Breaking

शनिवार, 1 अगस्त 2020

ऐसा क्या हुआ..?? जो मंत्री महोदय ने खुद की... शौचालय की सफाई...

ऐसा क्या हुआ..??
जो मंत्री महोदय ने खुद की...
शौचालय की सफाई...

मामला मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर का है।जहां सरकारी दफ्तरों के शौचालय की बदतर स्थिति को देखकर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर भड़क उठे और खुद ही टॉयलेट की सफाई में जुट गए। इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों की भी जमकर क्लास लगाई।

क्या है पूरा मामला... 
ऊर्जा मंत्री,प्रधुम्न तोमर,शौचालय सफाई

प्राप्त जानकारी के अनुसार ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर विकास कार्यों की समीक्षा के लिए संभागायुक्त से चर्चा करने मोती महल पहुंचे थे।
लेकिन चर्चा खत्म कर वापस लौटते समय कार्यालय की कुछ महिला कर्मचारियों ने मंत्री तोमर से मुलाकात कर अपनी शिकायत मंत्री जी के सामने रखी।
उन्होंने अपनी परेशानी बताते हुए कहा कि उनके कार्यालय में बनाए गए टॉयलेट की साफ-सफाई नियमित रूप से नहीं हो रही है। तथा शौचालय में इतनी गंदगी है कि वहां जाना तक दूभर हो गया है।

महिला कर्मचारी की शिकायत पर हुई त्वरित कार्यवाही..
खुद ही शौचालय सफाई में जुट गए मंत्री जी...
Top kahabar

महिला कर्मचारियों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए। आनन फानन में मंत्री तोमर ने मोतीमहल परिसर में बने महिला शौचालयों की साफ सफाई व्यवस्था का जायजा लिया। उनके निरीक्षण के दौरान  शौचालय बेहद गंदे पाए गए। जिसको देखते ही उन्होंने आवश्यक सामग्री मंगावकर कर स्वयं ही शौचालयों की साफ सफाई करना प्रारंभ कर दिया।

नियमित रूप से स्वच्छता बनाये रखने का दिया निर्देश...

मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कर्मचारियों से कहा कि शासकीय कार्यालय परिसर में शौचालयों की साफ-सफाई की जिम्मेदारी को गंभीरता से समझें तथा सभी शासकीय कार्यालयों के शौचालय साफ व स्वच्छ रहना चाहिए। इसके लिए अधिकारी को भी चाहिए कि वे सतत मॉनिटरिंग करें और शासकीय कार्यालयों के शौचालयों की नियमित साफ सफाई को सुनिश्चित करें।

संबंधित अधिकारियों पर कार्यवाही के निर्देश..

शासकीय कार्यलयों के शौचालय की दुर्दशा देख कर मंत्री प्रद्युम्न तोमर काफी नाराज हुए। उन्होंने  संयुक्त आयुक्त राजस्व आरपी भारती को निर्देशित करते हुए कहा कि... शासकीय कार्यालयों में महिलाओं के लिए उपलब्ध जन सुविधा के संसाधनों का विशेष ध्यान रखें तथा इस परिसर में शौचालयों की साफ सफाई के लिए जो भी जिम्मेदार है, उसके खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही करें।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..



ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार