Breaking

शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

मानव बलि की आशंका पत्नि की गर्दन काटकर शव को जमीन में दफनाया

मानव बलि की आशंका

पत्नि की गर्दन काटकर

शव को जमीन में दफनाया

Manaव bali, tantr mantr, andhvishvaas,मानव बलि पूजा

भारत एक अति प्राचीन सभ्यता वाला देश है। जहां पग पग पर विभिन्न धार्मिक रीति रिवाज और परंपराओं का उल्लेख मिलता है। इन्ही सब मे एक धार्मिक अनुष्ठान तंत्र भी है। और इस अनुष्ठान में एक कर्म के आधार पर भाग लेने वाले किसी पशु या व्यकित की हत्या किए जाने को बलि, मानव बलि या पशु बलि का नाम दिया जाता है। पुराने इतिहास में नज़र डालें तो  विभिन्न संस्कृतियों में मानव बलि की प्रथा रही है। इस प्रथा के अनुसार प्रयोग किये जाने वाले मानव या पशु को ऐसे मारा जाता है कि अनुष्ठान में देवता प्रसन्न हो। हालांकि सभ्यता के विकसित होने के साथ साथ इन प्रथाओं में भी रोक लगी। और इन्हें अपराध की श्रेणी में लाया गया। लेकिन आज भी इससे जुड़ी कई घटनाओं के किस्से सुनने को मिल जाते है।

कहाँ का है मामला...

मानव बलि दिए जाने की आशंका वाली ये पूरी वारदात मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले के बैढ़न थाना क्षेत्र की है। जहां बसौड़ा ग्राम के निवासी बृजेश जाटव को अपनी ही पत्नी की निर्मम हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तारी के बाद पति बृजेश जाटव ने जो बयान दिया । उसे सुनने के बाद विवेचना में जुड़े पुलिस अधिकारियों की भी रूह कांप गयी।

पहले गर्दन काटी..फिर धड़ को दफनाया

गिरफ्तार व्यकित से प्राप्त जानकारी के आधार पर पुलिस विभाग ने बताया कि, बैढ़न थाना क्षेत्र के बसौड़ा गांव में बृजेश जाटव ने बीती रात अपनी पत्नी बिटटी बाई की पिटाई की और गर्दन काटकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने शव को मिटटी में दबा दिया। वहीं सिर को अपने पूजा वाले कमरे में ले जाकर रख  दिया।
पड़ोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपी बृजेश को हिरासत में ले लिया है। पूछताछ जारी है।
बैढ़न के थाना प्रभारी अरुण पांडे ने  बताया कि प्रारंभिक तौर पर यह मामला अंधविश्वास  और मानव बलि से जुड़ा हुआ लग रहा है। जिसकी पुस्टि भी आरोपी बृजेश के प्रारंभिक बयानों से हुई है।
फिर भी जांच के बाद ही वास्तविकता का पता चल सकेगा, क्योंकि आरोपी पत्नी के चरित्र से जुड़ी भी बात कह रहा है।

बेटे के शोर मचाने से हुआ खुलासा

घटना का आंखों देखा हाल बताते हुए आरोपी के पुत्र सुरेश ने बताया कि ,रात को वह सो रहा था। तभी मां की जोर जोर से आती हुई आवाज सुनकर वह दूसरे कमरे में आया। जहां उसने देखा कि पिता मां की पिटाई कर रहा है। उसने पिता को रोकने की कोशिश की, जिस पर उसे भी जान से मारने की धमकी दी गई। इससे घबराकर वह घर से बाहर निकला और चिल्लाने लगा, पड़ोसी आए और उन्होंने पुलिस को सूचना दी।

कई दिनों से कर रहा था गुप्त अनुष्ठान

सूत्रों की माने तो ,आरोपी बृजेश पिछले कुछ दिनों से विशेष पूजा अर्चना कर रहा था। खास बात यह है कि वह इन सभी पूजा-पाठ को बेहद गुप्त तरीके से कर रहा था। जिनमे आधी रात को हवन करना आदि कर्म शामिल थे। बीते दिनों आरोपी ने पशु बलि देकर देवताओं को प्रसन्न किया था।
आशंका इस बात की जताई जा रही है कि बृजेश ने कुलदेवता को प्रसन्न करने के लिए कथित तौर पर अपनी पत्नी की बलि दी है।

नोट-विकास की कलम न तो किसी अंधविश्वास या बलि आदि प्रथा की पुष्टि करती है और न ही इन रिवाजों पर विश्वास करती है। 

विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार