किसकी है ये सेटिंग.. सोसायटी में नही मिल रही यूरिया... और मनमाने दामों में बेच रहे दुकानदार - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

किसकी है ये सेटिंग.. सोसायटी में नही मिल रही यूरिया... और मनमाने दामों में बेच रहे दुकानदार


किसकी है ये सेटिंग..
सोसायटी में नही मिल रही यूरिया
और मनमाने दामों में बेच रहे दुकानदार

यूरिया के लिए सोसाइटी के चक्कर काटते किसान
खाद बीज विक्रेता मंहगे दामो में बेच रहे यूरिया, साथ मे किसानों से कीटनाशक लेने का बना रहे दवाब

 प्रदेश में सरकार जरूर बदल गई हो लेकिन किसानों के हालत जस की तस बनी हुई है, मुख्यमंत्री शिवराज खुद को किसान का बेटा बताते है।लेकिन उनके राज में भी किसानों के हालात सुधारने का नाम नही ले रहे। किसानों को समय मे यूरिया उपलब्ध कराने में सरकारी समिति निष्क्रिय साबित हो रही हैं। किसानों को एक एक बोरी यूरिया के लिए सहकारी समितियों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। इन सब मे एक पुरानी कहावत चरितार्थ हो रही है कि डाल का चुका वानर और समय का चुका किसान दोनों एक से साबित हो रहे हैं। यदि समय पर किसानों को यूरिया नही मिली तो उनके हालात सुधरने की बजाय उलझ जाएगी।

कहाँ का है मामला...
Vikas ki kalam

मामला सिवनी जिले के छपारा का है।आपको बतादें की इन दिनों छपारा क्षेत्र में यूरिया की समस्या से किसान जूझ रहे हैं किसानों की मानें तो पिछले 1 सप्ताह से किसी भी सोसाइटी में यूरिया उपलब्ध नहीं है रोजाना किसान अपने घरों से सोसायटी ओं में यूरिया के लिए आते हैं और बिना यूरिया की वापस लौट जाते हैं।

किसानों ने बताई आपबीती..


किसान केसरी चन्द्रवंशी की माने तो पिछले आठ दिनों से यूरिया के लिए आते हैं आज भी यूरिया के लिए आए यूं नहीं मिलने में वापस लौट गए जबकि वहीं खाद बीज विक्रेता दुकानदार निर्धारित मूल्यों से ₹200 अधिक प्रति वर्ग में यूरिया बेच रहे हैं उन्होंने यह भी बताया कि यूरिया के साथ अतिरिक्त कीटनाशक का डिब्बा खरीदने के लिए दुकानदार दबाव बना रहे हैं जिसका अतिरिक्त मूल्य चुकाने के बाद यूरिया दुकानदार दे रहे हैं जबकि एकमात्र छपारा में वैनगंगा विवरण सोसाइटी है जिसमें किसानों को नगद में यूरिया मिलने की सुविधा लेकिन उसमें भी अभी यूरिया उपलब्ध नहीं है

क्या कहते है..अधिकारी..

विकास की कलम ने बी आर अट्ठाया
(कृषि विस्तार वरिष्ठ अधिकारी)से बात की अधिकारि का कहना है छिंदवाड़ा में रैक लगा है यूरिया भेजी जा रही है। लेकिन यूरिया कब तक भेजी जाएगी कोई अधिकारी किसानों को सही जवाब नहीं दे रहा है फसल में यूरिया डालने का मौसम है। लेकिन किसानों को हर रोज सोसाइटी जाकर निराशा ही हाथ लग रही है।
गौरतलब है कि छपारा क्षेत्र की एक भी सोसाइटी में किसानों के लिए यूरिया उपलब्ध नहीं है जिस वजह से किसान यूरिया को लेकर परेशान हैं।

वैनगंगा सोसाइटी के अध्यक्ष कृष्णकांत सिंह का कहना है कि उन्होंने यूरिया उपलब्ध कराने को लेकर डीएमओ को पत्र भी लिखा है साथ में यूरिया उपलब्ध कराए जाने को लेकर चेक और राशि भी जमा कर रखी है लेकिन यूरिया सोसाइटी तक अब तक नहीं भेजी गई है।

अब देखने वाली बात होगी कि किसानों के पास कब तक यूरिया पहुँच पाती है, शासन - प्रशासन कब तक किसानों के सब्र का इम्तिहान लेती हैं?

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार