कुंडली में बैठे अहितकर ग्रहों का कैसे करें सुधार..??? जानिए विकास की कलम पर.. - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

कुंडली में बैठे अहितकर ग्रहों का कैसे करें सुधार..??? जानिए विकास की कलम पर..

कुंडली में बैठे अहितकर ग्रहों
का कैसे करें सुधार..???
जानिए विकास की कलम पर..

ग्रहों की चाल बदलते ही बदल जाती है लोगों की किस्मत...
राजा.. रंक हो जाता है । और रंक.... राजा..।वो कहते है ना कि आप कितना ही कड़ा परिश्रम कर लें...अंततः कुंडली मे बैठे ग्रहों की चाल ही सफलता या विफलता निश्चित करती है। ऐसे में बहुत जरूरी हो जाता है कि आपको अपनी (जन्मपत्रिका)कुंडली मे बैठे।हितकारी एवं अहितकर दौनो ग्रहों की जानकारी हो। साथ ही अशुभ फल देने वाले ग्रहों की शांति का उपाय भी करना चाहिए।
यहां लाल किताब अनुसार ग्रहों के कुछ सामान्य उपचार बताए जा रहे हैं। आपका जो ग्रह बुरा फल दे रहा है सिर्फ उसी का उपाय करना चाहिए। हालांकि यह कुंडली के किसी जानकार से पूछकर ही करें।

- सूर्य के लिए पिता का सम्मान करें और गुड़, ताम्बा व गेंहू का दान करे। सूर्य को जल चढ़ाएं। सोना धारण करें।


- चन्द्र के लिए माता का सम्मान करें। चावल, दूध और चांदी का दान करे। प्रदोष का व्रत करे। चांदी धारण करें।

- मंगल के लिए भाई का सम्मान करें और सफेद या काला सुरमा आंखों में लगाए। मूंगा या पीतल धारण करें।

- बुध के लिए बहन, बुआ, मौसी, विधवा महिला और कन्याओं का सम्मान करें। नाक छिदवाएं। पन्ना धारण करें।

- गुरु के लिए दादा, धर्म और गुरु का सामान्य करें। माथे पर पिला तिलक लगाएं। पीपल की जड़ में जल चढ़ाएं, चने की दाल का दान करे। पुखराज धारण करें।

- शुक्र के लिए पत्नी का सम्मान करें। अपने भोजन में से गाय को कुछ भाग दें। घी, कर्पुर, दही का दान करें। सुघंधित पदार्थो का प्रयोग करें। हीरा धारण करें।

- शनि के लिए काका, मामा आदि का सम्मान करें। कीकर की दातुन करें। कौवे को रोटी खिलाएं। छाया दान करें। जोड़ लगा हुआ लोहे का छल्ला या नीलम धारण करें।

- राहू के लिए संयुक्त परिवार में रहें। ससुराल से सम्बन्ध न बिगाड़े। जौ को दूध से धोकर बहते पानी में बहाएं। मूली का दान करे या कोयला बहते पानी में बहाएं। गोमेद धारण करें या जेब में चांदी की ठोस गोली रखें।

- केतु के लिए कान छिदवाएं और कुत्ते को रोटी खिलाते रहें। काले और सफेद तिल बहते पानी में बहाएं। तिल, नींबू और केले का दान करें।
   
अधिक जानकारी के लिए आप हमारे विशेषज्ञ आचार्य विनोद जी से भी संपर्क कर सकते है।
एवं व्हाट्सएप के जरिये मार्गदर्शन भी प्राप्त कर सकते है--7000-405-815



नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।

विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार