन कॉल और कभी-कभी तो लाखों की कमाई। प्रमुख तौर पर उनके सबसे सरल शिकार कम पढ़े लिखे वृद्धजन और घर की गृहणियां होती हैं। जो अक्सर इन लोगों के झांसे में आ जाते हैं और फिर अपने खाते की जमा पूंजी गवा बैठते हैं। जानकारों की माने तो इस तरीके के धोखाधड़ी वाले धंधे के लिए बकायदा एक कॉल सेंटर भी संचालित किया जाता है जिसमें धोखाधड़ी करने के लिए विशेष ट्रेनिंग भी दी जाती है इन कॉल सेंटरों में बेरोजगार युवक युवतियां बकायदा दिन दिहाड़ी पर काम करते हैं। फर्जी बैंक वाला बंद कर एक हाउसवाइफ को ठगने का मामला सामने आया है जहां बैंक के एटीएम को अपडेट करने के बहाने ग्रहणी के खाते से ₹42000 की ठगी की गई।


बढ़े हुए पेट से अगर आप भी हैं परेशान तो यह खबर आपके लिए है*तोंद हो जाएगी छूमंतर..* *बस अपनाएं ये घरेलू उपाय..*


यहां जानिए... कहां का है मामला और कैसे हुई वारदात..??


मामला मध्य प्रदेश के उज्जैन से है जहां सेठी नगर निवासी एक ग्रहणी से क्रेडिट कार्ड का सीवीवी नंबर पहुंचकर उसके खाते से ₹42000 निकाल लिए गए।प्राप्त जानकारी केअनुसार गृहिणी पलक ने  कुछ दिनों पूर्व ही स्टेट बैंक के अपने खाते से क्रेडिट कार्ड लिया था। उसका पिन नम्बर नहीं आया था। इधर उसके पास हैदराबाद से एक फोन आया और दूसरी ओर से महिला ने बताया कि वह स्टेट बैंक से बोल रही है। आपका पिन नम्बर नहीं आया है। आप अपने क्रेडिट कार्ड के सीवीवी नम्बर और जन्म दिनांक बता दें।  पीड़िता द्वारा जानकारी देते ही उसके खाते से पैसे निकाल लिए गए।


*बंदूक की नोक पर खरीदी..* *शादी की शेरवानी..* *पढ़िए अनोखी लूट की दास्तान..*


माधव नगर थाना पुलिस कर रही मामले की पड़ताल।


माधवनगर थाना पुलिस के अनुसार पीडि़ता पलक पति पवन ने फर्जी बैंक कर्मी को  फोन पर ही कार्ड के पिछे लिखे सीवीवी नम्बर और जन्म दिनांक बता दी। इस दौरान उसके पति बाहर गए हुए  थे। जब वे घर आए तो उन्होने सारी जानकारी दी। पति ने ऑनलाइन पैमेंट की स्थिति देखी तो चौंके। उन्होने सायबर सेल को सूचना दी। जिस महिला ठग ने फोन किया था, उसने 42-42 हजार दो बार पलक के खाते से निकाले थे। इन रूपयों में 42 हजार तो ठग महिला ने उस खाते से हटा लिए लेकिन शेष राशि उसी में जमा थी। इस पर सायबर सेल ने उक्त खाता सीज किया। इस प्रकार पलक के 84 हजार रू. जो ठगे गए थे,उसमें से 42 हजार रू. वापस मिल गए। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया है।


*सीएम हेल्पलाइन से* *शिकायत हटवाने* *सीएमओ की धमकी* *कहा- 24 घंटे के अंदर हटा लो शिकायत* *वरना करवा दूंगा-FIR*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार