Breaking

बुधवार, 23 सितंबर 2020

शहर में सबकुछ गड़बड़ है बाकी सब ठीक ठाक है...

शहर में सबकुछ गड़बड़ है

बाकी सब ठीक ठाक है...

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता। General News,Social News,Auto News,Tech News,Legal News,CrimeNews,National News,International News,Lifestyle News,Art News,Entertainment News,Sports News,Legal News,Business News International,Local,Social,Entertainment, Business,Crime, Astrology,Politics,Health Science,Environtment, Sport,Lifestyle,Technology

शहर के जिम्मेदार अधिकारियों में इन दिनों गजब की आशावादी विचाधारा देखने को मिल रही है। एक ओर स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। वहीं अमला अपने ही मूं-मिया-मिठ्ठू बनकर सब कुछ ठीकठाक होने का राग अलाप रहा है।

ठेठ देसी अंदाज में वर्तमान परिस्थितियों का बखान करें तो यह कहना गलत न होगा कि...

शहर में सबकुछ गड़बड़ है..

बाकी सब ठीकठाक है। 

हालांकि ठीकठाक होने को कुछ है ही नहीं..पर बोलना तो पड़ेगा ही।ये मजबूरी है...और करें भी क्या..सच बोलकर वरिष्ठों से दुश्मनी लेगा कौन..??


आगे पढ़ें :- माफियाओं को संरक्षण दे रही पुलिस- बरगी विधायक ने क्यों लागये गंभीर आरोप..??


कोरोना तेजी से फैल रहा..

बाकी सब ठीक ठाक है..

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता। General News,Social News,Auto News,Tech News,Legal News,CrimeNews,National News,International News,Lifestyle News,Art News,Entertainment News,Sports News,Legal News,Business News International,Local,Social,Entertainment, Business,Crime, Astrology,Politics,Health Science,Environtment, Sport,Lifestyle,Technology

बीते एक माह से कोरोना संक्रमण शहर में हावी हो चला है। तमाम एहतियात के बावजूत आंकड़ा रोजाना एक या दो शतक मार ही देता है। कोरोना की रोकथाम के लिए रोजाना घंटों बैठक होती है। पूरे जोशों खरोश के साथ नई रणनीति तैयार की जाती है।महीनों चलने वाली इस परेड के बीच जब कोरोना संक्रमितों के आंकड़े आते है। तो प्रशासन की सारी दौड़भाग धरी की धरी रह जाती है। पहले नाम बताते थे..फिर सिर्फ मोहल्ला की जानकारी और अब तो सिर्फ गिनतियाँ ही सुनने को मिलती है।जनता को तो यह भी नहीं पता कि कौन कोरोना संक्रमित हुआ..?? और किससे सावधान रहना है।

इन सबके बीच जिम्मदारों का बयान आता है। स्थिति हमारे कंट्रोल में है...बाकी सब ठीक ठाक है।


 जरूर पढ़ें :- इंसानियत फिर हुई शर्मिंदा.. कचरे में मिली नवजात बच्ची..आखिर किसकी है ये करतूत..???


अस्पताल नोंच-खा रहे..

बाकी सब ठीक ठाक है...

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता। General News,Social News,Auto News,Tech News,Legal News,CrimeNews,National News,International News,Lifestyle News,Art News,Entertainment News,Sports News,Legal News,Business News International,Local,Social,Entertainment, Business,Crime, Astrology,Politics,Health Science,Environtment, Sport,Lifestyle,Technology

बीमारी है तो अस्पताल जाना ही पड़ेगा। और ऐसे सुनहरे अवसर पर निजी अस्पताल वाले भी कहाँ पीछे हटने वाले थे। कहा तो ये तक जा रहा है कि.. अस्पताल के एक बेड की कीमत हनीमून स्वीट से भी महंगी कर दी गयी है।

सरकारी अस्पताल के हाल तो पूछिये ही मत...आलम तो यह है कि एक नहीं कई बार यहां की अव्यवस्थाओ से तंग आकर मरीज अस्पताल की छत तक से कूदने का प्रयास कर चुके है। और इन घटनाओं के बीच मध्यम वर्गीय परिवार निजी अस्पतालों की राह पकड़ने में ही बेहतरी समझता है। इधर कोरोना की आड़ में लाखों के वारे-न्यारे कर रहे निजी अस्पतालों में प्रशासन का कोई बस नहीं चल रहा।  फिर भी जिम्मदारों का बयान आना कि सरकारी अस्पतालों में बेहतर सुविधा मुहैया कराई जा रही है। निजी अस्पतालों को भी हिदायत दी गयी है।लेकिन इन सबके बीच अखबारों में छपी निजी अस्पतालों और सरकारी अस्पतालों की भर्रा शाही की खबरें पड़ने के बाद जनता खुद को बहलाते हुए कहती है...अब स्थिति काबू में है..बाकी सब ठीक ठाक है..


जानिए आखिर कैसे ..??सरकारी स्कूल बना शराब का कारखाना.. सराब माफियाओं के बुलंद हौसले बयां करती एक रिपोर्ट..


सब्जी किराना बन्द , लेकिन दारू दुकान चालू है... 

बाकी सब ठीक ठाक है..

Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता। General News,Social News,Auto News,Tech News,Legal News,CrimeNews,National News,International News,Lifestyle News,Art News,Entertainment News,Sports News,Legal News,Business News International,Local,Social,Entertainment, Business,Crime, Astrology,Politics,Health Science,Environtment, Sport,Lifestyle,Technology

कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराने के लिए आला अधिकारियों की टीम पूरे जोश के साथ दवा , किराना, ज्वेलर्स, मोबाईल शॉप और न जाने कहाँ कहाँ दविश दे रही है। 5 से ज्यादा व्यकित पास पास दिखे तो जुर्माना.. ज्यादा बहस की तो सीधे ताला। लेकिन देर रात तक खुली रहने वाली शराब दुकान में... 

न तो मास्क न ही सोशल डिस्टेन्स..

 फिर भी मजाल है कि कोई जिम्मेदार अधिकारी वहां भटक भी जाये। ऐसा लगता है कि कोरोना भगवान ने खुद प्रकट होकर इन दारू दुकानों को अभय वरदान दे दिया हो। वहीं शाम को अधिकारियों के चलानी आंकड़े और राजस्व की जानकारी पाकर आम जनता सोचती है।  किराना बेचने से अच्छा दारू ही बेच लेते कम से कम चालान से तो मुक्ति मिलती। शहर की जनता आज बड़े गर्व से कहती है कि रात 8 के बाद सारा बाजार बंद लेकिन दारू दुकान चालू है। बाकी सब ठीक ठाक है....


आये दिन हो रहा नाबालिक बच्चों का अपहरण..पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल..??


धर्म संस्कृति पर पाबंदी लेकिन राजनीति चमकाने छूट है..

बाकी सब ठीक ठाक है...


Vikas ki kalam,jabalpur news,top news,breaking news,taza khabar,mp news,jabalpur hulchal, crime news,mp politics,jabalpur kisaan,  jabalpur education news, implement news,khulasa news,shivraj singh chouhan, narendra modi,amit shaah,MP BJP,MP Congress, kamalnath,digvijaya singh, विकास की कलम,जबलपुर न्यूज़,ताजा खबर,ब्रेकिंग न्यूज़ जबलपुर.जबलपुर क्राईम, जबलपुर पर्दाफाश,जबलपुर जॉब न्यूज़, ताज़ा ख़बर, शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश, राजनीति, बेरोजगारी, आम जनता। General News,Social News,Auto News,Tech News,Legal News,CrimeNews,National News,International News,Lifestyle News,Art News,Entertainment News,Sports News,Legal News,Business News International,Local,Social,Entertainment, Business,Crime, Astrology,Politics,Health Science,Environtment, Sport,Lifestyle,Technology


वर्षों से चली आ रही परंपरा और धार्मिक आयोजनों में कोरोना का सेंसर चल रहा है। किसी भी आयोजन में तय सीमा से ज्यादा लोगों की मौजूदगी अपराध की श्रेणी में आ गया। न ईद.. न दशहरा.. न कोई उत्सव .....जो करना है घर पर करो। लेकिन न जाने क्यों..किसी भी राजनीतिक कार्यक्रम में सारे नियम कानून धरे के धरे रह जाते है। क्या कोरोना की सख्ती सिर्फ आम जनता के लिए है??

क्या राजनेता अपने फायदे के लिए कितनी भी भीड़ जुटा सकते है??? 

क्या कोरोना की गाइडलाइन इन राजनेताओं पर लागू नहीं होती..??

लेकिन ये सब पूछेगा कौन..??


यहां तो कोरोना की बात करने तक पर कार्यवाही हो जाती है। आम जनता को जगाने का काम किया तो ऐसी उलझन में फसोगे की उबरने में बरसों लग जाएंगे।मौत के आंकड़ों पर तो बोलना भी मत..

वरना ऐसा न हो कि पुलिस उन आंकड़ों के चलते कहीं आपका ही आंकड़ा न बिगाड़ दे। फ़ीवर क्लिनिक को खुद बुखार आया है। मरीज के परिजन अगर आवाज उठाएं तो उनकी पिटाई तक कर दी जाती है। और तो और अगर डॉक्टरों पे उंगली उठी तो हड़ताली बैनर पहले से तैयार है।

अपनी दुकान में चालानी कार्यवाही करवाने के बाद शाम को 8 बजे जब आम नागरिक अपने घर की ओर जाता है। तो रास्ते मे पड़ने वाली वाइन शॉप में लगी भंडारे की भीड़ देख कर । उसे कुछ घंटों पहले पढ़ाये गए मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के पाठ का ख्याल आता है। लेकिन मजबूर आम आदमी करे तो क्या करे..

ऐसे में यदि आपसे कोई कोरोना का हालचाल पूछ ले... तो आप भी शायद यही कहेंगे कि

मेरे शहर में सबकुछ गड़बड़ है..

बाकी सब ठीकठाक है..


अब जो है बस यही है....


जरूर पढ़ें :- नेता जी पार्टी क्यों बदली...??? जनता के सवाल सुन सभा छोड़कर भागे शिवराज के मंत्री...


नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..


ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम

चीफ एडिटर

विकास सोनी

लेखक विचारक पत्रकार





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार