Breaking

सोमवार, 3 अगस्त 2020

त्यौहार में मौत का मातम.. ये कैसा लॉक-डाउन..?? कैसे पहुंच गया ग्रुप पिकनिक मनाने..?? पुलिस को नहीं दिखे 30-40 लोग..??

त्यौहार में मौत का मातम..
ये कैसा लॉक-डाउन..??
कैसे पहुंच गया ग्रुप पिकनिक मनाने..??
पुलिस को नहीं दिखे 30-40 लोग..??

कोरोना संक्रमण काल में जिला प्रशासन अपनी मुस्तेदी का दम भर रहा है । जगह जगह पुलिस चेकिंग कर,चलानी कार्यवाही की जा रही है। अब तक चालान के नाम पर लाखों का राजस्व वसूला जा चुका है। ये सब सुनकर तो लगता है। मानो बिना अनुमति के परिंदा भी पर नहीं मार सकता...
लेकिन अब हम आपको जो घटना बताने जा रहे है। वो आपके इस भरम को तोड़ कर रख देगी। लॉक-डाउन के दौरान गली चौराहों में चेकिंग का दम भरने वाली पुलिस की नाक के नीचे ईद के त्योहार के बाद 30 से 40 लोग मोटरसाइकिलों से झुंड बनाकर पिकनिक के लिए गए। जहां हादसे में 2 युवकों की मौत हो गयी।
और घटना अपने पीछे कई सवाल छोड़ गई..

ख़बर ये भी जरूरी है--जानें कैसे जेब की सेहत बिगड़ रहा कोरोना

क्या था मामला..कैसे हुई घटना..??

घटना मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में घठित हुई है।आपको बतादें की ईद के पावन पर्व पर जबलपुर में लॉक डाउन लगाया गया था। जहां सख्त निर्देश थे कि कोई भी समूह में न निकले। जिला प्रशासन ने शहर की हर गली में चाक चौबंद मुस्तेदी का दावा किया था। लेकिन सब खोखले साबित हुए...


आपको बतादें की ईद के पर्व के बाद रविवार को अधारताल के कटरा में रहने वाले करीब 30 से 40 युवक एक साथ पिकनिक मनाने के लिए बरगी स्थित टेमर नदी पहुंचे थे। इस दौरान इन युवकों की रास्ते में कहीं भी चेकिंग नहीं हुई। पिकनिक मनाने गए इस ग्रुप में 22 वर्षीय शहनवाज और 17 वर्षीय वशीर जोकि की कांग्रेस कार्यकर्ता के साथ कोरोना फाइटर थे। वो दोनो युवक देर शाम टेमर नदी में नहाते वक्त अचानक ही डूब गए।

जानिए क्यों कि मंत्री जी ने महिला शौचालय की सफाई..?? सिर्फ विकास की कलम पर


दोनों ही युवकों के डूबने के बाद दोस्तों में हड़कंप मच गया, आनन-फानन में कुछ दोस्तों ने डूबे हुए युवकों की तलाश भी की पर नतीजा कुछ नहीं निकला इधर बरगी थाना पुलिस को सूचना दी गई कि दो युवक टैमर नदी में डूब गए हैं जिसके बाद पुलिस और गोताखोर मौके पर पहुंचे।करीब 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद भी डूबे हुए दोनों युवकों की जानकारी पुलिस को नहीं मिल पाई है, अंधेरा होने के चलते अब रेस्क्यू सुबह तक टल गया। ख़बर लिखे जाने तक पुलिस टीम को शव की बरामदगी नहीं हो पाई है।

घटना अपने पीछे छोड़ गई अहम सवाल..

लॉक डाउन के बाद भी एक साथ 30 से  40 लोगों का पिकनिक में जाना और उसी पिकनिक में नहाते वक्त दो युवकों का डूब जाना कहीं ना कहीं पुलिस की उस वाहन चेकिंग पर सवाल उठा रहा है जो कि अधारताल से लेकर बरगी तक जाने वाले लोगो की चेकिंग में जुटी थी क्या किसी भी पुलिस वालों ने इन 40 युवकों की भीड़ दिखाई नहीं दी...

पढ़ना न भूलें--शिवराज को नहीं मिली कोरोना से राहत..लंबे समय के लिए अस्पताल में करना होगा इन्तेजार

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार