बच्चे से कुकर्म कर , करंट लगाकर की हत्या...फिर पकड़े जाने के डर से खुद भी खुदकुशी की - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

बच्चे से कुकर्म कर , करंट लगाकर की हत्या...फिर पकड़े जाने के डर से खुद भी खुदकुशी की

बच्चे से कुकर्म कर ,

करंट लगाकर की हत्या...

फिर पकड़े जाने के डर से 

खुद भी खुदकुशी की


बच्चे से दुष्कर्म कर करंट लगाकर की हत्या


नशे का खुमार और हवस में पागल हो गए एक युवक ने पहले तो एक बच्चे के साथ दुष्कर्म किया और फिर पानी गर्म करने वाली रॉड से करंट लगाकर उस बच्चे को मौत के घाट उतार दिया जैसे ही नशा फटा उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और फिर पकड़े जाने के डर से आरोपी ने खुद को भी मौत के मुंह में पहुंचा दिया। आइए जानते हैं कहानी नशा हवस और पश्चाताप की


पोखरण में गूंजी.."नाग" इस एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का हुआ आखिरी ट्रायल.. DRDO ने की है विकसित


कहां का है मामला क्या है घटना


यह पूरा मामला मध्य प्रदेश के  उज्जैन जिले का है । प्राप्त जानकारी के अनुसार न्यू इंदिरा नगर में रहने वाले दिव्यांग मुकेश  प्रजापति का बेटा कान्हा उर्फ कृष्णा शाम को अपने ही घर के पास बच्चों के साथ गरबा खेल रहा था तभी किराएदार सुनील उसे बहाने से कमरे में बुलाकर ले आया और नशे की हालत में उसके साथ दुष्कर्म किया। हैवानियत की हद तो तब हो गई जब दुष्कर्म के बाद किराएदार सुनील ने पानी गर्म करने वाली रॉड से करंट लगाकर बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। इधर बच्चे के परिजन उसकी गुमशुदगी की बात को लेकर थाने जा पहुंचे जहां पुलिस प्रशासन के साथ खुद एडिशनल एसपी अमृतसर रात भर बच्चे की तलाश में भटकते रहे। सुबह जब किराएदार के कमरे की तलाशी ली गई तो कमरे से बच्चे का शव बरामद किया गया घटना की सूचना पर आनन-फानन में पुलिस महकमे के तमाम आला अधिकारी मौका ए वारदात पर पहुंचे और कमरे की तलाशी लेने पर पानी गर्म करने वाली रॉड जप्त की गई।


मिस्र में पुरातत्व विदों को मिले 2500 साल पुरानी ममी के 80 ताबूत, देखने उमड़ी भीड़


परिजनों के साथ बच्चे को खोजने का ढोंग रचाता रहा आरोपी..


8 वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म का उसकी हत्या करने के बाद आरोपी खुद परिजनों के साथ मिलकर रात भर बच्चे की तलाश करने का ढोंग रचाता रहा। घंटों चली खोजबीन के बाद आरोपी सुनील अपने कमरे में आ गया और सो जाने का बहाना करते हुए कमरे में चला गया। ताकि उस पर कोई भी शक ना करे।


कोरोना के आगे फिस्सडी हुई प्लाजमा थेरेपी क्या बन्द की जाएगी ये थेरेपी...??


पकड़े जाने के डर से आरोपी सुनील ने की आत्महत्या।


पेशे से मिस्त्री का काम करने वाला आरोपी सुनील नशे का आदी था उसके नशे की इसी आदत के चलते उसके परिजनों ने उसे अपने घर से निकाल दिया था 2 साल पहले ही वह न्यू इंदिरा नगर में रहने वाले दिव्यांग मुकेश प्रजापति के घर किराए से रहने आया था नशे और हवास में अंधा होने के कारण उसने बच्चे को अगवा किया और फिर उसके साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी। लेकिन बाद में खुद के पकड़े जाने के डर से आरोपी सुनील इतना घबरा गया था कि उसने पेड़ में फंदा डालकर आत्महत्या कर ली।

ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में शामिल एक वॉलंटियर की मौत, फिर भी नहीं रुकेगा परीक्षण, जानें क्यों


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार