Breaking

सोमवार, 24 अगस्त 2020

वाह..टी.आई हो तो ऐसा... आखिर कौन है ये.. रियल लाइफ का असली सिंघम

वाह..टी.आई हो तो ऐसा...
आखिर कौन है ये..
रियल लाइफ का असली सिंघम

मध्यप्रदेश में बीते कई दिनों से तेज बारिश  का कहर देखने को मिल रहा है, नतीजतन प्रदेश के कई इलाकों में बाढ़ का प्रकोप जारी है।मूसलाधार बरसात के चलते कई नदियां और नाले उफान पर हैं।  वैसे तो आमजन की मदद के लिए पुलिस जवान और एनडीआरएफ की टीम जुटे हुए हैं। लेकिन एमपी के राजगढ़  के तलेन में रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जिसे देख कर हर कोई कह रहा है...
वाह..टीआई हो तो ऐसा....

रियल लाइफ का असली सिंघम...

बारिश और बाढ़ में फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए पुलिस टीम सामने आकर मदद कर रही है। तलेन थाना प्रभारी विभेंद्रू व्यंकट टांडिया और पुलिस स्टॉफ की इन ऐसे लोगों की मदद करने के लिए खूब तारीफ हो रही है,
थाना प्रभारी का कहना है कि घटनास्थल पर करीब 15 फीट पानी चारों तरफ बह रहा है. इनका घर वहीं मौजूद था. ये लोग फंसे हुए थे. पानी बढ़ता जा रहा था इसलिए हमने पानी में उतरने का फैसला किया और इन सबको बाहर निकाला गया।

इनकी बचाई जान...

उगल नदी तेज बारिश के कारण उफान पर आ गई, पानी से कुछ घर चारों तरफ से घिर गए, जिसके कारण निंद्रा गांव के समीप एक बुजुर्ग व दो बच्चे में घर में फंस गए।तलेन पुलिस ने जान जोखिम में डाल कर काशीपुरा निवासी दस साल के मयंक, 12 साल के रुपेश और 62 साल के पीरु लाल प्रजापति की जान बचाई है।

गले तक पानी मे उतारकर बचाई जान..

पुलिस जब पानी में उतरी तो टीम के सदस्यों के गले तक पानी भर आया था। इस दौरान बच्चों को कंधे पर बैठाकर पुलिस का एक जवान उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले आया। थाना प्रभारी और उनकी टीम ने बिना अपनी जान की परवाह किए पानी में उतर गए और वहां से फंसे लोगों की मदद की।

इस रेस्क्यू में ये रहे शामिल..

राजगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रदीप शर्मा ने जिला पुलिस के इस कार्य की सराहना की और उन्हें सलाम किया। पुलिस की टीम में उप निरीक्षक आरके काकोडिया, सहायक उप निरीक्षक आर सी नारोलिया, आरक्षक दीपक यादव, आरक्षक शिव कुमार, सैनिक मोहन सिंह, देवेन्द्र एवं शैलेंद्र सिंह शामिल थे।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार