छोटी सी उम्र ....और आत्महत्या का फैसला तिलवारा पुल से कूदी 3 नाबालिक - VIKAS KI KALAM,Breaking news jabalpur,news updates,hindi news,daily news,विकास,कलम,ख़बर,समाचार,blog

Breaking

छोटी सी उम्र ....और आत्महत्या का फैसला तिलवारा पुल से कूदी 3 नाबालिक

छोटी सी उम्र ....और 
आत्महत्या का फैसला
तिलवारा पुल से कूदी 3 नाबालिक

आजकल सबकुछ इंस्टेंट से होता जा रहा है। और हो भी क्यों न....क्योंकि टेक्नोलॉजी ने इतना एडवांस बना दिया है कि एहसासों की मूल प्रवत्ति सो सी गयी है। आज गूगल है जो कि दादा-दादी और नाना-नानी की जगह ले चुका है। हर सवाल के लाखों जबाब...लेकिन क्या सही क्या गलत...इसका मार्गदर्शन देगा कौन....
जब सब कुछ आसानी से मिल जाता है तो हार--जीत का मज़ा कैसा...
यही कारण है..गेम ओवर की तर्ज पर कच्ची उम्र के युवा आजकल जल्द ही हताश होकर..आत्महत्या तक करने का फ़ैसला कर बैठते है

तिलवारा पुल से तीन बच्चियों ने लगाई छलांग

मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले का है जहां  तिलवारा थाना क्षेत्र के तिलवारा पुल पर यह घटना घटित हुई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गढ़ा थाना क्षेत्र में रहने वाली तीन बच्चियों ने खुदकुशी करने का प्रयास किया है।यह बच्चियां क्षेत्र के ही मुजावर मोहल्ले में रहने वाली हैं ,और तीनों नाबालिक हैं। बच्चियों ने यह कदम अपने रिजल्ट में पास ना होने के चलते उठाया.. ।

तीनो बच्चियों ने एकराय होकर किया आत्महत्या का फैसला..

घटना दोपहर के बाद की है जब तीनों बच्चियां एक दूसरे से मिली और तीनों ने निर्णय किया कि वह अब देर हो चुकी है तो उनको आत्महत्या करना ही बेहतर रहेगा। जिसके चलते तीनों तिलवारा पुल पर पहुंची और एक के बाद एक तीनों ने तिलवारा पुल से छलांग लगा दी।

तिलवारा के नाविकों ने बचाई जान..

दोपहर के वक्त अचानक ही एक के बाद एक तीन बच्चियों के पल से छलांग लगाने के दौरान घाट पर कुछ नाविक भी मौजूद थे। नाविकों ने तत्काल ही नदी में छलांग लगा दी। वहीं नाविकों के सहयोगी भी बीच नदी में नाव लेकर पहुंच गए। और इससे पहले की देर हो जाती। नाविकों ने बड़ी कुशलता के साथ तीनों बच्चियों को सही सलामत घाट के किनारे पहुंचा दिया।

सूचना पर पहुंची तिलवारा पुलिस

बच्चियों को बचाने  के दौरान ही किसी प्रत्यक्षदर्शी ने तिलवारा थाने में फोन लगाकर पुलिस को घटना की सूचना दे दी थी। बच्चियों के कूदने की जानकारी मिलते ही तिलवारा थाना पुलिस तत्काल घटना स्थल पर पहुंची । आवर बच्चियों को थाने लेकर आई।

पुलिस ने बच्चियों और परिजनों दौनो को दी समझाइस

बच्चियों को थाने लाने के बाद पुलिस ने बच्चियों के बयान विधिवत दर्ज किए। साथ ही तीनों बच्चियों को उनके परिजनों के हवाले कर दिया। और परिजनों को भी समझाया कि बच्चियों को आश्वासन दें ना कि उन पर गुस्सा करें। नहीं तो बच्चियां  डिप्रेशन में आएंगी और कोई ना कोई आत्मघाती कदम उठाने पर मजबूर हो जाएंगी।

नोट-विकास की कलम अपने पाठकों से अनुरोध करती है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें..

ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें। साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए।


विकास की कलम
चीफ एडिटर
विकास सोनी
लेखक विचारक पत्रकार