Breaking

रविवार, 6 सितंबर 2020

ऐसा क्या हुआ...जो..?? सिपाही ने मारी..ए.एस.आई को गोली.. जानने के लिए पढ़ें..पूरी ख़बर..

ऐसा क्या हुआ...जो..??
सिपाही ने मारी..ए.एस.आई को गोली..
जानने के लिए पढ़ें..पूरी ख़बर..
सिपाही ने मारी गोली,खास ख़बर

कोरोन काल के दौरान हर कोई एक गहरे मानसिक दबाब में है। ऐसे में वह चाहता है कि उसे काम के तनाव से कुछ दिनों की राहत मिल सके। पर क्या हो जब पुलिस जैसे महत्त्वपूर्ण विभाग में आप काम करते हो। जहां 24 घंटे बंदोबस्त ड्यूटी और आपातकाल के चलते आप अपने घर भी न जा सको। ऐसे में अक्सर असीमित मानसिक तनाव के चलते कुछ ऐसी अप्रिय घटनाएं घट जाती है जो अपने पीछे कई अनसुलझे सवाल छोड़ जाती है।

ये भी पढ़ें...पीएम स्वनिधि योजना से रेहड़ी वालों का लौटा सम्मान, स्ट्रीट वेंडर्स बताएंगे आत्मनिर्भरता की दास्तान..

क्या है घटना..कहाँ का है मामला..??

ये पूरी घटना उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले की है। जहां बीते दिनों  उझानी कोतवाली में दिन दहाड़े गोली चलने से हड़कंप मच गया। थाना परिसर के अंदर हुए इस हादसे से अभी तक पूरा स्टाफ सख्ते में है। प्राप्त जानकारी के अनुसार थाने में पदस्थ एक नाराज सिपाही ने एके-47 से पहले एसएसआई पर फायर कर दिया। इसके बाद खुद को भी गोली मार ली। कोतवाली में अचानक हुए इस घटनाक्रम में स्टाफ को जहां जगह मिली वह वहीं जान बचाने को छिप गए। गोली लगने के बाद एसएसआई और सिपाही को तुरंत जिला अस्पताल लाया गया, जहां प्रारंभिक उपचार के बाद से दोनों को बरेली के मिशन अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। सूचना पर जिलाधिकारी सहित पुलिस अफसर जिला अस्पताल पहुंचे।

पत्नी की गर्दन काटकर निर्मम हत्या.. मानव बलि की जताई जा रही आशंका...आखिर क्या है पूरी कहानी..जरूर पढ़ें

वारदात के पीछे का.. क्या है कारण..???

बताया जाता है कि उझानी कोतवाली में पदस्थ सिपाही ललित घर जाने को 10 दिन का अवकाश मांग रहा था। जिसके लिए वो पिछले कई दिनों से अधिकारियों से निवेदन भी कर रहा था। लेकिन 10 दिन की जगह तीन दिन की छुट्टी मिलने से वह काफी नाराज था।
बीते शुक्रवार सुबह वह कोतवाली पहुंचा। जहां प्रभारी कोतवाल एसएसआई रामौतार से अवकाश को लेकर कहासुनी हो गई। इसी बीच सिपाही ने कंधे पर टंगी एके-47 को उताकर एएसआई पर फायर कर दिया। उसके बाद सिपाही ने खुद को भी गोली मार ली।

चीन की चालाकी का जबाब देगी.. AK-203 रायफल..जानिए क्या है रायफल की खूबी...

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार