Breaking

. विकास की कलम देश में सबसे तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है... जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रामाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने समर्पित पाठक वर्ग तक पहुंचाती है... इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है... हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके... आप भी अपने क्षेत्र से जुडी घटनाये समस्याएँ एवं समाचार हमारे Whatsapp 8770171655 पर भेज सकते है...

गुरुवार, 19 नवंबर 2020

जनसंपर्क सहायक संचालक पर चला राज्य सूचना आयोग का चाबुक RTI को हल्के में लेना पड़ा भारी...

जनसंपर्क सहायक संचालक पर चला
राज्य सूचना आयोग का चाबुक
RTI को हल्के में लेना पड़ा भारी...



(भोपाल-डेस्क)

मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग के राज्य मुख्य सूचना आयुक्त माननीय श्री ए के शुक्ला ने मंगलवार 10 नवंबर 2020 को अपील प्रकरण क्रमांक ए 3140 के मामले में सुनवाई करते हुए मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग भोपाल के तात्कालिक लोक सूचना अधिकारी सहायक संचालक मुकेश दुबे को दोषी मानते हुए 25000 के जुर्माने से दंडित किया। 


जुर्माने के बाद विभाग के भ्रस्टाचारियों में मची खलबली..




उक्त आदेश से जनसंपर्क विभाग में खलबली मच गई है वहीं लोगों की आस्था राज्य सूचना आयोग के निष्पक्ष निर्णय से विश्वास बढ़ा है। मामले के संबंध में बताया गया है कि अपीलकर्ता पत्रकार विनय जी डेविड ने जनसंपर्क विभाग में सूचना के अधिकार के तहत दिनांक 19 अप्रैल 2018 को जनसंपर्क विभाग द्वारा वेबसाइट न्यूज़ पोर्टल को दिए गए विज्ञापनों की जानकारी चाही थी। जिस पर जनसंपर्क विभाग में पदस्थ लोक सूचना अधिकारी मुकेश दुबे ने निर्धारित समय पर जानकारी उपलब्ध नहीं कराई ।जिससे प्रतिवेदन होकर पत्रकार विनय जी डेविड ने राज्य सूचना आयोग के समक्ष द्वितीय अपील प्रस्तुत कर जानकारी उपलब्ध नहीं कराए जाने व दोषी अधिकारियों को दंडित करने का निवेदन किया था।


*गौ रक्षा संकल्प हेतू..* *गौ केबिनेट का गठन..* *शिवराज सरकार बना रही और भी शक्तिशाली गौ-कैबिनेट* *जानिए इस बार क्या है खास..*


कारण बताओ नोटिस को भी किया गया नजरअंदाज




मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग के द्वारा सूचना के अधिकार नियम के तहत कार्रवाई नहीं करने वाले लोक सूचना अधिकारियों को विधि विरुद्ध अनुसार शास्ति अधिरोपित करने सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 की धारा 20(1 ) के तहत कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया था।  जिसमें अपना पक्ष रखने के लिए 16 अक्टूबर 2020 को उपस्थित होकर प्रस्तुत करने को कहा था। परंतु उक्त प्रकरण में तात्कालिक लोक सूचना अधिकारी मुकेश दुबे उपस्थित नहीं हुए वही राज्य सूचना आयोग में वर्तमान लोक सूचना अधिकारी दुर्गेश रैकवार ने उपस्थित होकर जवाब प्रस्तुत किया। उन्होंने ढाई पृष्ठ का लिखित जवाब देते हुए मुख्य सूचना आयुक्त के समक्ष पूरा प्रकरण मेरी अवधि के पूर्व का है जानकारी देते हुए अवगत कराया कि प्रकरण के समय जनसंपर्क संचनालय में लोक सूचना अधिकारी श्री जीएस वाधवा संयुक्त संचालक और उक्त समय में मुकेश दुबे सहायक संचालक लोक सूचना अधिकारी नियुक्त थे। 


*देश की राजधानी में* *लॉक-डाउन-2* *वैवाहिक उत्सवों की जारी हुई गाइडलाइन..*


एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ने की चाल हुई बेअसर


उक्त प्रकरण में लोक सूचना मुख्य आयुक्त ने तात्कालिक जनसंपर्क अधिकारी मुकेश दुबे को 6 नवंबर 2020 को आयोग के सामने कारण बताओ नोटिस का जवाब देने उपस्थित होकर जवाब चाहा था। लोक सूचना अधिकारी मुकेश दुबे ने आयोग के सामने अपना पक्ष रखते हुए जितनी भी दलीले दी वह कोई भी काम नहीं आ सकी, मुकेश दुबे ने इस प्रकरण में आयोग के सामने की गई लापरवाही का ठीकरा संबंधित विभाग में पदस्थ क्रांति दीपालु ने पर थोपने का प्रयास किया आयोग ने इस दलील को भी आस्वीकार कर दिया।


*अपने यूजर्स के एक्सपीरियंस को और भी बेहतर बनाने* *Whatsapp जल्द ला रहा है* *ये खास फीचर्स..* *जानने के लिए जरूर पढ़ें...*


मामले को गंभीरता से लेते हुए आयोग ने अपनाया कड़ा रुख




आयोग ने कड़ी टिप्पणी करते हुए माना कि लोक सूचना अधिकारी ने अपने कर्तव्य का पालन समय से नहीं किया और अपीलार्थी को गुमराह करते रहे। बावजूद जानकारी उपलब्ध न कराने पर 10 नवंबर 2020 को सुनवाई करते हुए राज्य सूचना आयुक्त ने लोक सूचना अधिकारी मुकेश दुबे को दोषी पाया की लापरवाही स्पष्ट रूप से पाई गई, जिसके तहत उक्त जुर्माने की राशि 1 माह में किए जाने के आदेश पारित किया वही नियत अवधि में राशि जमा नहीं कराने पर मध्य प्रदेश सूचना के अधिकार (फीस तथा अपील) नियम 2005 के नियम 8(6) के तहत अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।


*दिल्ली में इस बार* *सार्वजनिक रूप से नहीं हो सकेगी* *छठ पूजा* *दिल्ली हाईकोर्ट ने भी दी सहमति..*


सहायक संचालक मुकेश दुबे पर राज्य सूचना आयोग ने ठोका ₹25000 का जुर्माना...




वही अधिरोपित शास्ति की वसूली हेतु स्पष्ट जिला जनसंपर्क संचलनालय मध्य प्रदेश भोपाल के लोक प्राधिकारी को निर्देशित किया है कि मुकेश दुबे प्रत्यर्थी पर ₹25000 अधिरोपित शास्ति की टीप प्रत्यर्थी की सेवा पुस्तिका में अंकित की जावे जिससे लोक सूचना अधिकारी से सेवा काल में वसूली नहीं होने पर अंतिम भुगतान के समय उनके देयकों से यह राशि वसूल की जाकर शासकीय कोषालय में जमा कराई जा सके।


*आस्था का महापर्व छठ हुआ शुरू..* *लेकिन अभी तक नहीं हुई..* *घाटों की सफाई, लोगों में आक्रोश*


आयोग के आदेश के उपरांत अभी तक अपीलार्थी को नहीं दी गई चाही गई जानकारी


इस पूरे मामले में माननीय मुख्य सूचना आयुक्त मध्य प्रदेश राज्य सूचना आयोग ने अपीलार्थी विनय जी डेविड को संपूर्ण जानकारी देने के आदेश 13 जुलाई 2020 को एक माह ( 30 दिवस ) के अंदर प्रमाणिक दस्तावेज को देने का फैसला दिया । उक्त आदेश के समय लोक सूचना अधिकारी दुर्गेश रैकवार है और फैसले के समय आयोग के समक्ष उपस्थित भी रहे और अपीलार्थी विनय जी डेविड को आयोग के समक्ष 71 पृष्ठ की कंप्यूटरकृत तैयार करके प्रमाणित जानकारी भी उपलब्ध कराई थी। शेष जानकारी आयोग के आदेश के उपरांत भी अभी तक अपीलार्थी को प्रदान नहीं की गई है।


ख़बर जो जरूरी है :- *बिना मास्क पहने सड़कों में घूमने फिरने वाले* *हो जाएं सावधान* *क्योंकि अब आ चुका है* *कलेक्टर साहब का फरमान* *बिना मास्क वालों को 10 घंटे की जेल*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें