समर्थकों की भीड़ से टूटी... मंच की रेलिंग... बाल बाल बचे सिंधिया... पर कोरोना प्रोटोकॉल का क्या..?? - Vikas ki kalam,जबलपुर न्यूज़,Taza Khabaryen,Breaking,news,hindi news,daily news,Latest Jabalpur News

Breaking

समर्थकों की भीड़ से टूटी... मंच की रेलिंग... बाल बाल बचे सिंधिया... पर कोरोना प्रोटोकॉल का क्या..??

समर्थकों की भीड़ से टूटी...
मंच की रेलिंग...
बाल बाल बचे सिंधिया...
पर कोरोना प्रोटोकॉल का क्या..??

कोरोना संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश में सभी प्रकार के सार्वजनिक कार्यक्रम चाहे वे धार्मिक हों या फिर राजनीतिक.... पूर्णतः प्रतिबंधित है। यहां तक की भगवान श्री गणेश एवं दुर्गा माता की मूर्तियां तक स्थापित करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। परंतु ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए सभी नियम शिथिल कर दिए गए। ताज़ा मामला उज्जैन का है जहां  ज्योतिरादित्य सिंधिया का अघोषित जुलूस काफी चर्चा में है। चर्चा की खास बात ये है कि बड़ी संख्या में उमड़े कार्यकर्ताओं के हुजूम से मंच की रेलिंग ही टूट गयी। इस पूरे कार्यक्रम आवर घटना के दौरान पुलिस मौजूद तो थी। परंतु सुरक्षा के लिए, कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करवाने की हिम्मत दिखाने वाला कोई नजर नहीं आया।

अतिउत्साही समर्थकों की भीड़ से गिरी रेलिंग, बाल-बाल बचे सिंधिया....

उज्जैन में महाकाल की शाही सवारी में शामिल होने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया एक हादसे में घायल होने से बच गए। रामघाट के ऊपर राणा जी की छतरी पर जाते समय यह घटना हुई। सुरक्षाकर्मियों और समर्थकों के बीच धक्का-मुक्की होने से सीढ़ियों की एक तरफ की सीमेंट की रैलिंग गिर गई। अच्छी बात यह रही कि इसमें कोई घायल नहीं हुआ। रैलिंग गिरने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया कुछ देर ठहरे और फिर चले गए।

क्या थी पूरी घटना 
Top news,taza khabar, jyotiraditya sindhiya

बाबा महाकाल की शाही सवारी का पूजन करने पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया राणा जी की छतरी से रामघाट की ओर जाने लगे। सीढियों से उतरते समय एक सुरक्षाकर्मी ने धक्का-मुक्की होने पर रैलिंग पर हाथ रख दिया। पहले से ही हिल रही रैलिंग यह भार सह नही पाई और भरभराकर गिर गई। रैलिंग उनके ऊपर गिरते-गिरते बची। सिंधिया घटना के दौरान कुछ देर के लिए वहीं रुक गए, हालांकि इसके बाद वे वहां से निकल गए।

कौन कौन थे मौजूद..??

 इस कार्यक्रम के दौरान प्रदेश शासन में मंत्री मोहन यादव, कमल पटेल और तुलसी राम सिलावट के साथ सांसद अनिल फिरोजिया भी मौजूद थे। बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती भी वहां पहुंचीं।

महाकाल मंदिर से सिंधिया परिवार का पुराना संबंध 

ज्योतिरादित्य सिंधिया शाही सवारी में हर साल शामिल होते हैं, क्योंकि महाकाल मंदिर और सिंधिया परिवार का पुराना संबंध है। मान्यताओं के अनुसार सिंधिया परिवार के वंशज करीब 250 सालों से भी ज्यादा समय से महाकाल की शाही सवारी में शामिल होने की परंपरा निभाते आए हैं।

शाही सवारी में शा​मिल हुए थे

ज्योतिरादित्य सिंधिया आज इंदौर और उज्जैन के दौरे पर थे। ज्योतिरादित्य सिंधिया उज्जैन  पहुंचे थे। उज्जैन पहुंचते ही बीजेपी कार्यकर्ताओं ने सिंधिया का जोरदार स्वागत किया था।वे उज्जैन मेें ज्योतिरादित्य सिंधिया शाही सवारी में
शा​मिल हुए थे।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार







पेज