Breaking

. विकास की कलम देश में सबसे तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है... जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रामाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने समर्पित पाठक वर्ग तक पहुंचाती है... इसकी प्रतिबद्ध ऑनलाइन संपादकीय टीम हर रोज विशेष और विस्तृत कंटेंट देती है... हमारी यह साइट 24 घंटे अपडेट होती है, जिससे हर बड़ी घटना तत्काल पाठकों तक पहुंच सके... आप भी अपने क्षेत्र से जुडी घटनाये समस्याएँ एवं समाचार हमारे Whatsapp 8770171655 पर भेज सकते है...

शुक्रवार, 11 सितंबर 2020

दरबार मे अब नहीं लगेगा दरबार.. जिला प्रशासन ने गिराया अवैध रेस्टोरेंट लेकिन कुछ सवाल अभी बाकी है..???

दरबार मे अब नहीं लगेगा दरबार..
जिला प्रशासन ने गिराया अवैध रेस्टोरेंट
लेकिन कुछ सवाल अभी बाकी है..???
Jabalpur avaidh hotal todi,जबलपुर अवैध होटल तोड़ी

शहर के बीचोंबीच मुख्य सड़क पर बने एक सर्वसुविधायुक्त होटल दरबार मे सुबह से देर रात तक शहरवासियों का दरबार लगा करता था। जहां लोग कभी दोस्तों तो कभी परिवार के साथ यहां बैठकर घंटो समय बिताकर लज़ीज़ व्यंजनों का लुत्फ उठाया करते थे।
लेकिन अब यह दरबार न लग सकेगा। क्योंकि जिला प्रशासन और निगम अधिकारियों से आंखमिचौली का खेल आखिरकार खत्म हुआ। और फिर पीले पंजे की अगुवाई कर रही जिला प्रशासन और निगम अधिकारियों की फौज ने पुलिसिया पहरे के बीच शहर के इस नामी गिरामी लेकिन नियम विरुद्ध बने होटल (रेस्टोरेंट)को धराशाही कर दिया।

पत्नी की गर्दन काटकर देवताओं को चढ़ाई भेंठ.. मानव बलि की दास्तान सुनाती सच्ची कहानी...जरूर पढ़ें...

अवैध अतिक्रमण के नाम पर कार्यवाही
Avaidh hotal todi,  जबलपुर अवैध होटल तोड़ी

शासन प्रशासन द्वारा शहर में भू माफिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का नज़ारा एकबार फिर से देखा गया। जिला प्रशासन आवर निगम अधिकारियों द्वारा  रेस्टोरेंट , होटल और दुकानदारों को नोटिस दिया है। जिसमे अतिक्रमण करने पार्किंग न होने, और नियम विरुद्ध निर्माण की बातें शामिल है। नोटिस में संचालकों को साफ हिदायत दी गयी है कि यदि उनके द्वारा किसी भी अतिक्रमण का होना पाया जाता है तो उनपर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

18 साल बाद आया ये संयोग..आपको कर सकता है मालामाल.. पढें पूरी ख़बर

नहीं थी... दरबार रेस्टोरेंट को निर्माण की अनुमति.. 
Jabalpur news, avaidh hotal todi, अवैध होटल तोड़ी

एसडीएम पाटन आशीष पांडे ने बताया कि दरबार रेस्टारेंट के लिये नगर निगम से भवन निर्माण की अनुमति नहीं ली गई थी । नगर निगम द्वारा इस मामले में रेस्टारेंट संचालकों को नोटिस भी दिये गये थे । लेकिन इस विषय मे रेस्टोरेंट संचालक द्वारा किसी भी तरह का जबाब प्रस्तुत नहीं किया गया था।
लिहाजा जबलपुर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देशानुसार माफिया के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत आज सुबह नौदरा ब्रिज के समीप स्थित  दरबार रेस्टारेंट को  जिला प्रशासन द्वारा नगर निगम और पुलिस के सहयोग से ध्वस्त करने की कार्यवाही प्रारम्भ की गई।

क्या मोदी इडली हरेगी... भक्तों की भूंख... जानिए क्या है राज...??? मोदी इडली का.....

3 करोड़ की होटल ज़मीदोज़...

नौदरा ब्रिज एवं करमचंद चौक के बीच  यश जैन एवं हर्ष जैन के द्वारा अवैध रूप से निर्मित एवं संचालित किये जा रहे दरबार वेज रेस्टोरेंट को तोड़ा गया है। एैसा अनुमान है कि अवैध रूप से निर्मित दरबार वेज रेस्टोरेंट को लगभग 3 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया था एवं उक्त अवैध निर्माण में नया मोहल्ला निवासी अब्दुल रज्जाक का पैसा लगा है। ज्ञात हो कि अब्दुल रज्जाक पुराना अपराधी है, जिसके विरूद्ध  पूर्व में एन.एस.ए. की कार्यवाही की जा चुकी है।

मौके पर ये अधिकारी रहे मौजूद..
विकास की कलम,vikas ki kalam, jabalpur news

जबलपुर शहर के सिविक सेंटर क्षेत्र में नियम विरुद्ध बने इस आलीशान रेस्टोरेंट होटल दरबार पर हुई कार्यवाही के दौरान विवाद होने की आशंका को ध्यान मे रखते हुये  एस.डी.एम. श्री संदीप जी.आर (भा.प्र.से.), अति0 पुलिस अधीक्षक शहर श्री अमित कुमार (भा.पु.से.), अति0 पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री शिवेश सिंह बघेल, नगर निगम अपर आयुक्त श्री रोहित कौशल, नगर पुलिस अधीक्षक ओमती श्री आर.डी. भारद्वाज, नगर पुलिस अधीक्षक गढा श्री रोहित काशवानी (भा.पु.से.), नगर पुलिस अधीक्षक गोहलपुर श्री अखिलेष गौर, नगर पुलिस अधीक्षक राॅझी श्री कौशल सिंह, एस.डी.एम. श्री आशीष पाण्डे, श्री नमः शिवाय अरजरिया सहित थाना प्रभारी कोतवाली , ओमती, राॅझी, गोरखपुर, बेलबाग, सिविल लाइन, मदन महल, खमरिया, आधारताल, चरगवाॅ, पाटन, थाने के बल के साथ एवं रक्षित निरीक्षक सौरभ तिवारी अतिरिक्त बल के साथ तथा नगर निगम के संभागीय अधिकारी श्री राकेश तिवारी, अतिक्रमण दस्ता प्रभारी श्री सागर बोरकर, मौजूद थे।

चीनीयों अब बचकर रहना...हमारे पास है -- AK 203...जानिए इस अनूठी रायफल की खूबियां

विकास की कलम का बड़ा सवाल..
निर्माण के समय क्यों बन्द हो जाती है आंखे...
Vikas ki kalam, विकास की कलम, अवैध अतिक्रमण जबलपुर

निर्माण एक दिन में तो हुआ नहीं। और न ही रातों रात बिल्डिंग खड़ी हो गयी। सबसे अहम बात यह है कि जो निगम प्रशासन नोटिस का दिखावा कर रहा है। उसके मुख्यालय से महज चंद कदमों की दूरी पर ही यह निर्माण हुआ। इसके निर्माण के दौरान लाखों बार जिम्मेदार अधिकारी यहां से गुजरे होंगे। लेकिन निर्माण के दौरान ऐसा क्या हुआ कि अधिकारियों के मुँह में दही जमा रहा।
सूत्र बताते है कि कई बार इस रेस्टोरेंट में बैठकर निगम के कई अधिकारियों ने भी इस रेस्टोरेंट में जमकर दावत उड़ाई है। लेकिन उस समय भी उन्हें इसके अवैध होने की भनक नहीं लगी। तो फिर रातों रात ऐसा क्या हुआ जो जिम्मदारों को ब्रम्ह ज्ञान हो गया। और पूरा अमला एकजुट होकर इसे तोड़ने पहुंच गया।

विकास की कलम अपने पाठकों को यह साफ बता देना चाहती है कि वह ऐसी किसी भी कार्यवाही के खिलाफ नहीं है। लेकिन वह पर्दे के पीछे छुपे उन जिम्मदारों के सख्त खिलाफ है।जो जानबूझकर ऐसे अतिक्रमणों को संरक्षण देते है। और अपने पद का दुरुपयोग कर मौके का इंतजार करते है। लेकिन जबकभी खुद की कलम फंसने लगे तो कार्यवाही का खेल खेलते है। शहर से इन अतिक्रमणों को खत्म करना वाकई काबिलेतारीफ कार्यवाही है। बशर्ते कार्यवाही के बाद अधिकारी इस बात की भी गारंटी दें कि अगर कहीं अतिक्रमण हो रहा हो तो उसे समय रहते ही निपटा दिया जाए। न कि इन्तेजार किया जाय।


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें