Breaking

. विकास की कलम देश में सबसे तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है... जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रामाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने समर्पित पाठक वर्ग तक पहुंचाती है... इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है... हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके... आप भी अपने क्षेत्र से जुडी घटनाये समस्याएँ एवं समाचार हमारे Whatsapp 8770171655 पर भेज सकते है...

शुक्रवार, 20 नवंबर 2020

फिर गरमाया TRP SCAME का मामला E.D ने दर्ज की मनी लॉन्ड्रिंग की शिकायत

फिर गरमाया TRP SCAME का मामला

E.D ने दर्ज की मनी लॉन्ड्रिंग की शिकायत




बीते दिनों उठे तव चैनलों के TRP SCAME का मुद्दा एक बार फिर से सुर्खियों में आ रहा है। इस बार प्रवर्तन निदेशालय (E.D) ने मुंबई पुलिस द्वारा की जा रही कथित फर्जी टीआरपी घोटाले के संबंध में मनी लॉन्ड्रिंग की शिकायत दर्ज की है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार टीआरपी घोटाले में पैसे के लेन-देन की जांच की जा रही है। इसे लेकर ही ईडी ने शिकायत दर्ज की है।


आपको बतादें की प्रवर्तन निदेशालय स्वतंत्र रूप से कार्य करने में सक्षम है जिसे मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून के तहत  जांच के लिए किसी राज्य की सहमति की जरूरत नहीं है। जाहिर है फर्जी टीआरपी घोटाले की जांच शुरू करने में ईडी पूरी तरह स्वतंत्र है। गौरतलब हो कि इस पूरे मामले में मुंबई पुलिस पहले से जांच कर रही है और कुछ लोगों को गिरफ्तार भी कर चुकी है। मगर, मुंबई पुलिस पर जांच में पक्षपात के आरोप भी लग रहे हैं। आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट (ECRR) दाखिल की है, जो पुलिस प्राथमिकी के समान है। ईडी ने बीते माह अक्टूबर में दाखिल की गई मुंबई पुलिस की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद यह मामला दर्ज किया है।


*कोरोना को लेकर सख्त हुए शिवराज* *इन 5 जिलों में लागू होगा रात्रिकालीन कर्फ्यू*


नामजद समाचार चैनलों के अधिकारियों से पूछताछ कर सकती है - ED


सूत्रों ने कहा कि ईडी जल्द ही पुलिस प्राथमिकी में नामजद समाचार चैनलों के अधिकारियों और अन्य लोगों को तलब करके उनसे पूछताछ करेगी और उनके बयान दर्ज करेगी। दरअसल, ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के जरिये एक शिकायत दाखिल की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टीवी चैनल टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट (टीआरपी) से छेड़छाड़ कर रहे हैं।


*जब सफाई कर्मी को दीवाली में मिले..* *मिठाई के डब्बे ने उगले 10 लाख रुपये..*


BARC की शिकायत पर हुआ खुलासा


ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल की इस शिकायत के बाद फर्जी टीआरपी घोटाला सामने आया था। पुलिस ने आरोप लगाया था कि कुछ चैनल टीआरपी बढ़वाने के लिए रिश्वत दे रहे हैं ताकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई बढ़ सके। आरोप है कि जिन घरों में टीआरपी को मापने वाले मीटर लगे हुए थे, उन्हें कोई एक चैनल खोले रखने के लिये रिश्वत दी जा रही थी। टीवी चैनलों के लिए टीआरपी काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनकी विज्ञापन से होने वाली कमाई इसी पर निर्भर करती है।


*बिना मास्क पहने सड़कों में घूमने फिरने वाले* *हो जाएं सावधान* *क्योंकि अब आ चुका है* *कलेक्टर साहब का फरमान* *बिना मास्क वालों को 10 घंटे की जेल*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें