Breaking

गुरुवार, 3 सितंबर 2020

सीएम ने सराही- हेल्प डेस्क अब परिजनों को आसानी से मिलेगी कोरोना पेशेंट के स्वास्थ्य की जानकारी

सीएम ने सराही- हेल्प डेस्क
अब परिजनों को आसानी से मिलेगी
कोरोना पेशेंट के स्वास्थ्य की जानकारी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने जबलपुर जिले की समीक्षा के दौरान यहाँ कोरोना वार्ड में भर्ती मरीजों की जानकारी परिजनों को देने के उद्देश्य से संभागायुक्त श्री चौधरी और कलेक्टर कर्मवीर शर्मा की पहल पर शुरू किये गये विशेष हेल्प डेस्क व्यवस्था के लिये कलेक्टर श्री शर्मा की सराहना की।
मुख्यमंत्री ने जबलपुर कलेक्टर श्री शर्मा की प्रशंसा करते हुये जबलपुर में स्थापित विशेष हेल्प डेस्क की तर्ज पर अन्य जिलों को अपने यहाँ भी यह नवाचार करने के निर्देश दिये।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेडीकल कॉलेज के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी परिजन ले सकें इसके लिये यहां शुरू की गई विशेष हेल्प डेस्क की सराहना की है। हेल्प डेस्क के माध्यम से कोरोना मरीजों के परिजनों को उनके स्वास्थ्य  की स्थिति की निरंतर जानकारी दी जा रही है। हेल्प डेस्क का दूरभाष नम्बर 0761-2679007 एवं 0761-2679008 और हेल्प डेस्क का मोबाईल नम्बर 8103707025 है, इस पर संपर्क कर कोरोना मरीज के परिजन उनका हाल-चाल ले रहे हैं। इस अभिनव नवाचार को मुख्यमंथत्री ने काफी सराहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक जिले में कमाण्ड कंट्रोल रूम बनाया जाये, जहाँ से होम आइसोलेशन तथा होम क्वारेंटाइन हुये व्यक्तियों की निरंतर देखभाल एवं निगरानी की जा सके। यहाँ एम्बुलेंस भी आवश्यक रूप से रखी जाये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश धीरे-धीरे पूर्ण लॉकडाउन खोलने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। ऐसे में यह आवश्यक है कि हमारी मशीनरी इसकी चुनौतियों के लिए पहले से ही पूर्ण रूप से तैयार हो जाए। हमें अपनी अर्थव्यवस्था को गतिशील करना है तथा जन-जीवन को पूर्ण रूप से सामान्य एवं खुशहाल बनाना है। यदि कोरोना संक्रमण रोकने की सभी सावधानियां मास्क लगाना, दो गज की दूरी रखना आदि का पालन किया जाए, तो हम संक्रमण को भी रोक सकते हैं और जन-जीवन को भी पूर्ण रूप से सामान्य बना सकते हैं।
निजी चिकित्सालयों में भी प्रोटोकॉल का पालन हो
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि शासकीय चिकित्सालयों के साथ ही निजी चिकित्सालयों में भी कोरोना के इलाज के निर्धारित प्रोटोकॉल का शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित किया जाए, जिससे व्यक्ति अपनी इच्छा एवं सुविधानुसार शासकीय अथवा निजी अस्पतालों में इलाज करा सके। इसी के साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए कि निजी चिकित्सालय मरीजों से मनमाना शुल्क न वसूल सकें। कोरोना का इलाज कर रहे निजी चिकित्सालयों के पास सभी आवश्यक संसाधन एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो, यह भी देखा जाए।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र में निजी चिकित्सालयों के साथ समन्वय कर कोरोना के इलाज के संबंध में उनके पास उपलब्ध संसाधनों एवं चिकित्सा सुविधाओं की जानकारी प्राप्त करें। कोरोना के इलाज के संबंध में निजी चिकित्सालयों को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जाए। निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकीय अमले एवं संसाधनों का पूरा उपयोग किया जाए।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार