भ्रष्ट और कामचोर अधिकारियों की अब खैर नहीं... मोदी सरकार तैयार करवा रही.... सबका कला चिठ्ठा... - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

भ्रष्ट और कामचोर अधिकारियों की अब खैर नहीं... मोदी सरकार तैयार करवा रही.... सबका कला चिठ्ठा...


भ्रष्ट और कामचोर अधिकारियों की
अब खैर नहीं...
मोदी सरकार तैयार करवा रही....
सबका कला चिठ्ठा...

अपने स्ट्रिक्ट एक्शन के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध भारत देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी ने अब भ्रष्ट कामचोर अधिकारियों को सबक सिखाने का मन बना लिया है।
 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने अब भ्रष्टाचार के खिलाफ एक अनोखी जंग लड़ने का फैसला किया है। जिसमे कामचोर, भ्रष्ठ और अयोग्य अधिकारी जो लंबे समय से शिफारिशी लाल बनकर भृष्टाचार को शह दे रहे थे। उनके खिलाफ़ कार्रवाई करने के लिए संबंधित संस्थानों को निर्देश दे दिए हैं। इस एक्शन का रिएक्शन काफी व्यापक पैमाने पर हुआ है।अंदेशा जताया जा रहा है कि मोदी सरकार भ्रष्ट और अयोग्य कर्मचारियों को रिटायर करने पर भी जोर दे सकती है। केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद से सरकारी महकमे में हड़कंप मचा है।

भ्रष्ट कामचोरों की तैयार हो रही लिस्ट
Taza khabar,modi news

बताया जा रहा  है कि मोदी सरकार ने अयोग्य और भ्रष्ट सरकारी कर्मचारियों
के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने का मन बना लिया है।केंद्र ने ऐसे सभी कर्मचारियों का खाका तैयार करने का निर्देश जारी कर दिया है। इस दौरान अगर कोई भ्रष्ट या अपनी नौकरी पर अयोग्य पाया जाता है तो उसे तुरंत रिटायर होने के लिए कहा जाएगा, इसको लेकर केंद्र की मोदी सरकार ने एक रजिस्टर भी तैयार करने के लिए कहा है।

आखिर किन कर्मचारियों की होगी जांच

गौरतलब हो कि केंद्र सरकार ने सरकारी महकमों में भ्रष्टाचार को कम करने की मंशा से कई बड़े कदम उठाए हैं। इसी सिलसिले में सरकार ने एक और दिशा-निर्देश जारी किया है जिसके तहत अपनी जॉब में 30 साल पूरे कर चुके कर्मचारियों का पुराना रिकॉर्ड चेक किया जाएगा। इसके अलावा जिन कर्मचारियों की उम्र 55-55 है तो उनका भी सेवा रिकॉर्ड चेक किया जाएगा।

अगर अक्षम पयाये गए तो.. 
किए जा सकते है रिटायर
Modi news,indiya breaking news

केंद्र सरकार ने अपने दिशा-निर्देश में कहा गया है कि ऐसे सरकारी कर्मचारियों की सर्विस रिकॉर्ड में अक्षमता और भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच हो। गाइडलाइन के मुताबिक सर्विस रिकॉर्ड की जांच के बाद यह तय किया जाएगा कि वह वर्तमान में सही से काम कर रहे हैं या उन्हें समय से पहले ही सेवानिवृत किया जाए। सरकार के कांर्मिक मंत्रालय ने सभी सचिवों से कहा है कि वहा एक रजिस्टर तैयार करें जिसमें कर्मचारियों से जुड़ी सारी जानकारी दर्ज की जाएगी।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार