लिवइन में रह रहे जोड़े की पुलिस ने करवाई शादी.. परिजन नहीं हो रहे थे रजामंद - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

लिवइन में रह रहे जोड़े की पुलिस ने करवाई शादी.. परिजन नहीं हो रहे थे रजामंद

लिवइन में रह रहे जोड़े की

पुलिस ने करवाई शादी..

परिजन नहीं हो रहे थे रजामंद




5 वर्षों से एक ही छत के नीचे पति-पत्नी की तरह जीवन गुजार रहे एक प्रेमी जोड़े की मुसीबत उस वक्त बढ़ गई जब दोनों ने शादी का मन बनाया। मियां बीवी तो राजी थे लेकिन परिजन उनकी शादी के खिलाफ थे लिहाजा दोनों के बीच प्रेम की डोर में गठान लगने लगी इस बात से युवती खासी परेशान थी और उसने अंततः पुलिस की शरण में जाकर पूरे मामले को बारीकी से समझाया। जिस पर पुलिस ने लड़के और लड़की दोनों से बातचीत कर उनका विवाह एक मंदिर में संपन्न कराया आइए जानते हैं इस कहानी की पूरी हकीकत


*दो दोस्तों ने मोबाइल से सेल्फी ली* *और फिर नदी में लगा दी छलांग* *जानिए क्या है मामला... विकास की कलम पर....*


कौन है यह प्रेमी जोड़ा ??

कहां की है घटना ??




यह प्रेम कहानी आज से 5 साल पुरानी है जहां जबलपुर निवासी ऋषभ साहू की मुलाकात रीवा की रहने वाली ज्योति पटेल से हुई। धीरे-धीरे दोनों में नजदीकियां बढ़ी और दोस्ती कब प्यार में बदल गई पता ही नहीं चला इसके बाद दोनों ने एक दूसरे के साथ जीने मरने की कसम खाई और ज्योति ऋषभ के साथ भाग कर जबलपुर आ गई। ऋषभ ने बकायदा जबलपुर में एक किराए का मकान लिया जिसमें ऋषभ ज्योति लिव इन रिलेशन में रहते थे।


*कमलनाथ के वचन पत्र से गायब हुए* *राहुल और प्रियंका को फिर से मिली जगह...* *दोबारा जारी किया गया वचन पत्र* *लेकिन इस बार दिग्विजय गायब*


लड़के के परिवार को नामंजूर था रिश्ता

वही घर छोड़ कर भागने की वजह से लड़की के माता-पिता ने नकारा




ऋषभ के माता पिता इस रिश्ते को लेकर काफी नाराज थे और यही कारण था, कि वह हमेशा इस शादी से इनकार करते रहे इस दौरान 5 वर्ष के लंबे अंतराल के बीच ऋषभ ने कई बार किराए का मकान बदला। वही घर से भागी ज्योति लगातार ऋषभ पर शादी कर लेने का दबाव बना रही थी। लेकिन घर की मजबूरियों की वजह से ऋषभ शादी के लिए तैयार नहीं हो रहा था।

 इधर ज्योति के घर से भाग जाने की वजह से उसके परिवार वालों ने भी नाता तोड़ लिया था और रीवा न आने की हिदायत दे दी थी।


जरूर पढ़ें :-*ये है लेडी..नटवरलाल..* *मिनटों में दिलवाती है लाखों का लोन..* *कहीं आप भी तो नहीं हुए... इसके शिकार..*


असमंजस में फंसी युवती ने पुलिस से मांगा न्याय


 रिषभ शादी के लिए तैयार नहीं हो रहा था उधर ज्योति के परिजन अब उसे स्वीकार नहीं कर रहे थे। ऐसे में ज्योति के सामने समस्या यही थी कि अब वह जाए तो जाए कहाँ...   

परेशान ज्योति पटेल ने माढोताल थाने में जाकर ऋषभ साहू के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई... यह शिकायत जब थाना प्रभारी रीना पांडे के पास पहुंची तब उन्होंने ज्योति पटेल और  ऋषभ साहू को बुलाकर  पूरी समस्या सुनी...

 इसके बाद थाना प्रभारी रीना पांडे ने ऋषभ साहू के परिवार वालों को बुलाकर उन्हें विवाह के लिए तैयार करने की कोशिश की लेकिन वे तैयार नहीं हुए..  इधर थाना प्रभारी की काउंसलिंग से ऋषभ साहू ज्योति पटेल से विवाह करने के लिए तैयार हो चुका था..


*कांग्रेस नेता अमीन कुरैशी का तालिबानी फरमान* *कहा-इस परिवार का सामाजिक बहिष्कार करो* *क्या है पूरा मामला...पढें ख़बर*


थाना प्रभारी ने कराई शादी धूमधाम से निकली बारात




ऐसे में  माढोताल थाना प्रभारी रीना पांडे ने क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मंदिर में ही पूरे विधि विधान से दोनों की शादी की तैयारी शुरू कर दी और उसके बाद नवरात्रि के पहले दिन दोनों का पूरे संस्कार के साथ विवाह रचाया... 

थाने से ऋषभ साहू की बारात निकली...   सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए महज पांच लोगों के साथ यह बारात कुछ कदमों की दूरी पर स्थित मंदिर तक पहुंची,,  जहां ज्योति पटेल वधू के रूप में अपने दूल्हे का इंतजार कर रही थी और उसके बाद वहां मौजूद पुलिस थाना स्टाफ और पंडितों ने बेहद खुशी भरे माहौल में विवाह की पूरी रस्म अदा की.


 इस विवाह से वर वधु और पुलिस दोनों ही खुश थे..  देखने वालों के लिए भले ही आश्चर्य की बात थी,,  क्योंकि अक्सर ही जबलपुर के पुलिस थानों से गुंडों की पिटाई की बारात निकलती है लेकिन आज दूल्हे की विधिवत बारात निकलते देख कर लोगों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा.... 

थाना प्रभारी रीना पांडे का मानना है कि पुलिस इस तरह के सामाजिक कार्य लगातार करती है लेकिन अक्सर पुलिस की गलत छवि प्रस्तुत की जाती है लेकिन इस विवाह के आयोजन से उम्मीद करना चाहिए कि लोगों की धारणा पुलिस के संबंध में बदलेगी।


*बीमार मां को देखने अस्पताल जा रही नाबालिका का* *रास्ते से अपहरण कर..किया गया गैंगरेप* *मां दिनभर अस्पताल में करती रही इन्तेजार*


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार


पेज