Breaking

सोमवार, 3 अगस्त 2020

लोगों की जेब पर हावी हो रहा.. कोरोना फेक्टर.. गरीब ने खुद लगाया मौत को गले..

लोगों की जेब पर हावी हो रहा..
कोरोना फेक्टर..
गरीब ने खुद लगाया मौत को गले..

कोरोना संक्रमण ने आम जनों के स्वास्थ्य के साथ साथ उनकी जेब की भी तबियत खराब कर दी है। लॉक-डाउन और अनलॉक की कश्मकश के बीच पिसता आम आदमी स्वास्थ्य और संपत्ति दोनों से  हाथ धो बैठा है। रोज कमाने खाने वाले परिवारों की स्तिथि अब बाद से बदतर हो चली है। ये बात और है कि सरकारी सहायता पहुंचाने का दावा सरकार कर रही है। लेकिन योजनाओं के कागज से उतरकर आमजन तक पहुंचने से पहले ही
गरीब की आशा दम तोड़ देती है। और फिर इसी जद्दोजहद में वह आत्मघाती कदम उठा लेता है।

क्या है घटना..कहाँ का है मामला

घटना मध्यप्रदेश के संस्कार धानी कहे जाने वाले जिला जबलपुर की है। जहां कोरोना की मार से तंग आकर एक गरीब सब्जी वाले ने अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली। पूरे परिवार का भरण पोषण करने वाला एकमात्र मुखिया... कोरोना काल के दौरान आर्थिक तंगी के सबसे निचले हालातों से जूझ रहा था। लेकिन जब हालात बद से बदतर होने लगे तो आखिरकार उसने जिंदगी का दामन छोड़ मौत को ही गले लगाना ज्यादा बेहतर समझा

कौन है ये सब्जी विक्रेता..??
कैसे की आत्महत्या..??

 रविवार को लॉक डाउन के दौरान शोभापुर रेलवे फाटक के पास एक अधेड़ की ट्रेन से कटकर मौत हो जाने की सूचना पुलिस को प्राप्त हुई। घटना की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव के पास बरामद दस्तावेजों की जांच की गई। प्रारंभिक जांच में प्राप्त दस्तावेजों के अंदर पर मृतक की  शिनाख्त घमापुर सिद्ध बाबा वार्ड निवासी चंद्रशेखर के रूप में हुई।पुलिस ने तुरन्त उसके परिजनों को घटना की खबर दीगयी कि शोभापुर रेल्वे  ट्रैक से आ रही ट्रेन की चपेट में आने से चंद्रशेखर की मौत हो गई है।

परिजनों पर टूटा दुख का पहाड़

परिवार के मुखिया की मौत की कहबर पाते ही।
परिजनों पर मानो दुखों का पहाड़ ही टूट पड़ा है।पूरे पॉवर का रो रो कर बुरा हाल है।आपको बता दें कि  सब्जी बेचकर गुजर बसर करने वाले मृतक चन्द्रशेखर के 8 बच्चे थे और लॉक डाउन के बाद से ही उसकी आर्थिक हालत बहुत खराब हो चली थी।जिसके चलते वह मानसिक तनाव में रहने लगा और उसने खुदकुशी कर ली।बहरहाल मर्ग कायम कर पुलिस मामले की जाँच में जुट गई है।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार