कड़कड़ाती ठंड में परेशान हो रहा किसान विद्युत विभाग खेल रहा आंखमिचौली अब..कैसे होगी सिंचाई..?? - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

कड़कड़ाती ठंड में परेशान हो रहा किसान विद्युत विभाग खेल रहा आंखमिचौली अब..कैसे होगी सिंचाई..??

कड़कड़ाती ठंड में 
परेशान हो रहा किसान
विद्युत विभाग खेल रहा आंखमिचौली
अब..कैसे होगी सिंचाई..??



(हाशिम खान-सिवनी)

पूरे देश मे किसान आंदोलन की आग लगी हुई है लेकिन वावजूद इसके किसानों की परेशानियां काम होने का नाम नहीं ले रहीं। खेती किसानी के लिए सबसे उपयुक्त समय पर जब फसलें खेतों में खड़ी है। और सिंचाई के लिए पर्याप्त बिजली पानी न मिला तो अन्नदाता की सारी मेहनत बेकार हो जाएगी ये सब जानने के बाद भी विद्युत विभाग के आला अधिकारी कानों में रुई ठूंस कर बैठे हुए है। ऐसे में गुस्साए किसानों ने विद्युत विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचकर जिम्मेदार अधिकारियों की जमकर खबर ली.....


*नाबालिक से दुराचार करने वाले* *आरोपी शिक्षक को मिली* *आजीवन कारावास की सजा*


अस्थाई कनेक्शन तो बांट दिए पर बोल्टेज का रोना जारी है..




 विद्युत वितरण कंपनी के द्वारा मनमाने ढंग से स्थाई व अस्थाई कनेक्शन सिंचाई के लिए दे दिए गए हैं लेकिन हाई पावर के ट्रांसफार्मर नहीं लगाए गए हैं जिससे विद्युत व्यवस्था बदहाल हो गई है किसान कड़कड़ाती ठंड में खेत में सिंचाई करने पहुंचता है लेकिन लो वोल्टेज की समस्या से उनके मोटर पंप नहीं चल पाते हैं जिससे किसान को परेशान होना पड़ रहा है।


आगे पढ़िए...*संकट में वाॅरियर्स* *सरकार से लगाई* *मदद की गुहार* *जानिए आखिर क्या है मामला..?*


रसूखदारों के खेतों में पैसे लेकर 24 घंटे दे रहे सप्लाई...


 इतना ही नहीं किसानों ने बताया कि विभाग के द्वारा सौतेला व्यवहार किया जा रहा है कुछ किसानों से अधिक पैसे लेकर उन्हें 24 घंटे गांव के लिए सप्लाई वाली बिजली से भी सिंचाई के लिए कनेक्शन दे दिया गया है जबकि सिंचाई के लिए 10 घंटे बिजली सप्लाई वाला सिस्टम रखा गया है जिस में भी पर्याप्त बिजली सिंचाई के लिए नहीं मिल पा रही है। 


किसानों ने विद्युत कार्यालय पहुंचकर किया हल्ला बोल...




बताया जाता है कि हर दिन विद्युत वितरण कंपनी कार्यालय छपारा में किसानों का जमावड़ा लगा रहता है । लेकिन लाख शिकायतें होने के बाद भी अधिकारी उनकी एक बात नहीं सुनते इस बात से तंग आकर शुक्रवार को कड़वी गोरखपुर अंधयारी ग्राम के दर्जनों किसान विद्युत वितरण कंपनी कार्यालय पहुंचे जिन्होंने अपनी समस्याओं को रखते हुए अधिकारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई।


*गृहमंत्री का जबलपुर में बड़ा बयान* *CAA-NRC में दंगा भड़काने वाली ताकतें* *आंदोलन को दे रही हवा..*


मोटी रकम जमा करने के बाद भी नहीं मिल रहा लाभ





 किसान मंगलसी भारती ने बताया कि स्थाई और अस्थाई कनेक्शन के लिए भारी भरकम बिजली बिल जमा करवा लिया गया है लेकिन पर्याप्त बिजली नहीं दी जा रही है जिससे सिंचाई नहीं हो पाई है तो बोई हुई गेहूं अंकुरित भी नहीं हो पाई है जिसे चीटियां खा कर बर्बाद कर रही जिससे किसानों को दोहरी मार झेल ना पड़ रहा है बीज भी बर्बाद हो रहा है बिजली के लिए जो भारी-भरकम राशि जमा की गई उससे भी कोई फायदा नहीं हो रहा है।


हर बार सिर्फ आश्वासन देकर लौटा देते है अधिकारी


पिछले 15 दिनों से तीन बार कार्यालय के चक्कर काट चुके हैं लेकिन अधिकारियों के द्वारा अब तक ट्रांसफार्मर लगाने की कोई कार्यवाही नहीं की गई है जिससे विद्युत व्यवस्था ठप पड़ी है सिंचाई नहीं होने से कड़कड़ाती ठंड में किसानों को खेतों में परेशान होना पड़ रहा है इसी तरह गोरखपुर कड़वी के ग्राम के किसानों सियाराम छोटेलाल धन सिंह ने बताया कि वह भी लो वोल्टेज की समस्या से जूझ रहे हैं लेकिन इसके बाद भी अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं आश्वासन देकर लौटा देते हैं।


सहायक अभियंता ने दिया आश्वासन


बड़ी संख्या में पहुंचे क्षेत्रीय किसानों की भीड़ देख आनन फ़ानन में विभाग के बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे और गुस्साए किसानों से बातचीत कर मामले को शांत करने का प्रयास किया गया। किसानों से हुई बातचीत के बाद  सहायक अभियंता

भवेश तेकाम  ने बताया कि....लो वोल्टेज की समस्या की शिकायत क्षेत्र से मिल रही है जिसे शीघ्र ठीक करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उपरोक्त मामले को गंभीरता से लेते हुए उच्च अधिकारियों को अवगत कराया गया है। जहां जरूरत होगी वहां सर्वे के पश्चात उच्च क्षमता वाले ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे।

पढ़ना न भूलें...*सहायक आबकारी आयुक्त की कारगुजारीओं से..* *सरकार को 100 करोड़ का चूना..* *हाईकोर्ट में पूर्व मंत्री ने लगाई याचिका...*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार






पेज