Breaking

शनिवार, 3 अक्तूबर 2020

गांधी जयंती के दिन जल सत्याग्रह आंदोलन... जानिए आखिर क्या है ..?? रजक महासंघ की मांग...

गांधी जयंती के दिन जल सत्याग्रह आंदोलन...

जानिए आखिर क्या है ..??

रजक महासंघ की मांग...

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता।


गांधी जयंती के दिन आपने अक्सर लोगों को महात्मा गांधी के चित्र या मूर्ति पर माल्यार्पण करते तो देखा ही होगा । लेकिन जबलपुर शहर के ग्वारीघाट तट पर रजक महासंघ द्वारा एक अनोखे ढंग से गांधी जयंती मनाकर, अपनी बात रखी गयी।जहाँ महासंघ के पदाधिकारियों ने नर्मदा नदी में खड़े होकर पूरे दिन प्रदर्शन किया।और अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी की।

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता।

रजक समाज की मांग है कि उन्हें मध्य प्रदेश में अनुसूचित जाति में शामिल किया जाए।  अभी मध्य प्रदेश सरकार में प्रदेश के तीन  जिलों भोपाल,  सीहोर और रायसेन में रजक समाज को अनुसूचित जाति में शामिल किया है। बाकी शेष जिलों में उन्हें अन्य पिछड़ा वर्ग यानी ओबीसी का दर्जा दिया है। जो कि पूरी तरह से गलत है। रजक महासंघ के पदाधिकारियों ने नर्मदा में खड़े होकर हाथों में बैनर लेकर राज्य शासन से मांग की है कि रजक समाज के साथ किए जा रहे, भेदभाव को खत्म किया जाए और पूरे प्रदेश में उन्हें अनुसूचित जाति का घोषित करके गजट नोटिफिकेशन जारी किया जाए। जिससे उनके समाज को लाभ मिल सके। गौर तलब हो कि इस संबंध में कई बार राज्य शासन से लिखित रूप में भी मांग की गई। लेकिन राज्य शासन ने उनकी मांगों की तरफ ध्यान नहीं दिया है लेकिन अब रजक महासंघ सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहा है और जब तक मांगे पूरी नहीं होगी तब तक इस तरह के आंदोलन और प्रदर्शन पूरे प्रदेश में एक साथ किए जाएंगे।  पूरे दिन जल सत्याग्रह करने के बाद रजक महासंघ के पदाधिकारियों ने एसडीएम को अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा और जल सत्याग्रह समाप्त किया।


वीडियो ख़बर देखने के लिए यहां क्लिक करें...


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार